Skip to main content

खुदा ने बंद होने से 2020 में जा सकती है नौकरियां







मार्च 2020 तक गैर-निजी उपभोग वाली चार क्रोमाइट और सात मैंगनीज खदानें बंद होने जा रही हैं। इस वजह से खनन उद्योग को बड़ी संख्या में नौकरी जाने की आशंका नजर आ रही है। भारतीय खनिज उद्योग महासंघ के अध्यक्ष सुनील दुग्गल ने बिजनेस स्टैंडर्ड को बताया कि इन खदानों में तकरीबन 90 प्रतिशत श्रमिक अनुबंध के आधार पर हैं। इनमें प्रवासी श्रमिक भी शामिल हैं।हालांकि अभी केवल शुरुआत ही है क्योंकि निजी खनन कंपनियों के कुल 329 पट्टे 31 मार्च, 2020 को समाप्त होने वाले हैं। इनमें 10 राज्यों की 48 सक्रिय और 281 निष्क्रिय खदानें शामिल हैं। इन सक्रिय खदानों में से 50 प्रतिशत ओडिशा में हैं और निष्क्रिय खदानों का सबसे बड़ा हिस्सा गोवा में हैं जहां ऐसी 184 खदान हैं। कर्नाटक में ऐसी करीब 42 खदान हैं।


 




दुग्गल ने कहा कि इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि नया मालिक (नीलामी के बाद) सभी श्रमिकों को खदान स्थल पर रोजगार देगा। यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि खदानों में कितना प्रौद्योगिक विकास इस्तेमाल किया जाएगा जिससे रोजगार सीमित किया जा सके।फिमी ने कहा कि चूंकि प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार का अनुपात 1:10 है, इसलिए 31 मार्च, 2020 तक अनुमानित रूप से 2,50,000 प्रत्यक्ष नौकरी जाने की आशंका हैं। संयुक्त रूप से यह नुकसान 25 लाख या इससे भी ज्यादा तक पहुंचने की आशंका है। इसके अलावा एक बार खनन रुक जाए तो खनन कार्य फिर से शुरू करने में महीनों लग जाते हैं।दुग्गल ने कहा कि देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में खनन उद्योग का योगदान लगातार कम हो रहा है। वर्तमान में यह केवल तकरीबन 1.53 प्रतिशत ही है, जबकि ऑस्टे्रलिया और दक्षिण अफ्रीका जैसे खनिज समृद्ध देशों में यह सात से 7.5 प्रतिशत है। देश में 58,638 करोड़ रुपये मूल्य का खनिज उत्पादन होता है, जबकि 4,34,925 करोड़ रुपये मूल्य का खनिज आयात होता है जो लगभग आठ से नौ गुना अधिक है। इसके अलावा भारी निर्यात शुल्क लगाए जाने के कारण भारतीय खनिक कई खनिजों का निर्यात नहीं कर पाते हैं।बुनियादी ढांचे और घरेलू विनिर्माण को ध्यान में रखते हुए भारत ने वर्ष 2030-31 तक 30 करोड़ टन इस्पात उत्पादन लक्ष्य रखा हुआ है। इसका मतलब यह है कि उद्योग को अगले 11 सालों में 14.2 करोड़ टन की मौजूदा क्षमता को 2.11 गुना बढ़ाकर 30 करोड़ टन करने की जरूरत है।




 




लौह-मिश्र धातु उद्योग में प्रति वर्ष कुल 51.5 लाख टन उत्पादन क्षमता होने के बावजूद लौह-क्रोम उत्पादन 10 लाख टन, लौह-मैंगनीज उत्पादन 5.2 लाख टन और लौह-सिलिकन उत्पादन 0.9 लाख टन के स्तर पर स्थिर रहने के कारण उद्योग को पिछले पांच साल में (2013 से 2018 तक) सुस्ती का सामना करना पड़ा है।विशेषज्ञों ने कहा कि लौह-मिश्र धातु उत्पादन खनन तथा इस्पात और मिश्र धातुओं के बीच निर्माण शृंखला का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा होता है और बिना लौह-मिश्र धातुओं के किसी भी दर्जे वाला इस्पात उत्पादन नहीं किया जाता है। फिमी ने कहा कि अप्रैल 2015 तक भारत के पास 49.6 करोड़ टन मैंगनीज अयस्क और 34.4 करोड़ टन क्रोम अयस्क क्षमता थी। हालांकि फिलहाल देश इन खनिजों का आयात कर रहा है।


 




 





Popular posts from this blog

भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा-गादरे

मेरठ:-भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा। Raju Gadre राजुद्दीन गादरे सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता ने भारतीयों में पनप रही द्वेषपूर्ण व्यवहार आपसी सौहार्द पर अफसोस जाहिर किया और अपने वक्तव्य में कहा कि देश की जनता को गुमराह कर देश की जीडीपी खत्म कर दी गई रोजगार खत्म कर दिये  महंगाई बढ़ा दी शिक्षा से दूर कर पाखंडवाद अंधविश्वास बढ़ाया जा रहा है। षड्यंत्रकारियो की क्रोनोलोजी को समझें कि हिंदुत्व शब्द का सम्बन्ध हिन्दू धर्म या हिन्दुओं से नहीं है। लेकिन षड्यंत्रकारी बदमाशी करते हैं। जैसे ही आप हिंदुत्व की राजनीति की पोल खोलना शुरू करते हैं यह लोग हल्ला मचाने लगते हैं कि तुम्हें सारी बुराइयां हिन्दुओं में दिखाई देती हैं? तुममें दम है तो मुसलमानों के खिलाफ़ लिख कर दिखाओ ! जबकि यह शोर बिलकुल फर्ज़ी है। जो हिंदुत्व की राजनीति को समझ रहा है, दूसरों को उसके बारे में समझा रहा है, वह हिन्दुओं का विरोध बिलकुल नहीं कर रहा है ना ही वह यह कह रहा है कि हिन्दू खराब होते है और मुसलमान ईसाई सिक्ख बौद्ध अच्छे होते हैं! हिंदुत्व एक राजनैतिक शब्द है ! हिं

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन

 महेश्वरी देवी की रिपोर्ट  खबर बहेड़ी से  है, आज दिनांक 31 मार्च 2024 को समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन मधुर मिलन बारात घर बहेड़ी में संपन्न हुआ। जिसमें मुख्य अतिथि लोकसभा पीलीभीत प्रत्याशी  भगवत सरन गंगवार   रहे तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश महासचिव स्टार प्रचारक विधायक (पूर्व मंत्री )  अताउर रहमान  ने की , कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए  अता उर रहमान  ने कहा की प्रदेश में महंगाई बेरोजगारी चरम पर है और किसान बेतहाशा परेशान है उनके गन्ने का भुगतान समय पर न होने के कारण आत्महत्या करने को मजबूर हैं। उन्होंने मुस्लिम भाइयों को संबोधित करते हुए कहा की सभी लोग एकजुट होकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार को हटाकर एक सुशासन वाली सरकार (इंडिया गठबंधन की सरकार) बनाने का काम करें और भगवत सरन गंगवार को बहेड़ी विधानसभा से भारी मतों से जिताकर माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी के हाथों को मजबूत करें | रहमान जी ने अपने सभी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारी से कहा कि वह ज्यादा से ज्यादा इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी को वोट डलवाने का काम करें और यहां से भगवत सरन गंगवार को भ