Skip to main content

Posts

Showing posts from December, 2019

प्रियंका गांधी ने एनआरसी,एनपीआर और सीएए के खिलाफ बोला हमला

लखनऊ Congress महासचिव प्रियंका गांधी ने नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी को लेकर सूबे की योगी आदित्‍यनाथ सरकार और यूपी पुलिस पर ज‍मकर हमला बोला। उन्‍होंने कहा कि प्रदेश में उपद्रव के बाद अब पुलिस जुल्म कर रहीहै। कांग्रेस महासचिव ने आरोप लगाया कि यूपी पुलिस और प्रशासन सीएम योगी आदित्‍यनाथ के बदला लेने के बयान के आधार पर कार्रवाई कर रहा है। प्रियंका ने सीएम योगी पर भी निशाना साधा और कहा कि वह भगवा वस्‍त्र धारण करते हैं जो हमें शांति और करुणा सि‍खाता है, बदला लेना नहीं। प्रियंका गांधी ने आरोप लगाया कि सीएए के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले लोगों को धमकाया जा रहा है। 77 साल के पूर्व आईपीएस दारापुरी को उनके घर से पकड़ा गया। उनका नाम 48 लोगों की लिस्‍ट में है। हमने राज्‍यपाल आनंदीबेन पटेल से इसकी शिकायत की। उन्‍होंने कहा, सुबह हमारी तरफ से राज्यपाल को चिट्ठी भेजी गई है। पिछले दिनों फैली अराजकता के बाद उत्तर प्रदेश सरकार, प्रशासन और पुलिस ऐसे कदम उठा रही है, जिनका कोई कानूनी आधार नहीं है। हमने इसी बारे में एक दस्तावेज तैयार कर राज्यपाल को सौंपा है। कांग्रेस महासचिव ने कहा कि वाराणसी में भी शांति

200 बीजेपी विधायक नाराज है योगी से :अखिलेश यादव

लखनऊ:  यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जल्द ही साइकल यात्रा करते दिखेंगे. इस दौरान वह उन विकास कार्यों को देखने जाएंगे, जो उन्होंने मुख्यमंत्री रहते शुरू कराए थे. दिप्रिंट से बातचीत में अखिलेश ने सीएम योगी पर तमाम आरोप लगाते हुए कहा कि लगभग 200 बीजेपी विधायक योगी से नाराज़ हैं. वे विधानसभा में धरने पर भी बैठे, जिसके बाद जनता का ध्यान भटकाने के लिए मुख्यमंत्री के इशारे पर सीएए प्रोटेस्ट के दौरान हिंसा फैला दी गई. अखिलेश के साथ बातचीत के प्रमुख अंश-: 'सीएए अल्पसंख्यकों के खिलाफ है' अखिलेश ने नागरिकता संशोधन बिल को अल्पसंख्यकों के खिलाफ बताते हुए कहा कि बीजेपी संविधान द्वारा दिए गए बराबरी के दर्जे के खिलाफ साजिश कर रही है. बीजेपी समाज को तोड़कर राजनीति करने में यकीन करती है. बांटना इनका काम है, जो भी फैसले इन्होंने लिए हैं वो देश की बड़ी आबादी के खिलाफ लिए हैं. अब जो ये तमाम नई चीजें लेकर आ रहे हैं (सीएए, एनआरसी,एनपीआर) ये गरीबों के खिलाफ है, अल्पसंख्यकों के खिलाफ है, खासतौर पर मुस्लिमों के खिलाफ है. 'लाखों लोग कहां से लाएंगे डा

2019 में खो दिया बहुत सारी फिल्मी हस्तियों को

नई दिल्ली:  भारतीय सिनेमा ने समाप्त हो रहे साल 2019 में अपनी कई चर्चित हस्तियों को खो दिया और उनके प्रशंसकों के दिलों में केवल उनकी यादें ही शेष रह गईं. कादर खान साल 2019 की शुरुआत फिल्म जगत के लिए कादर खान के बिना हुई. 1973 में राजेश खन्ना की 'दाग' फिल्म के साथ करियर की शुरूआत करने वाले कादर खान ने 300 से अधिक फिल्मों में काम किया और 250 से अधिक फिल्मों के लिए संवाद लिखे. 'शराबी', 'लावारिस', 'कुली' से ले कर 'राजा बाबू' और 'हसीना मान जाएगी' जैसी फिल्मों में कॉमेडी से लोगों को हंसाने वाले कादर खान ने 31 दिसंबर 2018 को आखिरी सांस ली.   गिरीश कर्नाड बहुमुखी प्रतिभा के धनी कलाकार गिरीश कर्नाड का 10 जून को 81 साल की उम्र में निधन हो गया. लेखक, अभिनेता और निर्देशक कर्नाड के नाटक 'ययाति', 'तुगलक' और 'नाग मंडल' का उनकी मूल कन्नड़ भाषा से अंग्रेजी और अन्य भारतीय भाषाओं में अनुवाद हुआ. पद्मश्री, पद्मभूषण और ज्ञानपीठ अवार्ड से सम्मानित कर्नाड 'स्वामी' और 'निशांत' के साथ साथ 'एक था टाइगर', 'ट

कैसा रहा भाजपा के लिए 2019 का साल

नई दिल्ली:  साल 2019 को भाजपा की निर्णायक उपलब्धियों के लिए याद किया जाएगा, जब पार्टी ने लोकसभा चुनाव में 303 सीटें जीतकर न केवल केंद्र में दोबारा वापसी की, बल्कि मोदी सरकार ने दूसरे कार्यकाल में भगवा एजेंडे पर नए सिरे से जोड़कर अपने दशकों पुराने वैचारिक घोषणा-पत्र को अमलीजामा पहनाया. हालांकि, राज्यों में भाजपा के लिये राह आसन नहीं रही क्योंकि कांग्रेस के साथ मिलकर क्षेत्रीय क्षपत्र महाराष्ट्र, झारखंड जैसे राज्यों में उसे सत्ता से बेदखल करने में सफल रहे. दूसरी ओर पार्टी को संशोधित नागरिकता कानून और प्रस्तावित एनआरसी पर देशव्यापी विरोध प्रदर्शनों के चलते बचाव की मुद्रा में भी आना पड़ा.   इन मुद्दों पर भारी विरोध प्रदर्शन के कारण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह सहित शीर्ष नेताओं को सफाई देनी पड़ी. हालांकि, अभी यह पूरी तरह स्पष्ट नहीं है कि इन चुनौतियों के बीच पार्टी विचारधारा के बेहद करीब रहे इन मुद्दों को आगे कैसे बढ़ायेगी. हालांकि, पार्टी नेता 2019 को उम्मीद से बढ़कर वर्ष के रूप में देख सकते हैं, जिसमें जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जे से संबंधित अनुच्छेद 370 के अधि

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2019 का रिपोर्ट कार्ड पेश किया

नई दिल्ली: केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने 2019 का रिपोर्ट कार्ड पेश करते हुए बताया कि सरकार की ओर से गठित टास्क फोर्स ने 102 लाख करोड़ रुपये की ढांचागत परियोजनाओं की पहचान की है जिसमें सरकार निवेश करेगी।वित्तमंत्री ने बताया कि पीएम मोदी के 2019 के स्वतंत्रता दिवस भाषण में की गई घोषणा के अनुरूप, बुनियादी ढांचा निवेश अगले पांच वर्षों में 100 लाख करोड़ रुपये करने के लिए एक टास्क फोर्स का गठन कर परियोजनाओं की पहचान करनी थी।सीतारमण ने कहा आज, 4 महीने की छोटी अवधि में 70 हितधारक परामर्श आयोजित करने के बाद, टास्क फोर्स ने 102 लाख करोड़ रुपये की परियोजनाओं की पहचान की है जहां पर निवेश करना है. वित्त मंत्री ने बताया कि पहचान की गई ढांचागत परियोजनाओं की निगरानी के लिये राष्ट्रीय अवसंरचना परियोजनाओं के लिये समन्वय प्रणाली की शुरुआत की जायेगी जिसमें विस्तृत योजना, सूचना प्रसार और एनआईपी ढांचे के कार्यान्वयन की निगरानी के लिए केंद्र, राज्य और निजी क्षेत्र शामिल किया जाएगा. उन्होंने कहा इसके लिए एक वार्षिक वैश्विक निवेशक बैठक का आयोजन 2020 की दूसरी छमाही में किया जाएगा. सीतारमण ने बताया

चीन में गरीब लोगों के जीवन के लिए गारंटी है

चीनी नागरिक मामला मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2019 में चीन के शहरों और कस्बों में न्यूनतम जीवन गारंटी व्यवस्था में शामिल लोग, बहुत गरीब लोग और भिखारियों समेत कठिनाई में पड़ने वाले नागरिकों के जीवन की गारंटी की गई। वर्ष 2020 में नागरिक मामला मंत्रालय सिलसिलेवार कानून और नियम बनाएगा और सुधारेगा, ताकि सामाजिक सहायता व्यवस्था बेहतर बनाई जाए। बताया जाता है कि पूरे चीन के 41,000 सामाजिक संगठनों ने 62,000 गरीबी उन्मूलन परियोजनाएं शुरू कीं, जिसके लिए पूंजी निवेश 60 अरब चीनी युआन से अधिक रहा। गरीब विकलांगों के लिए जीवन सब्सिडी और गंभीर विकलांगों के लिए देखभाल सब्सिडी से 2 करोड़ से अधिक विकलांगों को फायदा मिला है। (साभार---चाइना रेडियो इंटरनेशनल ,पेइचिंग

ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग

सिडनीः ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग समुद्र के किनारे बसे लोकप्रिय पर्यटक शहर मल्लकूटा तक पहुंच गई, जिससे वहां छुट्टियां मनाने आए हजारों लोग और स्थानीय निवासी फंस गए हैं। स्थानीय अधिकारियों के मुताबिक, मल्लकूटा शहर में 4 हजार लोग फंस गए हैं। बता दें कि अधिकारी कई दिनों से ऑस्ट्रेलिया में गर्मियों की छुट्टियां मना रहे 30,000 पर्यटकों से इलाके को खाली करने की चेतावनी दे रहे हैं। यह उन सैकड़ों इलाकों में से एक है जो जंगलों में लगी आग की चपेट में है। विक्टोरिया आपात प्रबंधन आयुक्त एंड्रयू क्रिस्प ने कहा, 'हमारे पास मल्लकूटा में 3 दल है जो वहां समुद्र तट पर 4,000 लोगों की देखभाल करेंगे। हम उन समुदायों को लेकर बहुत चिंतित हैं जो अलग-थलग हो गए हैं। अगर जरूरत पड़ी तो लोगों को समुद्र या वायु मार्ग से बाहर निकाला जाएगा।' सोशल मीडिया पर स्थानीय निवासियों ने कहा कि वे जीवनरक्षक जैकेट पहन रहे हैं ताकि अगर आग से बचने की जरूरत पड़ी तो वह समुद्र में उतर सकें।

पंजाब के मुख्यमंत्री ने अटल भूमि योजना में शामिल करने की की मांग

चंडीगढ़: मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर पंजाब को भी छह हजार करोड़ रुपये की भूजल संसाधनों के संरक्षण की 'अटल भूजल योजना' में शामिल करने की मांग की। मुख्यमंत्री ने पंजाब को योजना से बाहर रखने संबंधी मीडिया रिपोटरें का हवाला देते हुए प्रधानमंत्री से अपील की कि जल शक्ति मंत्रलय को पंजाब को योजना में शामिल करने का निर्देश दें। योजना में सात राज्य - गुजरात, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश शामिल हैं तथा योजना को इन राज्यों के 8350 जलतंगी वाले गांवों में लागू किये जाने का प्रस्ताव है। पंजाब को योजना में शामिल न किये जाने पर आश्चर्य जताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब में भूजल के कम होने की दर सबसे ज्यादा है और राज्य के 22 में से 20 जिले (पठानकोट और मुक्तसर को छोड़कर) इस संकट से जूझ रहे हैं। उन्होंने कहा कि वास्तव में इस साल की शुरुआत में जल शक्ति मंत्रलय ने कुछ अधिकारियों को इन जिलों के दौरे पर भेजा था और केंद्रीय भूजल बोर्ड की एक हालिया रिपोर्ट के अनुसार राज्य के तीन चौथाई से ज्यादा ब्लॉक जल संकट से

विवादित नागरिकता का संशोधन कानून के खिलाफ उत्तर प्रदेश में हिंसा भड़कने के बाद सफदरजंग अस्पताल में घायल 3 लोगों ने दम तोड़ा

नई दिल्ली: विवादित नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ उत्तर प्रदेश में हिंसा भड़कने के बाद गोलियों के जख्म के साथ दिल्ली के अस्पतालों में भर्ती कराए गए राज्य के तीन लोगों की इलाज के दौरान मौत हो गई. डाक्टरों ने बीते गुरूवार को यह बात कही. फिरोजाबाद के अस्पताल से करीब 40 साल के मोहम्मद शफीक और 20 साल के मुकीम को क्रमश: 24 दिसंबर और 22 दिसंबर को सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था. तीस साल के मोहम्मद हारून को बुधवार को एम्स ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया था।एम्स के ट्रॉमा सेंटर के एक डॉक्टर ने बताया, 'हारून को गर्दन पर गोली लगी थी और उन्हें फिरोजाबाद के एक अस्पताल से यहां लाया गया था. बृहस्पतिवार को इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई.' बहरहाल, उन्होंने इसकी पुष्टि नहीं की कि हारून उत्तर प्रदेश में।सफदरजंग अस्पताल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि उन्हें इसकी कोई जानकारी नहीं है कि शफीक और मुकीम को उत्तर प्रदेश में विरोध प्रदर्शन के दौरान ही गोली लगी है या नहीं. उन्होंने इस पर भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया कि दोनों के जख्म गोलियों के हैं या नहीं. सफदरजंग अस्पताल के एक डॉक्

तमिलनाडु में कोयंबटूर के पास मेट्टूपलायम तालुका के ना दूर गांव में 2 दिसंबर को गिरी दीवार, 100 परिवार अपनाएंगे इस्लाम

  तमिलनाडु में कोयम्बटूर के पास मेट्टुपलायम तालुका के नादूर गांव में दो दिसंबर को गिरी दीवार. कोयंबटूर:  तमिलनाडु के नादुर गांव में दलित समुदाय के कई लोगों ने भेदभाव का आरोप लगाते हुए इस्लाम स्वीकार कर लेने की बात कही है. इनमें कई लोग उन परिवारों से हैं जिनके 17 सदस्यों की हाल ही में एक दीवार गिरने की वजह से मौत हो गई थी. दलितों ने कहा है कि वे आने वाली पांच जनवरी को इस्लाम स्वीकार कर लेंगे। द न्यूज़ मिनट  की रिपोर्ट के मुताबिक अनुसूचित जाति के लगभग 3000 लोगों ने इस्लाम अपनाने का फैसला किया है. वे सभी दलित संगठन पुलिगल काची (टीपीके) से जुड़े हुए हैं. वे सभी पांच जनवरी को कई चरणों में इस्लाम अपना लेंगे. इस्लाम धर्म अपनाने का निर्णय टीपीके द्वारा रविवार को मेट्टुपलायम में आयोजित एक बैठक में लिया गया है. इस्लाम अपनाने का फैसला लेने वालों में कई लोग हाल ही में दीवार गिरने की घटना में मारे गए लोगों के परिजन हैं.तमिलनाडु में कोयम्बटूर के नजदीक मेट्टुपलायम के नादुर गांव में दो दिसंबर को एक ऊंची जाति के व्यक्ति द्वारा बनाई गई 20 फीट ऊंची दीवार भारी बारिश के कारण गिरने से  17 लोगों की म

सामाजिक कार्यकर्ता संदीप पांडे ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी को सी ए ए का विरोध कर रहे गिरफ्तार लोगों को रिहा करने के लिए लिखा पत्र

  लखनऊ:  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात का समय नहीं मिलने पर मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित सामाजिक कार्यकर्ता संदीप पांडेय ने गुरुवार को उन्हें एक खुला पत्र लिखकर कहा कि हिंसा में शामिल अराजकतावादियों के खिलाफ उत्तर प्रदेश सरकार जिस तरह से 'प्रतिशोध की भावना' से कार्रवाई कर रही है, वह निंदनीय है. उन्होंने राज्य सरकार से अधिक परिपक्वता और संयम बरतने की अपील की. पांडेय ने कहा, 'मैंने आपसे 21 दिसंबर को मिलने का समय मांगा था लेकिन मुझे कोई जवाब नहीं मिला. मैं लखनऊ और उत्तर प्रदेश में नागरिकता संशोधन कानून एवं एनआरसी के खिलाफ हुए प्रदर्शनों में सरकार-प्रशासन के रवैये पर कुछ टिप्पणी करने के लिए यह खुला पत्र लिख रहा हूं.'       उन्होंने कहा कि लखनऊ में प्रदर्शनों के दौरान हुई हिंसा में जो प्राथमिकियां दर्ज की गईं, उनमें अधिकतर आरोपी मुसलमान हैं. अगर कार्रवाई में मुस्लिमों को लेकर भेदभाव होगा तो उनसे सरकार-प्रशासन में भरोसा रखने की अपेक्षा कैसे की जा सकती है. पांडेय ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून एवं एनआरसी के खिलाफ राष्ट्रव्यापी प्रदर्शनों के ब

सी ए ए और एनआरसी की वजह से भाजपा झारखंड चुनाव हारे

बीते 23 दिसंबर को झारखंड विधानसभा चुनाव का जो परिणाम आया है वो कई मायनों में महत्वपूर्ण है और इस तरह के परिणाम के कई सारे कारण हैं. याद रहे कि साल 2000 में राज्य के निर्माण के बाद ये पहला चुनाव है जब किसी ग़ैर-भाजपा गठबंधन को स्पष्ट बहुमत मिला है. और ऐसा लग रहा है कि आने वाले पांच सालों के लिए झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) की अगुवाई वाला गठबंधन जिसमें कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) भी शामिल हैं, एक स्थायी सरकार दे पाएगा. ये भी याद रहे कि राज्य बनने के बाद बीते 19 सालों में 16 साल प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से भाजपा ने राज किया है।हरियाणा विधानसभा चुनाव में ख़राब प्रदर्शन, महाराष्ट्र में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरने के बाद पर्याप्त संख्याबल के बिना आननफानन सरकार बनाने के बाद सत्ता छोड़ना और उससे पहले मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में हारने के बाद झारखंड के हालिया चुनाव परिणाम भाजपा के लिए ख़तरे की घंटी की तरह लगने लगे हैं.ऐसा लग रहा है कि झारखंड चुनाव परिणाम का असर आने वाले दिनों में दिल्ली और बिहार में होने वाले चुनावों पर भी पड़ सकता है. दिल्ली में आने वाली फ़रवरी और बिहार में

लद्दाख में 150 दिन बाद इंटरनेट सेवा शुरू

श्रीनगर: लद्दाख के कारगिल जिले में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं शुक्रवार को बहाल कर दी गई. अधिकारियों ने बताया कि केंद्र द्वारा पांच अगस्त को संविधान के अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करने के बाद से यहां 145 दिन तक इंटरनेट सेवा निलंबित थी।केंद्र की मोदी सरकार ने बीते पांच अगस्त को जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा प्रदान करने संबंधी  अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त करने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों- जम्मू कश्मीर तथा लद्दाख में विभाजित करने का फैसला किया था. फैसले के तहत जम्मू कश्मीर केंद्र शासित क्षेत्र की अपनी विधायिका होगी जबकि लद्दाख बिना विधायिका वाला केंद्रशासित क्षेत्र होइस फैसले की घोषणा के कुछ घंटे पहले ही कानून और व्यवस्था बनाए रखने के हवाला देकर जम्मू कश्मीर प्रशासन ने संचार की सभी लाइनों- लैंडलाइन टेलीफोन सेवा, मोबाइल फोन सेवा और इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया था।बता दें कि कश्मीर के कुछ सरकारी दफ्तरों और कारोबारी प्रतिष्ठानों को छोड़कर समूची घाटी में इंटरनेट सेवाएं बीते पांच अगस्त से लगातार बंद चल हैं. इसके बाद पहले लैंडलाइन टेलीफोन सेवाएं धीरे-धीर

चुनाव आयुक्त अशोक लवासा एक बार फिर आयकर के निशाने पर

चुनाव आयुक्त अशोक लवासा एक बार फिर आयकर विभाग के निशाने पर हैं. इस बार आरोप है कि उनकी पत्नी नोवेल लवासा ने गुड़गांव में एक अपार्टमेंट को अशोक लवासा की बहन शकुंतला लवासा को ट्रांसफर करते समय स्टांप ड्यूटी नहीं भरी है. इंडियन एक्सप्रेस  के अनुसार आयकर विभाग ने हरियाणा के अतिरिक्त प्रमुख सचिव और वित्त सचिव को इस बारे में लिखकर आयकर रिटर्न और संपत्ति ट्रांसफर करने के दस्तावेजों में 'विसंगतियों' की जांच की बात कही है. हरियाणा के राजस्व और डिज़ास्टर मैनेजमेंट के वित्त कमिश्नर धनपत सिंह ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, 'इस बारे में 9 दिसंबर को गुड़गांव के डिप्टी कमिश्नर को बताया गया था, लेकिन अब तक हमें इसका कोई जवाब नहीं मिला है. हमने उनसे आयकर विभाग और मेरे कार्यालय को सूचित करने के लिए कहा है.' आयकर विभाग का कहना कि नोवेल के आईटी रिटर्न दिखाते हैं कि उन्होंने गुड़गांव की एक चारमंजिला इमारत का ग्राउंड फ्लोर शकुंतला लवासा को 1.73 करोड़ रुपये में बेचा है और 2017-18 के अपने आईटी रिटर्न में शकुंतला ने इसी संपत्ति को 'सेल्फ-ऑक्युपाइड' दिखाया है.हालांकि संपत्ति के ट्रांसफर क

अरुंधति राय ने 25 दिसंबर को दिए बयान पर दी सफाई

अरुंधति रॉय ने 25 दिसंबर को दिल्ली यूनिवर्सिटी में एनपीआर को लेकर कहा था कि यह भी एनआरसी  प्रसिद्ध लेखिका और सामाजिक कार्यकर्ता अरुंधति रॉय ने 25 दिसंबर को दिल्ली यूनिवर्सिटी में राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) को लेकर दिए अपने बयान पर स्पष्टीकरण दिया है. अरुंधति रॉय ने कहा, 'मैंने कहा था कि 22 दिसंबर को दिल्ली के रामलीला मैदान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने  संबोधन  में राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) और देश में कोई भी डिटेंशन सेंटर नहीं होने को लेकर सफेद झूठ बोला था.'अरुंधति ने कहा, 'मैंने प्रधानमंत्री मोदी के उन झूठों पर प्रतिक्रिया के तौर पर वह बयान दिया था. मैंने कहा था कि जब वे एनपीआर के लिए हमारे व्यक्तिगत डेटा को इकट्ठा करने आएं तो हमें उन्हें हास्यास्पद जानकारी देनी चाहिए. मैंने कहा था कि आप मुस्कान के साथ उन्हें जानकारी नहीं देने से इनकार कर सकते हैं.'उन्होंने कहा, 'वहां मौजूद मुख्यधारा के सभी टीवी चैनलों के पास मेरे उस बयान का वो वीडियो है. यकीनन उन्होंने उस पूरे वीडियो का प्रसारण नहीं किया. वे लोग बस इसे लेकर बयानबाजी करते रहे, मेरे बयान

एलआईसी का आधार अंक 31 से घटकर 23पे आ गया

औद्योगिक वृद्घि कम रहने और बॉन्ड प्रतिफल तथा ब्याज दरों पर दबाव के कारण नियत आय वाली प्रतिभूतियों और शेयर बाजार के देश में सबसे बड़े एकल निवेशक भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) के निवेश पोर्टफोलियो पर असर पड़ रहा है। 2018-19 में एलआईसी के निवेश पोर्टफोलियो का रिटर्न आठ साल के निचले स्तर 7.59 फीसदी रहा, जो पिछले साल की तुलना में 12 आधार अंक कम है। यह जानकारी एलआईसी ने वित्त वर्ष 2019 की अपनी सालाना रिपोर्ट में दी है।इसके परिणामस्वरूप एलआईसी और 10 वर्षीय सरकारी बॉन्ड के प्रतिफल का स्प्रेड पिछले वित्त वर्ष में पांच साल में सबसे कम 23 आधार अंक रह गया, जो इससे पिछले साल 31 आधार अंक था। आंकड़ों से पता चलता है कि प्रतिफल में कमी मुख्य रूप से बीमा कंपनी के निवेश पोर्टफोलियो की वृद्घि की तुलना में शुद्घ आय की वृद्घि कम रहने की वजह से आई है। वित्त वर्ष 2019 में एलआईसी के कुल निवेश पोर्टफोलियो 29.3 लाख करोड़ रुपये पर शुद्घ निवेश आय 2.2 लाख करोड़ रुपये रही। पिछले पांच वर्षों में निवेश पोर्टफोलियो सालाना 12.8 फीसदी की चक्रवृद्घि दर से बढ़कर वित्त वर्ष 2014 के 16 लाख करोड़ रुपये पिछले वित्त वर्ष

भारतीय अर्थव्यवस्था निम्न स्तर की ओर

नरेंद्र मोदी : इसमें कोई दोराय नहीं है कि इस दशक में देश में जिस एक शख्स का दबदबा रहा, वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं। उन्होंने न केवल भारतीय राजनीति पर बल्कि अर्थव्यवस्था पर भी अपनी छाप छोड़ी। हालांकि 2013-14 में उन्होंने अपने चुनाव प्रचार में 'न्यूनतम सरकार, अधिकतम शासन' की बात कही थी। लेकिन अपने पहले कार्यकाल में मोदी कई मायनों में बाजार में सुधार की मुहिम से पीछे हट गए। राहुल गांधी ने मोदी पर तंज कसते हुए कहा था कि वह सूट बूट की सरकार चला रहे हैं। निजीकरण के प्रयास सही मायने में कभी भी आगे नहीं बढ़ पाए और व्यापार उदारीकरण की मुहिम भी आगे बढऩे के बजाय पीछे चली गई क्योंकि भारत ने टैरिफ की दीवारों खड़ी कर दीं। मोदी की राजनीतिक पूंजी, उनका निर्विवाद नेतृत्व और बड़े फैसले लेने की उनकी मंशा के कारण पहले कार्यकाल में अर्थव्यवस्था के लिए कुछ बड़े कदम उठाए गए। इनमें दिवालिया कानून और वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) शामिल हैं। उन्होंने नोटबंदी जैसे कुछ नुकसानदायक फैसले भी लिए। मोदी सरकार के शुरुआती वर्षों में अर्थव्यवस्था को लेकर जो उम्मीद जगी थी, अब वह क्षीण होने लगी है और भारतीय अर

आदिवासी नृत्य महोत्सव का उद्घाटन करेंगे राहुल गांधी

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी यहां 27 से 29 दिसंबर तक आयोजित होने जा रहे तीन दिवसीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्व महोत्सव का उद्ïघाटन करेंगे। राज्य में सरकार की ओर से आदिवासी लोक कला को सुरक्षित करने और इसे बढ़ावा देने की घोषणा के बाद यह आयोजन पहली बार हो रहा है। राज्य की राजधानी स्थित साइंस कॉलेज के मैदान में हो रहे इस कार्यक्रम में कांग्रेस के वरिष्ठï नेतागण अति विशिष्ट अतिथि के तौर पर शामिल होंगे। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे।इस वृहत आयोजन के लिए पूरे राजधानी को सजाया और संवारा गया है। सभी राज्यों के मुख्यमंत्री को इसमें आने के लिए आमंत्रित किया गया है। अधिकारियों ने बताया कि 25 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों (यूटी) से 1,350 से अधिक कलाकार भाग लेंगे। इनके अलावा इस आयोजन में छह देशों के कलाकार भी हिस्सा लेंगे।  

बढ़ाया जाएगा का रेलवे का किराया और माल भाडा

रेलवे के विभिन्न संवर्गों का विलय एकल रेलवे प्रबंधन प्रणाली में किए जाने की घोषणा के कारण रेल अधिकारी पदोन्नति और वरीयता क्रम को लेकर अनिश्चितता के कारण चिंतित हैं। मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि इस कदम की आवश्यकता थी क्योंकि 'कई विभागों की जटिलता' के कारण कई परियोजनाओं में देरी हो रही थी। सरकार ने कहा है कि सचिवों की समिति और मंत्रियों के पैनल द्वारा 8200 अधिकारियों संबंधी नीति पर निर्णय लेने के बाद इस मामले पर स्पष्टता होगी। हालांकि कुछ अधिकारियों का कहना है कि नीति बनने के बाद ही विलय की घोषणा की जानी चाहिए थी।वरिष्ठ अधिकारियों ने दावा किया कि हालांकि सरकार ने कहा है कि इस कदम के पीछे का मकसद विभागों की जटिलता को समाप्त करना है, लेकिन इससे दरअसल दो वर्ग पैदा होंगे-एक में मैकेनिकल और इंजीनियरिंग जैसे तकनीकी अधिकारी और दूसरे में संचालनात्मक एवं कार्मिक मामलों से निपटने वाले अधिकारी होंगे। अधिकारी ने कहा, 'मुझे नहीं लगता कि यह काम करेगा। यह बहुत साफ है। यदि कोई अधिकारी अपनी वरीयता को लेकर आश्वस्त नहीं होगा, तो वह काम क्यों करेगा?

जीएसटी रिटर्न दाखिल न करने वालों के बैंक खातों से दूर की संपत्तिया जप्त हो सकती है

  कर अधिकारी जीएसटी रिटर्न दाखिल न करने वालों के बैंक खातों सहित उनकी संपत्तियां जब्त कर सकते हैं। केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) की ओर से जारी मानक परिचालन प्रक्रिया (एसओपी) के मुताबिक जीएसटी आयुक्त केंद्रीय जीएसटी अधिनियम की धारा 83 के मुताबिक अनंतिम रूप से संपत्ति जब्त कर सकता है। एसओपी के मुताबिक इसके साथ ही वह एक विशेष अवधि तक रिटर्न दाखिल करने का काम पूरा नहीं करने पर पंजीकरण भी रद्द कर सकता है। यह खास अवधि कितनी होगी, इस पर अभी फैसला होना बाकी है। इस धारा के तहत आयुक्त करदाता के बैंक खाते सहित उसकी कोई भी संपत्ति जब्त कर सकता है। इसके लिए उसे एक विशेष फॉर्म पर आदेश पारित करना होगा, जिसमें जब्त की जाने वाली संपत्ति का ब्योरा होगा। बहरहाल विशेषज्ञों ने कहा कि जीएसटी के पहले राज्य स्तर के मूल्यवर्धित कर के दौरान बमुश्किल ही कोई पंजीकरण रद्द किया गया।  एक साल से ज्यादा समय तक रिटर्न दाखिल न करने पर कर अधिकारी पंजीकरण निष्क्रिय कर देते थे। विशेषज्ञों का कहना है कि पंजीकरण रद्द करना कठोर फैसला है। विचलन की गतिविधियों से निपटने के लिए एसओपी जारी किया गया था

स्वास्थ्य सेवाओं के लिए जीएसटी शून्य

शीर्ष स्वास्थ्य संगठन हेल्थकेयर फेडरेशन ऑफ इंडिया (नेटहेल्थ) ने आज सरकार से स्वास्थ्य सेवाओं के लिए जीएसटी को शून्य करने और पूंजी जरूरतों को पूरा करने के लिए क्षेत्र प्राथमिक क्षेत्र बनाने का आग्रह किया। फेडरेशन ने अपनी बजट -पूर्व सिफारिशों में दूसरे और तीसरे श्रेणी के शहरों में क्षमता का निर्माण करने का भी आह्वान किया है। यह ग्रामीण क्षेत्रों में गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा की बढ़ती मांगों को भी पूरा करेगा। नेटहेल्थ के अध्यक्ष सुदर्शन बल्लाल ने कहा, 'स्वास्थ्य सेवा उद्योग को उम्मीद है कि चिकित्सा पर्यटन को बढ़ाने के लिए प्रोत्साहन, स्वास्थ्य सेवाओं और स्वास्थ्य बीमा के प्रीमियम पर शून्य जीएसटी जैसी चीजों का ध्यान रखकर आम बजट 2020-21 घोषित किया जाएगा।' स्वास्थ्य संगठन ने फिक्की के साथ संयुक्त ज्ञापन में कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं के लिए जीएसटी को तर्कसंगत बनाने से इनपुट क्रेडिट का मुद्दा सुलझेगा और नर्सिंग होम, क्लीनिक, अस्पताल और डायग्नोस्टिक केंद्रों समेत सभी स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं की लागत में कम आएगी। उन्होंने कहा कि कर में कमी का फायदा आखिरकार उपभोक्ताओं को ही होगा और स्वास

बैंकिंग जगत का वित्तीय प्रदर्शन

भारतीय बैंकिंग क्षेत्र में कई वर्ष बाद बदलाव के संकेत नजर आ रहे हैं। भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी ताजा रिपोर्ट 'ट्रेंड ऐंड प्रोग्रेस ऑफ बैंकिंग इन इंडिया 2018-19' यह बताती है कि बैंकों की ऋणग्रस्त परिसंपत्तियों में कमी आई है और परिसंपत्तियों की गुणवत्ता में गिरावट भी थमी है। यही कारण है कि वर्ष 2011-12 के बाद पहली बार अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों की समेकित बैलेंस शीट में सुधार देखने को मिला है। इसके अलावा बैंकिंग जगत का वित्तीय प्रदर्शन भी सुधरा और तीन वर्ष के अंतराल के बाद सरकारी बैंकों ने चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में शुद्ध मुनाफा कमाया।   परंतु सरकारी बैंकों के लिए अभी भी चिंतित होने की पर्याप्त वजह है। न केवल फंसे हुए कर्ज (एनपीए) का ज्यादा हिस्सा उनके पास है बल्कि वे निजी बैंकों के हाथों तेजी से कारोबार भी गंवा रहे हैं। उदाहरण के लिए समीक्षा अवधि के दौरान सावधि जमा में हुई वृद्धि में निजी बैंकों की हिस्सेदारी करीब 77 प्रतिशत रही। निजी बैंकों में इसका स्तर 2011-15 के 19 प्रतिशत से बढ़कर 2016-19 में 81 फीसदी हो गया। बैंकिंग परिसंपत्तियों में एक तिहाई से भी कम भागीदारी

भारत और बांग्लादेश वर्ष 1971 से लंबी दूरी तय कर चुके हैं

भारत और बांग्लादेश वर्ष 1971 से लंबी दूरी तय कर चुके हैं। दोनों देशों के संबंध शेख मुजीबुर्रहमान के समय में अत्यंत मधुर थे। लेकिन जिया-उर-रहमान और उनकी पत्नी बेगम जिया के कार्यकाल में संबंध खराब हुए। हालांकि अब मुजीब की बेटी शेख हसीना के शासनकाल में संबंध फिर से प्रगाढ़ हो रहे हैं। इस तरह दोनों देशों के बीच संबंधों ने एक लंबी दूरी तय की है, जिनमें कई उतार-चढ़ाव आए हैं। अब दोनों देशों के संबंध बेहतर हो रहे हैं, इसलिए यह सुनिश्चित करने की हरसंभव कोशिश की जानी चाहिए कि दोनों देेशों के संबंधों में यह बेहतरी लगातार जारी रहे। विदेश मंत्री एस जयशंकर हाल के महीनों में हिंद-प्रशांत क्षेत्र से संबंधित भारत की आकांक्षाओं पर कई बार जोर दे चुके हैं। बांग्लादेश इसी हिंद-प्रशांत क्षेत्र में स्थित है, जिसे निश्चित रूप से प्रमुखता में सबसे ऊपर रखा जाना चाहिए। इसी संदर्भ में हमें हाल की घटनाओं के नतीजों को देखना चाहिए, जो बांग्लादेश के दो वरिष्ठ मंत्रियों के हमारे देश की यात्रा रद्द करने का नतीजा हैं। पिछले कई दशकों से हमारे सीमा विवाद के मुद्दों का इतिहास हर कोई जानता है और अब समुद्री सीमा के सौहार्

2 वर्षीय तेंदुआ सड़क के किनारे मृत मिला

सागर।  जिले के शाहगढ़ वन परिक्षेत्र के अंतर्गत वन चौकी हीरापुर में सागर-कानपुर NH-86 पर सड़क के किनारे लगभग 2 वर्षीय मादा तेंदुआ मृत अवस्था में पड़ा मिला। जिसके बाद आज सुबह डाक्टरों की टीम ने वन विभाग के हीरापुर रेस्ट हॉउस तेंदुए का पोस्टमार्टम किया। बता दें कि लगभग 2वर्ष पहले भी इसी इलाके में एक तेंदुआ मृत अवस्था में मिला था।

झिरी में अतिक्रमण के दौरान बड़ा विवाद

रायसेन। जिले के रातापानी अभ्यारण्य झिरी में अतिक्रमण के दौरान बड़ा विवाद हो गया। अतिक्रमण हटाने गई फारेस्ट की टीम को 3 हवाई फायर करने पड़े। फारेस्ट की टीम अतिक्रमण हटाने झिरी में गई थी। जिसके बाद गांव वाले इसका विरोध करने लगे तथा आक्रोशित ग्रामीणों ने पुलिस की गाड़ियां और जेसीबी पर टूट पड़े और तोड़-फोड़ करने लगे। जिसके बाद फारेस्ट की टीम ने भीड़ को तितर बितर करने के लिए 3 हवाई फायर करना पड़ा। मामला रायसेन के नूरगंज क्षेत्र का है। दरअसल फारेस्ट की जमीन पर वर्षो पुराना मंदिर झिरी में बना है। अतिक्रमण Bsf के 250 जवान और जिले के पुलिस बल की मौजूदगी में हटाया जा रहा है। मौके पर अभी भी संवेदनशील स्थिति बनी हुई है॰ गिरी में अतिक्रमण के दौरान बड़ा विवाद द

पार्षद के आभार में की गई रैली में नाबालिग के साथ दुष्कर्म

बलोद। नवनिर्वाचित वार्ड पार्षद के जीत की आभार रैली में गई नाबालिक के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है। घटना दल्लीराजहरा थाने क्षेत्र की बताई जा रही है। दुष्कर्म के बाद आरोपी ने नाबालिक को 3 किलोमीटर दूर छोड़ दिया। जिसके बाद स्थानीय लोगो ने मामले की सूचना परिजनों को दी। परिजनों ने दल्लीराजहरा थाने में की 30 वर्षीय आरोपी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। दल्लीराजहरा पुलिस ने आरोपी राजू उर्फ आशीष को गिरफ्तार कर लिया है।

राहुल गांधी ने तारीफ की छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री की

रायपुर।  राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव कार्यक्रम से लौटते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने की मीडिया से बात की उन्होंने कहा कि आदिवासी नृत्य बहुत बढ़िया लगा। थोड़ी डांसिंग भी हो गई। सबकी आवाज गूंजनी चाहिए। केन्द्र की मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि NRC और CAA पर कहा कि देश को बांटा जा रहा है।45 साल में सबसे ज्यादा बेरोगारी आज है। देश मे नरेंद्र मोदी की सरकार है, वे नही बता पा रहे हैं कि देश की इकोनॉमी की धज्जियां क्यो उड़ाई जा रही है? देश का समय बर्बाद किया जा रहा है। देश का 3 लाख 50 हजार करोड़ रुपये चुनिंदा 15 लोगों को दिया गया है। इस दौरान राहुल गांधी ने छत्तीसगढ़ सरकार की प्रशंसा भी की। उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था 9 से 4 प्रतिशत पर आ गई है। ऐसी स्थिति में छत्तीसगढ़ देश के लिए उदाहरण है। छत्तीसगढ़ सरकार को कितने नम्बर देंगे के सवाल पर उन्होंने कहा कि नम्बर देना मेरा काम नहीं वो जनता का काम और छ्त्तीसगढ़ की जनता सरकार को लगातार नम्बर दे रही है ।

चाइना बल्ब के फोड़ने से पूरा गांव प्रभावित

बिलासपुर। चाईना बल्ब के फूटने से पूरा गांव प्रभावित हुआ है। ग्रामीण हाइलोजन बल्ब के फूटने से निकली जहरीली गैस से प्रभावित हुए। घटना बिलासपुर जिले के जिले के सीपत समीप ग्राम देवरी की बताई जा रही है। जानकारी के मुताबिक देवरी के लगभग 250 से अधिक ग्रामीण आंखों में तेज जलन से पीड़ित हैं। स्वास्थ्य विभाग ने सुबह से गांव में कैंप लगाया तथा लोगों के आंखों की जांच की गई। कैम्प में जिला चिकित्सा अधिकारी समेत तमाम राहत अमला मौजूद रहे। डॉक्टर के द्वारा गंभीर रूप से प्रभावित दर्जनभर ग्रामीणों को सिम्स अस्पताल रेफर किया गया है।

नौकरियों का वादा करके सरकार बनाएंगे ,फिर देश के नौजवान और संविधान को बर्बाद करेंगे : प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शुक्रवार को नागरिकता कानून के बीच मोदी सरकार पर निशाना साधा है। प्रियंका गांधी ने आज ट्वीट करके मोदी सरकार को 'क्रोनोलॉजी' को समझाया है। प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि वो नौकरियों का वादा करके सरकार बनाएंगे और बाद में विश्वविद्यालयों और देश के संविधान को बर्बाद कर देंगे। प्रियंका गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा। क्रोनोलॉजी समझिए आप * पहले वो आपसे दो करोड़ नौकरियां का वादा करेंगे * फिर वो सरकार बनाएंगे * फिर वो आपकी यूनिवर्सिटीज बर्बाद करेंगे * फिर वो देश का संविधान बर्बाद करेंगे * फिर आप प्रोटेस्ट करेंगे * फिर वो आपको 'फूल' बोलेंगे लेकिन यंगिस्तान मैदान में डटा रहेगा। बता दें कि कांग्रेस पार्टी के साथ अन्य दल भी नागरिकता संशोधन अधिनिय को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं नेताओं के अलावा लोग भी सड़कों पर उतरकर सीएए का विरोध कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश में कई जगहों पर सीएए को लेकर विरोध प्रदर्शनों ने हिंसक रुख भी अख्तियार कर लिया था।

बुजुर्ग महिला का शव नाले में मिला

सदर थाना क्षेत्र के गांव थरया के रहने वाले जिस व्यक्ति पर एक माह पहले अपने तीन बच्चों को पश्चिमी यमुना लिंक नहर में फेंककर हत्या का आरोप है अब उसकी मां का शव गांव के पास ड्रेन नंबर 6 में मिला है। बुजुर्ग महिला दो दिन पहले संदिग्ध हालत में लापता हो गई थी। अब उसका मिलने से गांव में सनसनी फैल गई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम करवाने के बाद परिजनों को सौंप दिया। पुलिस ने बिसरा जांच के लिए मधुबन भेजा हैं। ताकि मौत के कारणों का पता चल सके। बता दें कि गांव थरिया की रहने वाली नीशो (58) 23 नवंबर की शाम को अचानक लापता हो गई थी। परिजनों का उसका पता लगाने का प्रयास किया, लेलिन कोई सुराग नहीं लग सका। जिस पर परिजनों ने मंगलवार को उसकी गुमशुदगी की शिकायत सदर थाना पुलिस को दी थी। पुलिस ने अभी जांच कर रही थी कि बुधवार सुबह नीशो के बेटे कादर को अपनी मां का शव गांव के पास से गुजर रही ड्रेन नंबर-6 में पड़ा दिखाई दिया। उसने मामले की सूचना सदर थाना पुलिस को दी। सूचना मिलते ही सदर थाना पुलिस टीम गांव में पहुंची और ड्रेन से बुजुर्ग का शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराया। पुलिस ने मामले की जांच शुर

बच्चा होने की दवाई देने के बहाने किया बलात्कार

 बूडिया थाना क्षेत्र के एक महिला से बच्चा होने की दवाई देने के बहाने एक व्यक्ति ने उसके साथ दुष्कर्म किया। इस दौरान व्यक्ति ने मोबाइल में उसकी अश्लील फोटो खींच ली। जिसके बाद आरोपित ने उसे ब्लैकमेल कर उसके साथ करीब एक वर्ष तक दुष्कर्म करता रहा। पुलिस ने पीड़ित महिला की शिकायत पर आरोपित व्यक्ति के खिलाफ केस दर्जकर कार्रवाई शुरू कर दी। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बूडिया थाना क्षेत्र की 44 वर्षीय महिला ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि उसकी शादी 25 वर्ष पहले हुई थी। शादी के बाद उसे कोई बच्चा नहीं हुआ। जिस कारण वह परेशान रहने लगी। महिला ने बताया कि उनकी गांव में ही करियाने की दुकान है। दुकान पर कुर्बान का आना जाना था। जिस कारण उसकी कुर्बान के साथ जान पहचान थी। महिला ने बताया कि एक दिन कुर्बान उनकी दुकान पर आया। कुर्बान ने उसे कहा कि वह बच्चा होने की दवाई लेकर आया है। दवाई खाने के बाद उसे बच्चा हो जाएगा। महिला ने बताया कि वह आरोपित की बातों में आ गई। आरोपित व्यक्ति ने उसे दवाई दी मगर उसे खाने के बाद कोई फायदा नहीं हुआ। जब उसने आरोपित व्यक्ति से इस बारे बताया तो आरोपित उसे कहने ल

घर में घुसकर नाबालिग के साथ किया दुष्कर्म

यमुनानगर के छछरौली थाना क्षेत्र के एक गांव में युवक ने घर में घुसकर नाबालिग लड़की के साथ दुष्कर्म किया। आरोपित ने घटना के बारे में किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी भी दी। पुलिस ने पीडि़ता के परिजनों की शिकायत पर आरोपित युवक समेत चार लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार छछरौली थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी व्यक्ति ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि नौ अक्तूबर को उसकी 17 वर्षीय लड़की घर पर अकेली थी। इस दौरान उनके घर गांव का ही युवक जगतार सिंह आया। आरोपित ने उसकी लड़की को घर पर अकेला पाकर उसके साथ छेड़छाड़ करने लगा। जब उसकी लड़की ने विरोध किया तो आरोपित युवक उसकी लड़की को कमरे में ले गया। जहां पर आरोपित ने उसके साथ दुष्कर्म किया। आरोपित ने उसकी लड़की को घटना के बारे में बताने पर परिवार के सदस्स्यों को जान से मारने की धमकी दी। जिस कारण उसकी लड़की ने घटना के बारे में किसी को नहीं बताया। मगर उसके बाद फिर से आरोपित उसकी लड़की को परेशान करने लगा। परेशान होकर उसकी लड़की ने घटना के बारे में बताया। जब उसने आरोपित युवक के परिजनों अमरजीत सिंह

आपसी विवाद में महिला के पैर में लगी गोली

मटिहानी : मटिहानी थाना क्षेत्र के खोरमपुर ढाला पर सोमवार के शाम में दो पक्षों के बीच जमकर मारपीट हुई.मारपीट के बाद दोनों पक्षों से दर्जनों चक्र गोली भी फायर किया गया.जिसमें एक गोली खोरमपुर निवासी मो. इसामुल के पत्नी 45 वर्षीय अजमेरी खातुन के पैर में लग गया. जिसे रेफरल अस्पताल मटिहानी लाया गया. प्राथमिक उपचार के बाद उसे बेगूसराय सदर अस्पताल भेज दिया गया।बताया जाता है कि गोलीबारी में घायल अजमेरी खातुन वहां खड़ी थी . इसी क्रम में एक गोली उसके पैर में लग गयी. मारपीट में लाठी व ईंट से दोनों पक्ष से तीन लोग और घायल हो गये. घायलों में मो इरशाद,मो मुज्जवीर,मो इसामुल शामिल है. जिसका इलाज रेफरल अस्पताल मटिहानी में किया जा रहा है।मटिहानी थाना के प्रभारी थाना अध्यक्ष अजय कुमार ने बताया कि मो असलम और मो इसामुल के बीच वर्षों से आपसी विवाद चल रहा है.मो असलम ने एक वर्ष पूर्व मो इसामुल पर मुकदमा भी किया था.सोमवार के सुवह लगभग 10 बजे मछली मारने के दौरान मो इसामुल के भाई मो बादशाह और मो असलम के पुत्र मो जानू के बीच विवाद हुआ और बाद में वही विवाद दोनो बच्चों के गार्जियन के बीच पहुंचा और बच्चों का विवाद बड़ो

आगनबाडी के मैन्यू में अनदेखी पर कार्यवाही

बेगूसराय : सदर प्रखंड के उप प्रमुख संजीव कुमार की अध्यक्षता में सोमवार को प्रखंड सामाजिक न्याय समिति की बैठक आयोजित की गयी. बैठक  में आंगनबाड़ी केंद्रों का संचालन एवं सेविका-सहायिका बहाली पर चर्चा हुई.    सीडीपीओ प्रतिमा ने कहा कि आंगनबाड़ी केंद्रों पर मेन्यू की अनदेखी करने वाली सेविकाओं के विरुद्ध कार्रवाई की जायेगी. उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी केंद्र के संचालन में किसी प्रकार की अनियमितता दिखे तो इसकी शिकायत बाल विकास परियोजना कार्यालय ग्रामीण में करें.    मामले की जांच कर उचित कार्रवाई की जायेगी. उप प्रमुख ने रिक्त केंद्रों पर सेविका-सहायिका बहाली की अद्यतन जानकारी मांगी. बैठक में मोहनपुर के पंसस प्रतिनिधि विजय कुमार सिंह, सूजा के पंसस सुरेश तांती, सांख के पंसस मो एजाज अंसारी आदि उपस्थित थे

देश संवैधानिक संकट से गुजर रहा है : कन्हैया कुमार

बेगूसराय : देश संवैधानिक संकट से गुजर रहा है. संपूर्ण देश नागरिकता के सवाल पर सड़कों पर उतर गया है.लोगों में डर का माहौल बना दिया गया है. गंगा जमनी तहजीब के देश को इसके नाम पर विखंडित करने की संघी साजिश रची जा रही है . उक्त बातें भाकपा नेता सह जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष डॉ कन्हैया कुमार ने हसनपुर बागर में चंद्रशेखर जयंती पर आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए सोमवार को कही.    उन्होंने नोटबंदी के समय देश के आम आवाम के समक्ष उत्पन्न स्थिति की चर्चा करते हुए कहा कि उस समय देश के सर्वोच्च आसन पर आसीन पीएम द्वारा किये वायदे आतंकवाद का खात्मा,कालाधन वापस लाने,प्रति वर्ष देश के दो करोड़ नौजवानों को रोजगार उपलब्ध कराने में किसानों को नयी तकनीक के माध्यम से आमदनी दोगुनी करने में नाकामयाब रही.आम जरूरतों की कीमतें आसमान छू रही है. मूल बातों से ध्यान भटकाने के लिए नये नये भ्रामक प्रचार किये जा रहे हैं. नोटबंदी के बाद भी आतंकी हमले हुए तथा कई वीर सैनिक भारत मां की रक्षा के लिए शहीद हुए. सीएए पर जनता  सहमत नहीं हैं.

हत्या के मामले में आजीवन कारावास

बेगूसराय : अपर जिला एवं सत्र जज सुनील वर्मा की कोर्ट ने हत्या के एक मामले बलिया थाने के कस्बा दियारा निवासी रुदल यादव, सिकंदर यादव, नेती यादव ,बीरन यादव,सुशील यादव,चंद्रदेव यादव को धारा 323, 302, 148 दोषी मानते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनायी. साथ ही दस-दस हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया.  अभियोजन की ओर से कुल नौ लोगों ने गवाही दी. 12 मई 2017 को सुबह 8:00 बजे ग्रामीण मिथिलेश यादव के घर के सामने मकई का दौनी करने थ्रेसर लेकर आये. दौनी करने लगे मिथिलेश के मना करने पर मिथिलेश को जान मारने की कोशिश की. जब उसकी चाची गुंजन बचाने आयी तो दोषियों ने गुंजन देवी की गोली मारकर हत्या कर दी

खूंटी में आग जली लाश मिलने से सनसनी

रांची :  झारखंड की राजधानी रांची से सटे खूंटी जिला में हैदराबाद जैसा एक मामला सामने आया है. कालामाटी इलाके में एक युवती की अधजली लाश मिली है. शव जिस अवस्था में मिला, है उसे देखकर कई तरह की अटकलें लगायी जा रही हैं. आशंका व्यक्त की जा रही है कि युवती से दुष्कर्म के बाद उसकी हत्या कर दी गयी होगी और उसके बाद उसके शव को जला दिया गया होगा. गुरुवार की सुबह लोगों ने खूंटी थाना क्षेत्र के कालामाटी के तिरिलटोली के जंगल के पास सड़क किनारे एक खेत के पास युवती के अधजले शव को देखा. लोगों ने इसकी तस्वीरें खींचीं और वीडियो भी बनाकर सोशल मीडिया में शेयर कर दिया. हालांकि, युवती की पहचान नहीं हो पायी है. पुलिस घटनास्थल तक पहुंची है या नहीं, इसकी भी जानकारी नहीं दी गयी है. स्थानीय लोग तरह-तरह के कयास लगा रहे हैं.

हत्या आरोपी खीर खिलाकर हुआ फरार

गोपालगंज :  जिले के कटेया थाने में हत्या के मामले में गिरफ्तार आरोपित ने सीजेएम कोर्ट में पेशी होने से पहले शहर के एक होटल में चौकीदारों को खीर-पुड़ी खिलाने के बाद चकमा देकर फरार हो गया. फरार आरोपित कटेया के नृपत छापर गांव का हरेराम लाल बताया जाता है. हत्यारोपित के फरार होने पर पुलिस के हाथ-पांव फूल गये. वहीं,  मामले में नगर थाने में दोनों चौकीदार ने शिकायत दर्ज करायी है. नगर इंस्पेक्टर प्रशांत कुमार राय का कहना है कि पुलिस मामले की शिकायत दर्ज कर आरोपित की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है. कटेया के थानेदार के अलावा पुलिस के वरीय अधिकारियों को भी इसकी सूचना दे दी गयी है. कैसे हुआ फरार कटेया से आरोपित हरेराम लाल को पुलिस गोपालगंज ले आयी. कोर्ट में पेशी होने से पहले भूख लगने और खाना खाने की बात कही. पुलिस ने कहीं भी होटल खुला नहीं मिलने पर जनता सिनेमा मोड़ के पास लेकर गयी. खाना खाने के बाद चौकीदार हाथ धो रहे थे. इसी दौरान आरोपित हथकड़ी खोल कर फरार हो गया. भागने के बाद चौकीदारों को पता चला कि आरोपित फरार हो गया है. हत्या के आरोप में गिरफ्तार हुआ था हरेराम कटेया थाने की पुलिस का कहना है

एसीपी का वीडियो वायरल होने के बाद मुखर्जी नगर से हजारों पीजी स्टूडेंट अपने घर वापस गए

नई दिल्ली।  दो-तीन दिन से दिल्ली पुलिस अपने ही एक सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) के सोशल मीडिया में वायरल हुए वीडियो-मैसेज से बेहाल है। इस वायरल मैसेज का प्रतिकूल असर इस कदर हुआ कि उत्तर-पश्चिमी दिल्ली के मुखर्जी नगर इलाके में रहने वाले हजारों छात्र-छात्राएं अपने पीजी रूम खाली करके चले गए। व्हाट्सएप सहित तमाम अन्य सोशल मीडिया प्लेटफाम्र्स पर वायरल वीडियो मैसेज में एसीपी मॉडल टाउन अजय कुमार ब-वर्दी भाषण देते दिखाई-सुनाई पड़ रहे हैं। वीडियो को लेकर चर्चा में आए एसीपी के पीछे और बराबर में उनके कुछ मातहत हवलदार सिपाही भी खड़े दिखाई दे रहे हैं। एसीपी के भाषण के मुताबिक, ऊपर से नीचे आने में ही मुकदमा दर्ज हो जाएगा। समझ में आ रहा है पब्लिक न्यू सेंस का मुकदमा दर्ज हो जाएगा। अब सुनो काम की बात 24 तारीख से हम लोग डायरेक्शन्स दे रहे हैं सारे पीजी वालों को, थाने वालों को, रेस्टोरेंट वालों को, लाइब्रेरी वालों को, कोचिंग वालों को। 24 की शाम से सभी लोगों को। सब के सब बंद हो जाएंगे। सोशल मीडिया में वायरल और आईएएनएस के पास मौजूद इस कथित वीडियो के चलते सुर्खियों में आए एसीपी आगे बोलते सुनाई दे रहे हैं- सब

अल्पसंख्यकों को सशक्त बनाएगी पाकिस्तान सरकार

इस्लामाबाद।  पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि सरकार अल्पसंख्यक समुदाय के सभी सदस्यों को पाकिस्तान का बराबर का नागरिक मानती है और राष्ट्र के विकास के लिए इन्हें सामाजिक, आर्थिक और राजनैतिक क्षमताओं का इस्तेमाल करने के लिए सशक्त बनाने पर प्रतिबद्ध है। क्रिसमस पर देश और विश्व के ईसाई समुदाय को बधाई संदेश में इमरान ने कहा कि पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना ने पाकिस्तान की स्थापना के पहले ही दिन यह साफ कर दिया था कि देश में सभी धर्मो, समुदायों के लोगों को समानता, स्वतंत्रता और सुरक्षा के समान अधिकार होंगे। इमरान ने कहा कि उनकी सरकार शांतिपूर्ण सहअस्तित्व के सिद्धांत को बनाए रखने और अल्पसंख्यकों समेत सभी नागरिकों को समान अवसर उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि क्रिसमस वह शुभ अवसर है जब ईसा मसीह के शांति, प्रेम, सहिष्णुता और मानवता के प्रति प्रेम के संदेश को याद करें। उन्होंने कहा, हम मुसलमान सर्वशक्तिमान अल्लाह के पैगंबर के रूप में ईसा मसीह के प्रति बेहद गहरा सम्मान रखते हैं।

बीएचयू में भूत विद्या भी पढ़ाई जाएगी

वाराणसी। क्या आप हमेशा से ही भूतों की दुनिया, अलौकिक या अप्राकृतिक रूप से रहस्यमयी दुनिया की हैरतअंगेज बातों को जानने को लेकर उत्सुक रहे हैं? अगर ऐसा है तो अब आप बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) में भूत विद्या या साइंस ऑफ पैरानॉर्मल का अध्ययन कर सकते हैं, जो इस विषय पर छह महीने का सर्टिफिकेट कोर्स शुरू कर रहा है। भूत विद्या एक मनोचिकित्सा है और छह महीने के सर्टिफिकेट कोर्स में, डॉक्टरों को मनोचिकित्सा संबंधी विकारों और असामान्य कारणों से होने वाली असामान्य मनोवैज्ञानिक स्थितियों के इलाज के लिए उपचार और मनोचिकित्सा के बारे में सिखाया जाएगा, जिसे कई लोग भूत की वजह से होना मानते हैं। पहले बैच की कक्षा जनवरी से शुरू होगी और आयुर्वेद संकाय द्वारा संचालित की जाएगी। भूत के कारण होने वाले मानसिक विकारों और बीमारियों का उपचार बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस) और बैचलर ऑफ मेडिसिन एंड बैचलर ऑफ सर्जरी (एमबीबीएस) डिग्री धारकों को सिखाया जाएगा। आयुर्वेद संकाय की डीन यामिनी भूषण त्रिपाठी के अनुसार, ब्रांच के बारे में डॉक्टरों को औपचारिक शिक्षा प्रदान करने के लिए आयुर्वेद संकाय में भू

उत्तर प्रदेश के महोबा जिले से मंदिर से करोड़ों की अष्टधातु की मूर्तियां चोरी

    महोबा।  उत्तर प्रदेश में महोबा जिले की कुलपहाड़ कोतवाली क्षेत्र में सुगिरा गांव के पांच सौ साल पुराने धनुषधारी मंदिर से मंगलवार रात करोड़ों रुपये कीमत की अष्टधातु की पांच मूर्तियां चोरी हो गई हैं। कुलपहाड़ कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक (एसएचओ) अभिमन्यु सिंह यादव ने बुधवार को बताया कि सुगिरा गांव के करीब पांच सौ साल पुराने धनुषधारी मंदिर के पुजारी कमलापति दीक्षित ने बुधवार सुबह अष्टधातु से बनी भगवान विष्णु की एक बड़ी मूर्ति और राम, सीता, लक्ष्मण व दुर्गा देवी की छोटी मूर्तियों के चोरी होने की रिपोर्ट दर्ज करवाई है। पुजारी के हवाले से उन्होंने बताया कि मंगलवार शाम आरती के समय सभी मूर्तियां मंदिर में थीं। आरती के बाद पुजारी मंदिर का ताला बंद कर अपने घर चला गया और सुबह की आरती के लिए जब मंदिर आया, तब ताला टूटा पड़ा था और मूर्तियां गायब थीं। सिंह ने बताया कि अज्ञात चोरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में चोरी गई मूर्तियों की कीमत लगभग पांच करोड़ रुपये बताई जा रही है।

सीएनटी और एसपीटी विधेयक पास होने से सत्ता से दूर हुई भाजपा

नई दिल्ली।  अगर मुख्यमंत्री रहते हुए रघुबर दास कुछ विवादित विधेयक विधानमंडल से पास न कराते तो विधानसभा चुनाव में भाजपा की स्थिति अच्छी हो सकती थी। ये दो विधेयक छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम (सीएनटी) और संथाल परगना काश्तकारी अधिनियम (एसपीटी) में संशोधन से जुड़े थे। इन दोनों विधेयकों का जिन 28 विधानसभा क्षेत्रों की आदिवासी जनता पर असर पडऩा था, वहां की 26 सीटों पर भाजपा को हार का मुंह देखना पड़ा है। भाजपा सिर्फ खूंटी और तोरपा ही जीत पाई। राज्य में भाजपा से आदिवासियों की नाराजगी के पीछे यही दोनों विधेयक जिम्मेदार माने जा रहे हैं। दरअसल, रघुवर सरकार ने विपक्ष के वॉकआउट के बीच छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम (सीएनटी) और संथाल परगना काश्तकारी अधिनियम (एसपीटी) में संशोधन के लिए बिल पास कराए थे। भूमि अधिग्रहण कानूनों में भी रघुबर सरकार ने संशोधन की कोशिशें की थी। ये कानून कभी आदिवासियों की जमीनों से जुड़े अधिकारों की रक्षा के लिए बने थे।

पांच मंत्री और विधानसभा अध्यक्ष का पद मिलेगा काग्रेस को

नई दिल्ली/रांची। झारखंड विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज कराने वाले महागठबंधन के बीच सरकार में भागीदारी को लेकर सहमति बन गई है। झारखंड के मनोनीत मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बीच बुधवार शाम हुई मुलाकात में यह सहमति बनी।सोनिया और सोरेन की मुलाकात में जो सहमति बनी है, उसके मुताबिक झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के हिस्से मुख्यमंत्री के अलावा पांच मंत्री पद आएंगे और कांग्रेस को भी पांच मंत्री पद मिलेंगे जबकि राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की तरफ से एक मंत्री बनाया जाएगा। उल्लेखनीय है कि राजद इस चुनाव में एक सीट ही जीत पाया है। गौरतलब है कि हेमंत सोरेन 29 दिसंबर को रांची के मोहराबादी मैदान में एक भव्य शपथग्रहण समारोह में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। उन्होंने शपथ ग्रहण समारोह के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को न्यौता दिया और सोनिया ने उनके न्यौते को स्वीकार कर लिया। कांग्रेस अध्यक्ष से सोरेन की मुलाकात के दौरान झारखंड के कांग्रेस प्रभारी आर.पी.एन. सिंह भी मौजूद थे। इससे पहले रांची में मंगलवार को दिनभर गठबंधन दलों के बीच सरकार में हिस्सेदारी को लेकर चर्चा हुई थी। झा

खुफिया एजेंसी आज जामिया आंदोलन की कर रही है जांच

नई दिल्ली।  नागरिकता संशोधन कानून विरोधी आग की तपिश जैसे-जैसे ठंडी हो रही है, वैसे-वैसे जांच और हिंदुस्तानी खुफिया एजेंसियां अपने काम में तेजी से जुट गई हैं। देश की खुफिया एजेंसियों की मदद से दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच, स्पेशल सेल और स्पेशल ब्रांच सबसे पहले वह कारण जानने में जुटीं थीं, जिनसे साफ हो सके कि किन लोगों ने और क्यों सबसे पहले देश की राजधानी दिल्ली के जामिया को ही हिंसा की आग में झोंका? इसका जबाब अब तक हुई पड़ताल में एजेंसियों को हासिल हो चुका है। खुफिया और जांच एजेंसियों की शुरुआती दौर की सामने आ रही रिपोर्ट्स के मुताबिक, भले ही यूपी की राजधानी लखनऊ का नदवा इलाका इन हिंसा में सबसे ज्यादा बर्बाद क्यों न हुआ हो? क्यों न यूपी के पश्चिमी जिलों में सबसे ज्यादा मारकाट, फसाद हुआ हो? यूपी पुलिस ने सबसे पहले पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के दो कारिंदों को क्यों न सबसे पहले गिरफ्तार किया हो? इन तमाम संवेदनशील हालातों में भी दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल और क्राइम ब्रांच इस बात का ध्यान रख रही हैं कि, पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया का राष्ट्रीय मुख्यालय तो दिल्ली के शाहीन बाग, ओखला, जामिया, बटला हाउस

॰ हरियाणा के गुरावडा गांव को किया गया डिजिटल घोषित

चंडीगढ़।  केंद्रीय दूरसंचार, सूचना प्रौद्योगिकी और कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आज रेवाड़ी जिला के गांव गुरावड़ा को डिजीटल गांव घोषित किया और इस अवसर पर अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार देश के 6 लाख गांवों में से 15 प्रतिशत को अगले 4 साल में डिजिटल गांव में बदलेगी, इससे गांव के निवासियों को एक क्लिक पर सरकार की सैकड़ों योजनाएं मिलने लगेंगी और उन्हें शहरों,ब्लॉक,तहसील तक नहीं जाना होगा। उन्होंने इसके साथ ही देशभर में भारत नेट से जुड़े 1.3 लाख गांवों को मार्च 2020 तक फ्री वाई—फाई सेवा देने का भी ऐलान किया। भारत नेट योजना के तहत सरकार देश की ढाई लाख पंचायतों और उससे जुड़े गांवों को ब्रॉडबैंड से जोड़ रही है और वहां पर द्रुत गति वाई—सेवा देने का लक्ष्य रख रही है। रेवाड़ी के गुरावड़ा गांव को सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के निकाय सीएससी, कॉमन सर्विस सेंटर ने डिजिटल गांव में बदला है जहां हर घर को इंटरनेट,वाईफाई कनेक्शन से जोड़ा जा रहा है। दूरसंचार मंत्री ने कहा "हम ढाई लाख ग्राम पंचायतों में से 1.3 लाख पंचायत तक भारत नेट पहुंचा चुके हैं। इसके माध्यम से इंटरनेट सेवाओं को लोकप्