Skip to main content

खरबूजा बनाम छुरी, एनआरसी एक छलावा है।

खरबूजा बनाम छुरी -एनआरसी एक छलावा है 
आज खरबूजा जनता है और छुरी सरकार । 


एस. ज़ेड.मलिक(पत्रकार) 


बढ़ते बेरोज़गारी, भ्रटाचार, महंगाई, और भारत की गिरती आर्थीक व्यावस्था को छुपाने के लिये भारत सरकार साम, दाम, दण्ड, भेद कि नीति अपना कर तमाम हरबे इस्तेमाल कर रही है। छुरी खरबूजे पर गिरे या खरबूजा छुरी पर गिरे हर हाल में नुक्सात जनता का होना है । 
भारत की सत्ता गलत लोगों के हाँथ में भारत की जनता ने सौंप दिया है इसका परिणाम भी भारत की आम जनता को ही भुगतना पड़ेगा और अन्य देशों की तुलना में सब से अधिक बेरोज़गारी, भ्रटाचार, महंगाई, के रूप में भुगत रही है। 
 बेरोज़गारी, भ्रटाचार, महंगाई, इस मुद्दे को छिपाने के लिये यह तमाम हरबा इस्तेमाल किया जा रहा है जैसे एनआरसी, तीन तलाक़, कैब, 370, सैनिकों पर हमला, सर्जिकल स्ट्राइक, इत्यादि का हंगामा खड़ा कर के देश मे बढ़ते बेरोज़गारी, महंगाई, भर्ष्ट्राचार, जैसे मुद्दों को दबा दिया । 
इसलिये की वर्तमान सत्ताधारियों ने यह सारी सीख कांग्रेसियो से 70 वर्षो में हांसिल कर यह समझ चुके की भारत की 80 प्रतिशत जनता अशिक्षित, अन्धविश्वासीय, और भावुक है जिसका लाभ धर्म का डर दिखा कर आसानी से उठाया जा सकता है और आज वर्तमान मनुवादी भाजपाई सरकार जनता को धर्म का घूँट पिला कर अमीरी और गरीबी की खाई को गहरी बना दिया है । गरीब , गरीबी की इतने गहरी खाई में जा गिरे है कि उन्हें उस खाई से ऊपर आना मुश्किल से हो गया है और मनुवादी इतने अमीर और मज़बूत हो गए हैं कि वह किसी गरीब की उनके गरीबी की खाई से निकलने ही नहीं देंगें । 
इसलिये अब भारत को मनुवादी मुक्त अमीरी रेखा बनाने कर सभी को समान अधिकार दिलाने के लिये एक क्रांति लानी होगी । 
 अभी ऐसी कौनसी आफत आ गयी थी जिसके कारण आज आनन फानन में एनआरसी का बिल पास कराना पड़ा ? 😢😢😢 भाजपा सरकार अपने 6 सालों के कार्यकाल में  बढ़ती बेरोज़गारी , भरष्ट्राचा, महंगाई को समाप्त करना तो दूर इस पर चर्चा भी नही किया जब जब चर्चा करने की बात उठाई गई तब तब कोई न् कोई स्कैण्डल खड़ा कर आम जनता का रुझान हिन्दू मुसलमान , गाये रक्षा, महिलाओं बालिकाओं, के साथ दुष्कर्म और फिर उसकी हत्या यह तमाम मामले पर हंगामा कर ध्यान भटकाती रही । और भारत के जनता की गढ़ी कमाई माल्या, नीरव मोदी , इधर उधर, सारे गुजराती अडानी, अम्बानी , रामदेव पतञ्जलि जैसे भारत कुछ अपने विशेष लोगों को बांट दिया और बांट रहे हैं, जनता हिन्दू शब्दों के जाल में उलझ कर इतनी अंधभक्त, हो गई कि अपनी बर्बादी अपनी खस्ताहाली ही भूल गयी ।  
लेकिन सवाल है कि जनता को कैसे समझाया जाये की भारत मे लोकतंत्र के नाम पर भरष्ट्राचारी धनपति बाबा साहेब के संविधान का धज्जियां उड़ा रहे है और पढ़े लिखे स्वार्थी लोग सांसद , विधायक , मोदिशाह एंड कम्पनी भारत सरकार लिमिटेड में मालिक का साथ दे रहे हैं यही सब से बड़ा अफसोस है । करना क्या - जनता में सद्बुद्धि आने की प्रतीक्षा करनी होगी ।। 
 
एस. ज़ेड.मलिक(पत्रकार)


Popular posts from this blog

भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा-गादरे

मेरठ:-भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा। Raju Gadre राजुद्दीन गादरे सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता ने भारतीयों में पनप रही द्वेषपूर्ण व्यवहार आपसी सौहार्द पर अफसोस जाहिर किया और अपने वक्तव्य में कहा कि देश की जनता को गुमराह कर देश की जीडीपी खत्म कर दी गई रोजगार खत्म कर दिये  महंगाई बढ़ा दी शिक्षा से दूर कर पाखंडवाद अंधविश्वास बढ़ाया जा रहा है। षड्यंत्रकारियो की क्रोनोलोजी को समझें कि हिंदुत्व शब्द का सम्बन्ध हिन्दू धर्म या हिन्दुओं से नहीं है। लेकिन षड्यंत्रकारी बदमाशी करते हैं। जैसे ही आप हिंदुत्व की राजनीति की पोल खोलना शुरू करते हैं यह लोग हल्ला मचाने लगते हैं कि तुम्हें सारी बुराइयां हिन्दुओं में दिखाई देती हैं? तुममें दम है तो मुसलमानों के खिलाफ़ लिख कर दिखाओ ! जबकि यह शोर बिलकुल फर्ज़ी है। जो हिंदुत्व की राजनीति को समझ रहा है, दूसरों को उसके बारे में समझा रहा है, वह हिन्दुओं का विरोध बिलकुल नहीं कर रहा है ना ही वह यह कह रहा है कि हिन्दू खराब होते है और मुसलमान ईसाई सिक्ख बौद्ध अच्छे होते हैं! हिंदुत्व एक राजनैतिक शब्द है ! हिं

समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन

 महेश्वरी देवी की रिपोर्ट  खबर बहेड़ी से  है, आज दिनांक 31 मार्च 2024 को समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन मधुर मिलन बारात घर बहेड़ी में संपन्न हुआ। जिसमें मुख्य अतिथि लोकसभा पीलीभीत प्रत्याशी  भगवत सरन गंगवार   रहे तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश महासचिव स्टार प्रचारक विधायक (पूर्व मंत्री )  अताउर रहमान  ने की , कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए  अता उर रहमान  ने कहा की प्रदेश में महंगाई बेरोजगारी चरम पर है और किसान बेतहाशा परेशान है उनके गन्ने का भुगतान समय पर न होने के कारण आत्महत्या करने को मजबूर हैं। उन्होंने मुस्लिम भाइयों को संबोधित करते हुए कहा की सभी लोग एकजुट होकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार को हटाकर एक सुशासन वाली सरकार (इंडिया गठबंधन की सरकार) बनाने का काम करें और भगवत सरन गंगवार को बहेड़ी विधानसभा से भारी मतों से जिताकर माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी के हाथों को मजबूत करें | रहमान जी ने अपने सभी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारी से कहा कि वह ज्यादा से ज्यादा इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी को वोट डलवाने का काम करें और यहां से भगवत सरन गंगवार को भ

ज़मीनी विवाद में पत्रकार पर 10 लाख रंगदारी का झूठे मुकदमें के विरुद्ध एस एस पी से लगाई जाचं की गुहार

हम करेंगे समाधान" के लिए बरेली से रफी मंसूरी की रिपोर्ट बरेली :- यह कोई नया मामला नहीं है पत्रकारों पर आरोप लगना एक परपंरा सी बन चुकी है कभी राजनैतिक दबाव या पत्रकारों की आपस की खटास के चलते इस तरह के फर्जी मुकदमों मे पत्रकार दागदार और भेंट चढ़ते रहें हैं।  ताजा मामला   बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान पत्रकार का है जो विभिन्न समाचार पत्रों से जुड़े हैं उन पर रंगदारी मांगने का मुक़दमा दर्ज कर दिया गया है। इस तरह के बिना जाचं करें फर्जी मुकदमों से तो साफ ज़ाहिर हो रहा है कि चौथा स्तंभ कहें जाने वाले पत्रकारों का वजूद बेबुनियाद और सिर्फ नाम का रह गया है यही वजह है भूमाफियाओं से अपनी ज़मीन बचाने के लिए एक पत्रकार व दो अन्य प्लाटों के मालिकों को दबाव में लेने के लिए फर्जी रगंदारी के मुकदमे मे फसांकर ज़मीन हड़पने का मामला बरेली के थाना बारादरी से सामने आया हैं बताते चले कि बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान के मुताबिक उनका एक प्लाट थाना बारादरी क्षेत्र के रोहली टोला मे हैं उन्हीं के प्लाट के बराबर इमरान व नयाब खां उर्फ निम्मा का भी प्लाट हैं इसी प्लाट के बिल्कुल सामन