Skip to main content

सांप्रदायिक ध्रुवीकरण से बंगाल को जीतने की फिराक में भाजपा

पश्चिम बंगाल का तृणमूल कांग्रेस शासित राज्य  आजकल सांप्रदायिक राजनीति का का सबसे बड़ा केंद्र है। कभी वामपंथियों का सबसे मजबूत गढ़ माना जाने वाला यह राज्य अब धीरे-धीरे भाजपा का गढ़ बनता जा रहा है। आम चुनाव में 42 में से 18 सीटें जीतने वाली बीजेपी अब प्रांतीय सत्ता में है और ममता बनर्जी को हटाकर वहां अपना झंडा बुलंद करना चाहती है। यह पिछले हफ्ते पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता मे  देश के गृह मंत्री अमित शाह ने संप्रदायवाद और मुस्लिम नफरत की सीमाओं को पार करते हुए एक बयान दिया है। पूरे देश में यह आवाज़  सुनी जा रही है। उन्होंने एनआरसी के मुद्दे पर गैर-मुस्लिमों को आश्वासन दिया है कि कोई भी उन्हें भारत छोड़ने के लिए मजबूर नहीं कर सकता है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि वे मुस्लिमों को छोड़कर देश के सभी संप्रदायों में शामिल हैं। एनआरसी के मुद्दे पर, अमित शाह ने कहा, "हम हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, ईसाई और फारसी शरणार्थी हैं।" आपको विश्वास दिलाना चाहता हूं कि केंद्र सरकार आपको भारत छोड़ने के लिए मजबूर नहीं करेगी। ” लाएंगे जो उनकी भारतीय नागरिकता को सुनिश्चित करेंगे। लेकिन हम यहां एक भी  घुसपैठिए को टिकने नहीं देंगे। '


गृह मंत्री अमित शाह का यह बेहद संदेहास्पद और असंवैधानिक बयान है, जिस पर स्वतंत्र भारत के इतिहास में पहली बार पूरे देश में गहन बहस चल रही है, एक गृह मंत्री ने खुले तौर पर अपने सांप्रदायिक और मुस्लिम विरोधी विचारों को व्यक्त किया है। अपने बयान में, उन्होंने कहा है कि पड़ोसी देशों से पलायन करने वाले गैर-मुस्लिमों को भारतीय नागरिकता दी जानी चाहिए, लेकिन मुसलमानों को उन्हें 'घुसपैठियों' के रूप में निर्वासित करने की चेतावनी दी है। हालांकि, यह मामला नहीं है। यह पहली बार है जब अमित शाह  ने इस तरह का बयान दिया है, लेकिन इससे पहले वह चुनावी रैलियों में विदेशियों से मिलते रहे हैं। लेकिन पहली बार गृह मंत्री के रूप में, उन्होंने इस तरह के सांप्रदायिक और असंवैधानिक भाषा का इस्तेमाल किया है। आम चुनाव प्रचार के दौरान, यह सोचा गया था कि इस तरह की बयानबाजी केवल अपने वोट बैंक को मजबूत करने का एक तरीका था। लेकिन चुनाव खत्म होने के बाद सब ठीक हो जाएगा। लेकिन यह विचार गलत साबित हुआ और मंत्री की कुर्सी पर अमित शाह के बैठने के बाद भी उन्होंने भाजपा अध्यक्ष के रूप में वही भाषा बोली। यह सर्वविदित है कि आंतरिक मंत्री की जिम्मेदारी देश के आंतरिक मंत्री के कंधों पर होती है, और आंतरिक मंत्री का मुख्य कार्य देश के लिए काम करना है। निवासियों के भीतर सुरक्षा की भावना है। लेकिन यह आंतरिक मंत्री किस तरह का मंत्री है जो देश के लोगों में घबराहट, चिंता और चिंता पैदा करने की कोशिश कर रहा है? यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि अमित शाह ने कलकत्ता में यह बयान दिया था। असम के बाद पश्चिम बंगाल में NRC को लागू करने की चर्चा है। पश्चिम बंगाल में, इन चीजों का इतना खतरनाक प्रभाव पड़ा है कि कई लोग भय और आतंक से मौत के मुंह में चले गए हैं। राज्य के लिए आवश्यक कागजात की कमी के कारण पिछले सप्ताह दो लोगों ने भी आत्महत्या की है। नागरिकता साबित नहीं होने से चिंतित और चिंतित थे। पश्चिम बंगाल में NCR से मरने वालों की संख्या बढ़कर आठ हो गई है। कोलकाता नगर निगम और पश्चिम बंगाल के अन्य जिलों के नगरपालिका और पंचायत कार्यालयों के बाहर, उन लोगों की लंबी कतारें हैं जिनके पास अपने शहरी दस्तावेजों को दुरुस्त किया गया है।
हम आपको याद दिलाना चाहेंगे कि इस तरह का बयान MoS भागवत ने भी किया था, जो उम्माह शाह से पहले RSS के प्रमुख थे। केजीबी की एक बैठक के दौरान भागवत ने कहा था कि "जिन हिंदुओं के नाम असम एनआरसी या अन्य एनआरसी नहीं लाए गए हैं" उन्हें परेशान होने की जरूरत नहीं है। असम NRC में 1.2 मिलियन हिंदू हैं, जिनके नाम शामिल नहीं किए गए हैं। मैं आपको आश्वस्त करना चाहता हूं कि NRC की वजह से एक भी हिंदू को देश छोड़ने की आवश्यकता नहीं है। "उन्होंने यह भी कहा," IRS हिंदुओं के साथ है। इस देश में कहीं भी रहने वाले हिंदू। NRC से परेशान होने की आवश्यकता नहीं है। ”यह स्पष्ट होना चाहिए कि असम में विदेशियों की पहचान के लिए सुप्रीम कोर्ट की देखरेख में जो अभियान चलाया गया था, उसमें भाजपा के खिलाफ परिणाम सामने आए हैं। विदेशी घोषित किए गए 19 मिलियन लोगों में से अधिकांश हिंदू हैं। यह आशा की गई थी कि असम स्थिति को देखते हुए भाजपा, HNRC पश्चाताप करेगा लेकिन असम में खाने के बावजूद, भाजपा ने NRC को पश्चिम कोरिया की ओर मोड़ दिया है। जाहिर है, इस मुद्दे को सांप्रदायिक रंग देकर, देश के लोग वास्तविक मुद्दों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। पश्चिम बंगाल के अलावा, योगी सरकार ने पुलिस प्रमुख को उत्तर प्रदेश में अपनी विफलताओं को छिपाने का आदेश दिया है। उन्होंने पुलिस प्रमुख को झुग्गी बस्तियों में बांग्लादेशियों के प्रवेश की खोज करने का आदेश दिया है। क्षेत्र में 'बांग्लादेशियों' की खोज के लिए काम शुरू हो गया है।
उल्लेखनीय है कि गैरकानूनी प्रवासियों की तलाश उन्हीं राज्यों में शुरू की गई है, जहां मुस्लिम आबादी का बहुमत है। असम के बारे में सभी जानते हैं कि कश्मीर के बाद ज्यादातर मुस्लिम और कुल आबादी ह से 34  हैं





Popular posts from this blog

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु

सरधना विधानसभा से ए आई एम आई एम के भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने किया बड़ा ऐलान अब मुसलमान अपमानित नहीं होगा क्योंकि आ गई है उनकी पार्टी

खलील शाह/ साबिर सलमानी की रिपोर्ट  ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन की नेशनल पब्लिक स्कूल लश्कर गंज बाजार सरधना में आयोजित बैठक में भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने कहा कि ए आई एम आई एम पार्टी सरधना विधानसभा क्षेत्र में शोषित,वंचित और मुसलमानों को उनके अधिकार दिलाने के लिए आई है। आज भी सरधना विधानसभा क्षेत्र पिछड़ा हुआ है। राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी साहब ने उत्तर प्रदेश के शोषित और वंचित समाज को इंसाफ दिलाने का बीड़ा उठाया है। ए आई एम आई एम पार्टी ने मुसलमानों को दरी बिछाने वाला से टिकट बांटने वाला बनाने का बीड़ा उठाया है। जिस प्रकार आज सपा के मंचों पर मुसलमानों को अपमानित किया जा रहा है उसका बदला ए आई एम आई एम को वोट देकर सत्ता में हिस्सेदारी लेकर लेना होगा। हाजी आस मोहम्मद ने कहा कि उनके भाई हाजी अमीरुद्दीन ने तमाम उम्र समाजवादी पार्टी को आगे बढ़ाने में गुजार दी और जब किसी बीमारी की वजह से उनका इंतकाल हुआ तो समाजवादी पार्टी का कोई नुमाइंदा भी उनके परिवार की खबर गिरी करने नहीं आया । आजादी से लेकर आज तक मुस्लिम समाज सेकुलर दलों को अपना वोट देता आ रहा है लेकिन उसके बदले मे