Skip to main content

महाराष्ट्र के हक का 40000 करोड कहां


महाराष्ट्र के हक का ४० हजार करोड़ कहां





अस्सी घंटों की असली चालीसा : भाजपा सांसद ने ही खोली फसवणूक सरकार की पोल्!
 सांसद के मुंह से निकला सच
 फंड बचाने के लिए ड्रामा
 बहुत पहले से तय था नाटक


जब मन में खोट हो तो एक न एक दिन सच मुंह पर आ ही जाता है। महाराष्ट्र के किसानों और व्यापारियों से लेकर आम जनता तक को त्रस्त करनेवाली तत्कालीन देवेंद्र `फसवणूक' सरकार की एक और पोल खुद भाजपा के ही सांसद ने खोल दी है। अपने बयान में भाजपा सांसद ने महाराष्ट्र के हक के ४० हजार करोड़ रुपए की असली `चालीसा' का रहस्योद्घाटन करते हुए बताया कि सिर्फ अस्सी घंटों के लिए आखिर फडणवीस मुख्यमंत्री क्यों बने थे? सांसद का दावा है कि केवल इसी ४० हजार करोड़ के लिए रातोंरात फडणवीस को मुख्यमंत्री बनाने की जद्दोजहद की गई वरना ये पैसा भावी सरकार को मिल जाता और केंद्र सरकार ऐसा नहीं चाहती थी।
भारतीय जनता पार्टी के सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री अनंत हेगड़े का दावा है कि महाराष्ट्र में भाजपा ने फडणवीस को ४० हजार करोड़ का फंड बचाने के लिए मुख्यमंत्री बनाकर ड्रामा किया। हेगड़े ने कहा है कि आप सभी जानते हैं कि महाराष्ट्र में हमारा आदमी (फडणवीस) ८० घंटे के लिए मुख्यमंत्री बना और उसके बाद इस्तीफा दे दिया। उन्होंने यह नाटक क्यों किया? क्या हमें नहीं पता था कि हमारे पास बहुमत नहीं था और फिर भी वह सीएम बन गए? यह वह सवाल है जो हर कोई पूछता है।' हेगड़े ने कहा, `सीएम के पास करीब ४० हजार करोड़ की केंद्र की राशि थी। अगर कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस और शिवसेना सत्ता में आती तो वे ४० हजार करोड़ का दुरुपयोग करते। यही कारण है कि केंद्र सरकार के इस पैसे को विकास के लिए इस्तेमाल में नहीं लाया जा सके, इसके लिए ड्रामा किया गया।' उन्होंने कहा, `बहुत पहले से भाजपा की यह योजना थी इसलिए यह तय किया गया कि एक नाटक होना चाहिए और इसी के तहत फडणवीस ने सीएम पद की शपथ ली। शपथ लेने के १५ घंटे के अंदर फडणवीस ने सभी ४० हजार करोड़ रुपयों को उस जगह पर पहुंचा दिया जहां से वो आए थे। इस तरह फडणवीस ने सारा पैसा वापस केंद्र सरकार को देकर बचा लिया। कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत ने कहा कि भाजपा सांसद ने खुद यह खुलासा किया है कि ८० घंटे की सरकार क्यों बनाई गई थी? यह गंभीर विषय है। इस बात की सच्चाई महाराष्ट्र की जनता के सामने आनी चाहिए कि आखिर देवेंद्र फडणवीस ने ऐसा क्यों किया? देश का कोई भी मुख्यमंत्री इस तरह की घटना को अंजाम नहीं दिया होगा, जो देवेंद्र फडणवीस ने दिया। इसका खुलासा फडणवीस को करना चाहिए। फडणवीस के खुलासा पर विश्वास करना भी मुश्किल है? मुंबई राकांपा अध्यक्ष व प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा कि महाराष्ट्र में ४० हजार करोड़ रुपए आने के बाद वापस भेजना संभव नहीं है, अगर ४० हजार करोड़ रुपए आकर वापस गया होगा तो महाराष्ट्र की जनता इसे सहन नहीं करेगी। यह केवल महाराष्ट्र ही नहीं देश के अन्य राज्यों पर भी अन्याय है। फडणवीस तो चले गए, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी इस मामले में इस्तीफा देना पड़ेगा, ऐसा मत नवाब मलिक ने व्यक्त किया। केंद्र को ४० हजार करोड़ रुपए की निधि वापस भेजनेवाले फडणवीस बहुमत न होते हुए मुख्यमंत्री थे, ऐसा दावा भाजपा सांसद हेगड़े ने किया है। हेगड़े के दावे पर प्रतिक्रिया देते हुए शिवसेना विधायक अब्दुल सत्तार ने कहा कि अगर फडणवीस ने केंद्र से मिली निधि वापस भेजी है तो यह क्लेशदायक है। इस मामले को नागपुर के शीतकालीन अधिवेशन में उठाएंगे। हालांकि विरोधी दल नेता देवेंद्र फडणवीस ने खुलासा किया है कि किसी भी प्रकार की निधि केंद्र को वापस नहीं भेजी है न ही ८० घंटे के मुख्यमंत्री के कार्यकाल में कोई भी महत्वपूर्ण निर्णय लिया है।



Popular posts from this blog

ग्राम कुलिंजन स्थित ईद गाह पर ईद के नमाज़ अदा की गई

  आज ईद उल फ़ितर के मौके पर ग्राम कुलिंजन स्थित ईद गाह पर ईद के नमाज़ अदा की गई,इस मौके पर क़ारी मेहताब खाँन साहब ने ईद के   पवित्र त्यौहार पर प्रकाश डाला व देश के अमन ओ अमान और एक दूसरे के साथ प्यार बाँटने का संदेश देते हुए,सभी को ईद की मुबारकबाद दी, ईद के नमाज़ क़ारी, रहीम साहब, पेश इमाम जामा मस्जिद कुलिंजन ने पढ़वाई व इस के साथ ही ख़सूसी दुआ करवाई, जय हिंद सोशल वेलफ़ेयर सोसायटी के अध्यक्ष मुशाम खाँन ने आये हुए  सभी नमाज़ियों की ईद की मुबारकबाद पेश की इस मौके पर मास्टर मईन उद्दीन खाँन, हाजी अरशद खाँन ,हाजी एहतेशाम,हाजी अतहर व हाजी अज़हर,हाफिज़ असग़र, सभी का इस्तकबाल करा।

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

ज़मीनी विवाद में पत्रकार पर 10 लाख रंगदारी का झूठे मुकदमें के विरुद्ध एस एस पी से लगाई जाचं की गुहार

हम करेंगे समाधान" के लिए बरेली से रफी मंसूरी की रिपोर्ट बरेली :- यह कोई नया मामला नहीं है पत्रकारों पर आरोप लगना एक परपंरा सी बन चुकी है कभी राजनैतिक दबाव या पत्रकारों की आपस की खटास के चलते इस तरह के फर्जी मुकदमों मे पत्रकार दागदार और भेंट चढ़ते रहें हैं।  ताजा मामला   बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान पत्रकार का है जो विभिन्न समाचार पत्रों से जुड़े हैं उन पर रंगदारी मांगने का मुक़दमा दर्ज कर दिया गया है। इस तरह के बिना जाचं करें फर्जी मुकदमों से तो साफ ज़ाहिर हो रहा है कि चौथा स्तंभ कहें जाने वाले पत्रकारों का वजूद बेबुनियाद और सिर्फ नाम का रह गया है यही वजह है भूमाफियाओं से अपनी ज़मीन बचाने के लिए एक पत्रकार व दो अन्य प्लाटों के मालिकों को दबाव में लेने के लिए फर्जी रगंदारी के मुकदमे मे फसांकर ज़मीन हड़पने का मामला बरेली के थाना बारादरी से सामने आया हैं बताते चले कि बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान के मुताबिक उनका एक प्लाट थाना बारादरी क्षेत्र के रोहली टोला मे हैं उन्हीं के प्लाट के बराबर इमरान व नयाब खां उर्फ निम्मा का भी प्लाट हैं इसी प्लाट के बिल्कुल सामन