Skip to main content

सीआरपीएफ के कमांडो को भी नहीं बख्शा मेरठ पुलिस ने ,तीन मुकदमे लगा कर जेल भेजा। गृह मंत्रालय को शिकायत के बाद मेरठ पुलिस पर गिर सकती है गाज




 















 







मेरठ। शहर पुलिस के वैसे तो काफी चर्चे रहते हैं  कब किसके साथ क्या गुल खिल जाए यह कोई नहीं जानता।  गुड वर्क और बैड वर्क मेरठ पुलिस की दोनों ही पहचान है।पिछले दिनों  दो मुस्लिम युवकों को  तथाकथित मुठभेड़ में मारने का मामला काफी तूल पकड़ा था  जिसमें से  एक के पिता ने  राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग में शिकायत दर्ज कराई थी  और  कोर्ट में मुकदमा लड़ने की बात भी कही थी ।जिस नौजवान को मारा गया था वह  अपने छोटे बच्चों को स्कूल छोड़ कर आ रहा था उसके बाद से गायब था।मेरठ पुलिस की  कार्यप्रणाली का  एक ऐसा मामला  सामने आया है  जिसमें बारामूला में तैनात सीआरपीएफ कमांडो सतेंद्र चौधरी को तीन मुकदमे लगाकर जेल भेजने का मामला सीआरपीएफ मुख्यालय और गृह मंत्रालय तक पहुंच गया है। मेडिकल थाना क्षेत्र के शास्त्रीनगर के-ब्लॉक निवासी सतेंद्र चौधरी सीआरपीएफ में हेड कांस्टेबल हैं। वर्तमान में वह जम्मू कश्मीर के बारामूला में तैनात हैं। फिलहाल 15 दिन की छुट्टी पर घर आए हुए हैं। बुधवार रात बाइक तेज चलाने को लेकर डिलीवरी ब्वॉय विवेक त्रिपाठी से उनका विवाद हुआ। इसके बाद सीआरपीएफ कमांडो को लूट, पुलिस से मारपीट करने और लाइसेंसी पिस्टल का दुरुपयोग करने के तीन मुकदमे दर्ज कर जेल भेज दिया गया।कमांडो की पत्नी मंजू सांगवान ने शुक्रवार को प्रकरण की जानकारी सीआरपीएफ कमांडेंट को दी। कमांडेंट ने गृह मंत्रालय के अधिकारियों को अवगत कराया। कमांडेंट ने पुन: कमांडो की पत्नी को फोन कर बताया कि उन्हें एवं बेटे देवांशु को गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने दिल्ली बुलाया है। संभवत: सोमवार को कमांडो की पत्नी और बेटा दिल्ली जाकर अधिकारियों से मिल सकते हैं। मंत्रालय के अधिकारियों ने इस मामले में उन्हें पूरी मदद का आश्वासन दिया है। ऐसे में मेरठ पुलिस पर कार्रवाई की बुधवार रात फौजी के घर हुए बवाल की वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो गई है। एक वीडियो में दरोगा महिलाओं को चांटा मारते हुए दिख रहा है। महिला की पिटाई के बाद वहां मौजूद लोगों का आक्रोश भड़का और उन्होंने हंगामा कर दिया। इसके बाद दोनों तरफ से हाथापाई भी हुई। हालांकि इस पर पुलिस का कहना है कि बचाव में ऐसा किया गया होगा।राष्ट्रीय लोकदल के वरिष्ठ नेता डॉ. राजकुमार सांगवान शुक्रवार को शास्त्रीनगर में सीआरपीएफ जवान के परिजनों से मिले। उन्होंने पुलिस ज्यादती पर आक्रोश जताया। डॉ. सांगवान ने कहा कि यह मामूली विवाद था, जिसे पुलिस मौके पर ही शांत कर सकती थी। लेकिन डिलीवरी ब्वॉय और दरोगा की दोस्ती में इस मामले को ऐसे तूल दिया गया, जैसे फौजी केवल मोबाइल लूटने बारामूला से मेरठ आया हो। यह मामला देश की सुरक्षा में तैनात फौजी से जुड़ा हुआ है। ऐसे में पुलिस को फौजी पर लगे आरोपों की जांच करानी चाहिए थी। फौजी के परिजनों ने रालोद नेताओं को शरीर की चोटें दिखाई। रालोद नेताओं ने इस मामले में एडीजी से मिलने की बात कही है।उप्र महिला आयोग की सदस्य राखी त्यागी ने भी इस मामले का संज्ञान लिया है। शुक्रवार को फौजी की पत्नी ने आयोग सदस्य को प्रकरण से अवगत कराया। आयोग सदस्य ने कहा कि मेरठ पुलिस को चिट्ठी लिखकर निष्पक्ष जांच के लिए कह रही हैं।एसएसपी अजय साहनी ने शुक्रवार को सिविल लाइन सीओ हरिमोहन सिंह और मेडिकल थाने के सब इंस्पेक्टर जितेंद्र सिंह को बुलाकर प्रकरण में बातचीत की। एसएसपी ने बताया कि सीओ की जांच रिपोर्ट आ गई है। रिपोर्ट के मुताबिक, मेडिकल पुलिस की कार्रवाई एकदम सही है। मेडिकल जांच में फौजी नशे में पाया गया था। फौजी ने पुलिस से मारपीट की और पिस्टल तानी। इसलिए फौजी पर सही कार्रवाई की गई है।जोमेटो डिलीवरी ब्वॉय विवेक त्रिपाठी की ओर से कराए गए लूट-धमकाने के मुकदमे की जांच शास्त्रीनगर के-ब्लॉक चौकी प्रभारी जितेंद्र सिंह को दी गई है। ये वही सब इंस्पेक्टर है, जिसका फौजी से विवाद हुआ था। उधर, सब इंस्पेक्टर जितेंद्र सिंह की ओर से सीआरपीएफ कमांडो पर दर्ज कराए गए सरकारी कार्य में बाधा के मुकदमे की जांच दरोगा मुनेंद्र कुमार को दी गई है। 







 


 



 


 














Popular posts from this blog

भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा-गादरे

मेरठ:-भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा। Raju Gadre राजुद्दीन गादरे सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता ने भारतीयों में पनप रही द्वेषपूर्ण व्यवहार आपसी सौहार्द पर अफसोस जाहिर किया और अपने वक्तव्य में कहा कि देश की जनता को गुमराह कर देश की जीडीपी खत्म कर दी गई रोजगार खत्म कर दिये  महंगाई बढ़ा दी शिक्षा से दूर कर पाखंडवाद अंधविश्वास बढ़ाया जा रहा है। षड्यंत्रकारियो की क्रोनोलोजी को समझें कि हिंदुत्व शब्द का सम्बन्ध हिन्दू धर्म या हिन्दुओं से नहीं है। लेकिन षड्यंत्रकारी बदमाशी करते हैं। जैसे ही आप हिंदुत्व की राजनीति की पोल खोलना शुरू करते हैं यह लोग हल्ला मचाने लगते हैं कि तुम्हें सारी बुराइयां हिन्दुओं में दिखाई देती हैं? तुममें दम है तो मुसलमानों के खिलाफ़ लिख कर दिखाओ ! जबकि यह शोर बिलकुल फर्ज़ी है। जो हिंदुत्व की राजनीति को समझ रहा है, दूसरों को उसके बारे में समझा रहा है, वह हिन्दुओं का विरोध बिलकुल नहीं कर रहा है ना ही वह यह कह रहा है कि हिन्दू खराब होते है और मुसलमान ईसाई सिक्ख बौद्ध अच्छे होते हैं! हिंदुत्व एक राजनैतिक शब्द है ! हिं

समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन

 महेश्वरी देवी की रिपोर्ट  खबर बहेड़ी से  है, आज दिनांक 31 मार्च 2024 को समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन मधुर मिलन बारात घर बहेड़ी में संपन्न हुआ। जिसमें मुख्य अतिथि लोकसभा पीलीभीत प्रत्याशी  भगवत सरन गंगवार   रहे तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश महासचिव स्टार प्रचारक विधायक (पूर्व मंत्री )  अताउर रहमान  ने की , कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए  अता उर रहमान  ने कहा की प्रदेश में महंगाई बेरोजगारी चरम पर है और किसान बेतहाशा परेशान है उनके गन्ने का भुगतान समय पर न होने के कारण आत्महत्या करने को मजबूर हैं। उन्होंने मुस्लिम भाइयों को संबोधित करते हुए कहा की सभी लोग एकजुट होकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार को हटाकर एक सुशासन वाली सरकार (इंडिया गठबंधन की सरकार) बनाने का काम करें और भगवत सरन गंगवार को बहेड़ी विधानसभा से भारी मतों से जिताकर माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी के हाथों को मजबूत करें | रहमान जी ने अपने सभी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारी से कहा कि वह ज्यादा से ज्यादा इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी को वोट डलवाने का काम करें और यहां से भगवत सरन गंगवार को भ

ज़मीनी विवाद में पत्रकार पर 10 लाख रंगदारी का झूठे मुकदमें के विरुद्ध एस एस पी से लगाई जाचं की गुहार

हम करेंगे समाधान" के लिए बरेली से रफी मंसूरी की रिपोर्ट बरेली :- यह कोई नया मामला नहीं है पत्रकारों पर आरोप लगना एक परपंरा सी बन चुकी है कभी राजनैतिक दबाव या पत्रकारों की आपस की खटास के चलते इस तरह के फर्जी मुकदमों मे पत्रकार दागदार और भेंट चढ़ते रहें हैं।  ताजा मामला   बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान पत्रकार का है जो विभिन्न समाचार पत्रों से जुड़े हैं उन पर रंगदारी मांगने का मुक़दमा दर्ज कर दिया गया है। इस तरह के बिना जाचं करें फर्जी मुकदमों से तो साफ ज़ाहिर हो रहा है कि चौथा स्तंभ कहें जाने वाले पत्रकारों का वजूद बेबुनियाद और सिर्फ नाम का रह गया है यही वजह है भूमाफियाओं से अपनी ज़मीन बचाने के लिए एक पत्रकार व दो अन्य प्लाटों के मालिकों को दबाव में लेने के लिए फर्जी रगंदारी के मुकदमे मे फसांकर ज़मीन हड़पने का मामला बरेली के थाना बारादरी से सामने आया हैं बताते चले कि बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान के मुताबिक उनका एक प्लाट थाना बारादरी क्षेत्र के रोहली टोला मे हैं उन्हीं के प्लाट के बराबर इमरान व नयाब खां उर्फ निम्मा का भी प्लाट हैं इसी प्लाट के बिल्कुल सामन