Skip to main content

दंगल ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए दंगल बनी इस दशक की ब्लॉकबस्टर फिल्म





 





    •    








 







 

 


बॉलीवुड सुपरस्टार आमिर खान अपने दमदार अभिनय और स्टाइल के कारण सबके चहेते हैं। वैसे तो उनकी हर फिल्म ने दर्शकों को खूब एंटरटेन किया, लेकिन फिल्म दंगल ने उनकी सभी फिल्मों का रिकॉर्ड तोड़ दिया। यही नही बल्कि उनकी फिल्म  'दंगल' इस दशक की सबसे बड़ी ब्लॉकबस्टर फिल्म साबित हो गई है।


जी हां, वैश्विक बॉक्स ऑफिस में 2,000 करोड़ रुपये के आंकड़े को पार कर चुकी फिल्म 'दंगल' याहू इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक दशक की सबसे बड़ी ब्लॉकबस्टर है। नितेश तिवारी द्वारा निर्देशित और आमिर खान अभिनीत यह फिल्म महिला रेसलर गीता फोगाट और बबीता फोगाट की जिंदगी की प्रेरक कहानी पर आधारित है। याहू इंडिया की 'डिकेट इन रिव्यू' की रिपोर्ट के मुताबिक, 'दंगल' के बाद इस श्रेणी में सलमान खान अभिनीत फिल्म 'बजरंगी भाईजान' है और तीसरे स्थान पर आमिर खान की ही फिल्म 'पीके' है। 


 


शीर्ष 10 ब्लॉकबस्टर की इस श्रेणी की अन्य फिल्मों में 'सुल्तान', 'टाइगर जिंदा है', 'धूम 3', 'संजू', 'वॉर', 'चेन्नई एक्सप्रेस' और 'दबंग' शामिल हैं। ये तो रही फिल्मों की बात. अब साल 2019 में सबसे ज्यादा खोजे गए पुरुष सेलेब्रिटी में सलमान खान पहले पायदान पर रहे और उनके बाद इस श्रेणी में अमिताभ बच्चन ने दूसरा और अक्षय कुमार ने तीसरा स्थान हासिल किया है।


इसी क्रम में याहू इंडिया के 'ईयर इन रिव्यु 2019' की महिलाओं की इस लिस्ट में अभिनेत्री सनी लियोनी पहले नंबर पर रहीं और उनके बाद प्रियंका चोपड़ा जोनस और दीपिका पादुकोण क्रमश: दूसरे व तीसरे नंबर पर रहीं। वहीं अभिनेता ऋतिक रोशन मेल स्टाइल आइकॉन और हाल ही में बॉलीवुड में अपनी पारी की शुरुआत करने वाली अभिनेत्री सारा अली खान साल की फीमेल स्टाइल आइकॉन रहीं।याहू इंडिया ने इन सभी निष्कर्षो के बारे में कहा कि ये परिणाम यूजर्स के रुचि पैटर्न के विश्लेषण पर आधारित है, जिसे उन्होंने खुद ढूंढ़ा, पढ़ा, दूसरों को इसके बारे में बताते हुए साझा किया है।









Popular posts from this blog

भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा-गादरे

मेरठ:-भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा। Raju Gadre राजुद्दीन गादरे सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता ने भारतीयों में पनप रही द्वेषपूर्ण व्यवहार आपसी सौहार्द पर अफसोस जाहिर किया और अपने वक्तव्य में कहा कि देश की जनता को गुमराह कर देश की जीडीपी खत्म कर दी गई रोजगार खत्म कर दिये  महंगाई बढ़ा दी शिक्षा से दूर कर पाखंडवाद अंधविश्वास बढ़ाया जा रहा है। षड्यंत्रकारियो की क्रोनोलोजी को समझें कि हिंदुत्व शब्द का सम्बन्ध हिन्दू धर्म या हिन्दुओं से नहीं है। लेकिन षड्यंत्रकारी बदमाशी करते हैं। जैसे ही आप हिंदुत्व की राजनीति की पोल खोलना शुरू करते हैं यह लोग हल्ला मचाने लगते हैं कि तुम्हें सारी बुराइयां हिन्दुओं में दिखाई देती हैं? तुममें दम है तो मुसलमानों के खिलाफ़ लिख कर दिखाओ ! जबकि यह शोर बिलकुल फर्ज़ी है। जो हिंदुत्व की राजनीति को समझ रहा है, दूसरों को उसके बारे में समझा रहा है, वह हिन्दुओं का विरोध बिलकुल नहीं कर रहा है ना ही वह यह कह रहा है कि हिन्दू खराब होते है और मुसलमान ईसाई सिक्ख बौद्ध अच्छे होते हैं! हिंदुत्व एक राजनैतिक शब्द है ! हिं

समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन

 महेश्वरी देवी की रिपोर्ट  खबर बहेड़ी से  है, आज दिनांक 31 मार्च 2024 को समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन मधुर मिलन बारात घर बहेड़ी में संपन्न हुआ। जिसमें मुख्य अतिथि लोकसभा पीलीभीत प्रत्याशी  भगवत सरन गंगवार   रहे तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश महासचिव स्टार प्रचारक विधायक (पूर्व मंत्री )  अताउर रहमान  ने की , कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए  अता उर रहमान  ने कहा की प्रदेश में महंगाई बेरोजगारी चरम पर है और किसान बेतहाशा परेशान है उनके गन्ने का भुगतान समय पर न होने के कारण आत्महत्या करने को मजबूर हैं। उन्होंने मुस्लिम भाइयों को संबोधित करते हुए कहा की सभी लोग एकजुट होकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार को हटाकर एक सुशासन वाली सरकार (इंडिया गठबंधन की सरकार) बनाने का काम करें और भगवत सरन गंगवार को बहेड़ी विधानसभा से भारी मतों से जिताकर माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी के हाथों को मजबूत करें | रहमान जी ने अपने सभी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारी से कहा कि वह ज्यादा से ज्यादा इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी को वोट डलवाने का काम करें और यहां से भगवत सरन गंगवार को भ

ज़मीनी विवाद में पत्रकार पर 10 लाख रंगदारी का झूठे मुकदमें के विरुद्ध एस एस पी से लगाई जाचं की गुहार

हम करेंगे समाधान" के लिए बरेली से रफी मंसूरी की रिपोर्ट बरेली :- यह कोई नया मामला नहीं है पत्रकारों पर आरोप लगना एक परपंरा सी बन चुकी है कभी राजनैतिक दबाव या पत्रकारों की आपस की खटास के चलते इस तरह के फर्जी मुकदमों मे पत्रकार दागदार और भेंट चढ़ते रहें हैं।  ताजा मामला   बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान पत्रकार का है जो विभिन्न समाचार पत्रों से जुड़े हैं उन पर रंगदारी मांगने का मुक़दमा दर्ज कर दिया गया है। इस तरह के बिना जाचं करें फर्जी मुकदमों से तो साफ ज़ाहिर हो रहा है कि चौथा स्तंभ कहें जाने वाले पत्रकारों का वजूद बेबुनियाद और सिर्फ नाम का रह गया है यही वजह है भूमाफियाओं से अपनी ज़मीन बचाने के लिए एक पत्रकार व दो अन्य प्लाटों के मालिकों को दबाव में लेने के लिए फर्जी रगंदारी के मुकदमे मे फसांकर ज़मीन हड़पने का मामला बरेली के थाना बारादरी से सामने आया हैं बताते चले कि बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान के मुताबिक उनका एक प्लाट थाना बारादरी क्षेत्र के रोहली टोला मे हैं उन्हीं के प्लाट के बराबर इमरान व नयाब खां उर्फ निम्मा का भी प्लाट हैं इसी प्लाट के बिल्कुल सामन