Skip to main content

झारखंड चुनाव नरेंद्र मोदी की हार







आक्रामक चेहरे के साथ-साथ हिंदुत्व के एजेंडे को पेश करना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए काम नहीं कर रहा है. सोमवार को आए झारखंड चुनाव के नतीज़ों ने इसे साबित भी कर दिया है. कल्याणकारी कामों के साथ-साथ चायवाल टू चौकीदार के तौर पर पीड़ित बनना काफी जानलेवा थी जिसने प्रधानमंत्री मोदी को पहले कार्यकाल में जीत दिलाई, राज्य-दर-राज्य विजय हासिल की और 2019 के लोकसभा चुनाव में फिर से  शानदार जीत पाई. लेकिन ये दोनों हीं फैक्टर प्रधानमंत्री के दूसरे कार्यकाल से गायब दिखती नज़र आ रही है.














सोमवार को, झारखंड पिछले कुछ महीनों में तीसरा राज्य है जहां से नरेंद्र मोदी और अमित शाह के नेतृत्व वाली भाजपा को निराशाजनक परिणाम मिले हैं. पार्टी झारखंड और महाराष्ट्र की सत्ता से बाहर हो गई है. हरियाणा में जैसे-तैसे ही सरकार बन पाई है.


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के पहले कार्यकाल और वर्तमान में काफी फर्क है. 2014-2019 के बीच की कल्याणकारी और गरीबों की सरकार पर हिंदुत्व और अखंड भारत का जुनून सवार हो गया है।पीड़ित मोदी, जिसपर इसलिए हमला किया जा रहा था कि वो बाहरी हैं जिसका उद्देश्य सब कुछ ठीक कर भारत की ऐतिहासिक गलतियों को सुधारना  हो गया है. वो भी तब जबकि भारत की अर्थव्यवस्था लगातार फिसलती जा रही है.


कल्याणकारी योजनाएं


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पहले कार्यकाल का एक मुख्य उद्देश्य – ग्रामीण और गरीब उन्मुख विकास की तरफ था. ग्रामीणों को घर मिलने से लेकर उज्ज्वला, जनधन योजना, सड़कों का निर्माण, विद्युतीकरण, ग्राम स्वराज अभियान, कौशल विकास और स्वच्छ भारत अभियान के तहत बनने वाले शौचालय, साथ हीं सांसदों द्वारा गांव को गोद लेने के प्रस्ताव सहित मोदी सरकार ने ग्रामीण लोगों और गरीब मतदाताओं को केंद्र में रखा था.


इसने भाजपा को चुनाव दर चुनाव जिताने में मदद की जिसके साथ मोदी की साख प्रसिद्धि भी बढ़ती गई. वास्तव में उनके पास 56 इंच का सीना है लेकिन साथ हीं उन्होंने ये भी संदेश देने की पुरज़ोर कोशिश की कि उनके पास भारत के गरीब लोगों के लिए भी दिल में जगह ।शुरुआत में नोटबंदी को ऐसे मज़बूती से प्रदर्शित किया गया कि ये अमीर जनता को परेशानी देने वाला है जिससे अंत में भारत के पिछड़े और कमज़ोर तबके को हीं फायदा मिलेगा.जमीन पर ग्रामीण गरीबों पर ध्यान देना, नरेंद्र मोदी की भाजपा के लिए सफल भी साबित हुआ. जैसे राजस्थान हो या असम. उत्तर प्रदेश, त्रिपुरा, असम में हुए विधानसभा चुनाव और अंत में लोकसभा चुनाव में मिली जीत से एक गूंज सुनाई पड़ी- 'मोदीजी ने हमें घर, गैस, सड़क दी है.'


वास्तव में 2016 में हुए सर्जिकल स्ट्राइक, फरवरी 2019 में हुए बालाकोट ऑपरेशन के साथ-साथ एंटी-पाकिस्तान मूड और मोदी की विजय छवि ने भाजपा को आगे बढ़ाने में बड़ी भूमिका निभाई. लेकिन ये केवल बढ़िया व्यंजन के ऊपर की गई सजावट की तरह है जिसे मोदी ने बड़ी ही सावधानी से तैयार किया था- जिसके मूल में गरीब हितैषी और जनकल्याण की सरकार थीं, जिसका इस्तेमाल सामग्री के तौर पर किया गया. जिसके तहत नोटबंदी और जीएसटी को सही तरह से लागू न कर पाने के सभी प्रभाव ढंक गए.


भाजपा को राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ चुनाव में हार मिली जिसमें भाजपा नेतृत्व के प्रति असंतोष काफी बड़ी वज़ह थी. दिल्ली चुनाव के मामले में मुख्यमंत्री पद की खराब पसंद भारी पड़ी. लेकिन जब 2019 के लोकसभा चुनाव हुए तो भाजपा ने सभी राज्यों में जीत हासिल की और उससे भी कहीं ज्यादा.


मई में मिली शानदार जीत के बाद, हालांकि चीज़ें बिल्कुल बदल गई हैं. कल्याणकारी और ग्रामीणों के लिए जो योजनाएं थी वो अब धुंधली पड़ चुकी है. क्या आपने प्रधानमंत्री मोदी, उनके मंत्रियों और दूसरे भाजपा नेताओं को उज्ज्वला योजना के बारे में बोलते सुना है. केवल अनुच्छेद 370, अयोध्या, नागरकिता संशोधन कानून, एनआरसी हीं पूरे परिदृश्य में हैं और इन्हीं पर सरकार भी पूरा ध्यान लगा रही है.


पीड़ित से विजेता तक


मोदी 2014-2019 तक पीड़ित थे. एक चायवाला जिसने वंशवादियों, परिवारवाद की जाल के बीच से अपने लिए राह बनाई. उनपर चौकीदार और नीच राजनीतिज्ञ के नाम से हमला किया गया. और एक कामदार ने नामदार के खिलाफ चुनाव लड़ा.


नरेंद्र मोदी ने इन सब चीज़ों का इस्तेमाल किया और सभी ने काम भी किया।जिस आक्रमकता और चुनौतीपूर्ण तरीके से उन्होंने अपने इस कार्यकाल में काम किया है, उस तरह से उनके लिए पीड़ित के तौर पर खुद को पेश करने की कम हीं जगह बच जाती है. मोदी और अमित शाह उस मुकाम पर हैं जहां उन्हें लग रहा है कि वो जो भी कर रहे हैं वो सब ठीक हैअनुच्छेद 370 को हटाकर जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस ले लेने का फैसला अचानक से किया गया. लेकिन ये केवल एक शुरुआत थी. तीन तलाक को आपराधिक बनाकर, नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी को पूरे देश में लागू करना, मोदी और उनकी सेना के एजेंडे को स्पष्ट करती है. जिसे सुप्रीम कोर्ट के अयोध्या फैसले से मज़बूत मिली है जिस आदेश में कहा गया कि सरकार भरोसा विकसित करें और साथ हीं विवादित ज़मीन पर राम मंदिर का निर्माण करें.


नरेंद्र मोदी 2.0 पीड़ित नहीं रह गई है. वो अब अपने घर में आक्रामक है. पिछले कार्यकाल में उनकी सारी लड़ाई पाकिस्तान में निर्देशित की गई थी लेकिन अब यह ज्यादातर देश के भीतर हो रही है.


इसका मतलब यह भी है कि सभी विधानसभा चुनावों में राम मंदिर, कश्मीर, असम, एनआरसी और हिंदू शरणार्थी प्रमुख बिंदु थे- जो पहले कल्याणकारी और गरीब केंद्रित था.


मतदाताओं के सामने अब नरेंद्र मोदी एक नए अवतार में हैं, जिसे वो अभी भी कबूल नहीं पाई है. एक आक्रामक हिंदू राष्ट्रवादी नेता अपने भाजपा के कोर बेस से अपील कर सकते हैं लेकिन अब वो मोदी 1.0 के समान नहीं है जिसमें एक स्व-निर्मित, बाहरी व्यक्ति सभी प्रतिकूल प्रभावों को खत्म कर आम लोगों को बेहतर जीवन देने की कोशिश कर रहा था.









Popular posts from this blog

भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा-गादरे

मेरठ:-भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा। Raju Gadre राजुद्दीन गादरे सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता ने भारतीयों में पनप रही द्वेषपूर्ण व्यवहार आपसी सौहार्द पर अफसोस जाहिर किया और अपने वक्तव्य में कहा कि देश की जनता को गुमराह कर देश की जीडीपी खत्म कर दी गई रोजगार खत्म कर दिये  महंगाई बढ़ा दी शिक्षा से दूर कर पाखंडवाद अंधविश्वास बढ़ाया जा रहा है। षड्यंत्रकारियो की क्रोनोलोजी को समझें कि हिंदुत्व शब्द का सम्बन्ध हिन्दू धर्म या हिन्दुओं से नहीं है। लेकिन षड्यंत्रकारी बदमाशी करते हैं। जैसे ही आप हिंदुत्व की राजनीति की पोल खोलना शुरू करते हैं यह लोग हल्ला मचाने लगते हैं कि तुम्हें सारी बुराइयां हिन्दुओं में दिखाई देती हैं? तुममें दम है तो मुसलमानों के खिलाफ़ लिख कर दिखाओ ! जबकि यह शोर बिलकुल फर्ज़ी है। जो हिंदुत्व की राजनीति को समझ रहा है, दूसरों को उसके बारे में समझा रहा है, वह हिन्दुओं का विरोध बिलकुल नहीं कर रहा है ना ही वह यह कह रहा है कि हिन्दू खराब होते है और मुसलमान ईसाई सिक्ख बौद्ध अच्छे होते हैं! हिंदुत्व एक राजनैतिक शब्द है ! हिं

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन

 महेश्वरी देवी की रिपोर्ट  खबर बहेड़ी से  है, आज दिनांक 31 मार्च 2024 को समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन मधुर मिलन बारात घर बहेड़ी में संपन्न हुआ। जिसमें मुख्य अतिथि लोकसभा पीलीभीत प्रत्याशी  भगवत सरन गंगवार   रहे तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश महासचिव स्टार प्रचारक विधायक (पूर्व मंत्री )  अताउर रहमान  ने की , कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए  अता उर रहमान  ने कहा की प्रदेश में महंगाई बेरोजगारी चरम पर है और किसान बेतहाशा परेशान है उनके गन्ने का भुगतान समय पर न होने के कारण आत्महत्या करने को मजबूर हैं। उन्होंने मुस्लिम भाइयों को संबोधित करते हुए कहा की सभी लोग एकजुट होकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार को हटाकर एक सुशासन वाली सरकार (इंडिया गठबंधन की सरकार) बनाने का काम करें और भगवत सरन गंगवार को बहेड़ी विधानसभा से भारी मतों से जिताकर माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी के हाथों को मजबूत करें | रहमान जी ने अपने सभी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारी से कहा कि वह ज्यादा से ज्यादा इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी को वोट डलवाने का काम करें और यहां से भगवत सरन गंगवार को भ