Skip to main content

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ यूपी के अनेक शहरों में प्रदर्शन

लखनऊ: नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ यूपी में प्रदर्शन के दौरान शुक्रवार को भी हिंसा भड़क गई.
बीते गुरुवार लखनऊ में बवाल हुआ था लेकिन पुलिस की तमाम सक्रियता के बाद लखनऊ तो शांत रहा लेकिन मेरठ, फीरोजाबाद, बहराइच, बलरामपुर, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, गोरखपुर, कानपुर, बुलंदशहर तथा गोंडा में भीड़ ने माहौल खराब किया. इसके बाद पुलिस ने इन लोगों पर नियंत्रण करने के लिए लाठीचार्ज किया. राज्य में इंटरनेट बंद किए जाने को लेकर इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने राज्य में इंटरनेट सेवाओं को बंद करने पर केंद्र और राज्य सरकार से जवाब मांगा है, क्योंकि यह अदालत की कार्यवाही को प्रभावित कर रहा है.


फिरोजाबाद में पुलिस चौकी को आग के हवाले करने के बाद भीड़ ने हाईवे पर कब्जा कर लिया. इस दौरान पुलिस पर काफी फायरिंग भी की गई है फिलहाल सभी जगह पर स्थिति नियंत्रण में है, लेकिन माहौल में तनाव बना हुआ है. फीरोजाबाद में शुक्रवार को नमाज अदा कर लौट रहे लोगों ने कई स्थानों पर उपद्रव किया. नालबंद पुलिस चौकी में आग लगा दी. कानपुर हाईवे पर कब्जा कर पुलिस पर फायरिंग की.


कल लखनऊ में भड़के दंगे और मुख्यमंत्री के बयान जिसमें उन्होंने लोगों की पहचान कर संपत्ति कुर्क किए जाने की बात कहने के बाद भी उत्तर प्रदेश के कई शहर में दिन भर दंगा होता रहा, गोरखपुर में जहां प्रदर्शनकारियों ने पुलिस के ऊपर पथराव किया.


 

बुलंदशहर में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की मौजूदगी में गाड़ियों को आग लगा दी और पुलिस की मौजूदगी में लिसारी गेट के पास प्रदर्शनकारियों ने पुलिस वालों पर पत्थर बरसाए. वहीं मुजफ्फरनगर में धारा 144 लागू होने के बाद भी लोग सड़कों पर उतरे और विरोध प्रदर्शन किया.


100 से अधिक उपद्रवी हिरासत में


गुरुवार लखनऊ में भड़की हिंसा में सौ से ज्यादा उपद्रवियों को हिरासत में लिया गया है. प्रशासन किसी को भी बख्शने के मूड में नहीं है. पुलिस ने हिंसा के दौरान आगजनी व पत्थरबाजी करने वालों को गिरफ्तार किया. पुलिस के मुताबिक, प्रदर्शनकारियों के जोरदार उपद्रव के बावजूद पुलिसकर्मियों ने हर कदम पर संयम बरता. प्रदर्शनकारी हर बैरीकेडिंग पर धक्का-मुक्की करते रहे, लेकिन पुलिसकर्मियों ने आपा नहीं खोया.


कल हुई हिंसा के बाद आज प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद रहा. लखनऊ में स्थिति पर नजर रखने के लिए पुलिस द्वारा ड्रोन तैनात किए गए. डिप्टी मजिस्ट्रेट का कहना है कि स्थिति अब नियंत्रण में है. इंटरनेट सेवाएं निलंबित हैं. कल नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा के बाद मामले दर्ज किए गए है। कई जिलों में इंटरनेट बंद


लखनऊ सहित प्रदेश के 42 जिलों में इंटरनेट बंद कर दिया गया है जबकि प्रदेश में 31 जनवरी तक धारा 144 लागू कर माहौल पर नियंत्रण करने का प्रयास जारी है.लखनऊ में भीड़ के हिंसक प्रदर्शन में गुरुवार देर रात एक व्यक्ति की मौत हो गई थी जबकि एडीजी जोन, आइजी रेंज, समेत 70 से अधिक पुलिसकर्मी घायल थे.इसके साथ ही लखनऊ, मऊ, वाराणसी, संभल सहित 42 जिलों में इंटरनेट बंद कर दिया गया है. सरकार ने सांप्रदायिक शांति और सद्भाव को बिगाड़ने के उद्देश्य से सोशल मीडिया पर नफरत फैलाने वाले संदेशों से बचने के लिए यह कार्रवाई की है


 

परीक्षाएं टलीं


सुरक्षा के कारण लखनऊ बुन्देलखंड और इलाहाबाद यूनिवर्सिटी की परीक्षाएं भी अगले आदेश तक रद कर दी गयी हैं.इन सभी यूनिवर्सिटी में परीक्षाएं शुक्रवार से होनी 


Popular posts from this blog

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु

सरधना विधानसभा से ए आई एम आई एम के भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने किया बड़ा ऐलान अब मुसलमान अपमानित नहीं होगा क्योंकि आ गई है उनकी पार्टी

खलील शाह/ साबिर सलमानी की रिपोर्ट  ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन की नेशनल पब्लिक स्कूल लश्कर गंज बाजार सरधना में आयोजित बैठक में भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने कहा कि ए आई एम आई एम पार्टी सरधना विधानसभा क्षेत्र में शोषित,वंचित और मुसलमानों को उनके अधिकार दिलाने के लिए आई है। आज भी सरधना विधानसभा क्षेत्र पिछड़ा हुआ है। राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी साहब ने उत्तर प्रदेश के शोषित और वंचित समाज को इंसाफ दिलाने का बीड़ा उठाया है। ए आई एम आई एम पार्टी ने मुसलमानों को दरी बिछाने वाला से टिकट बांटने वाला बनाने का बीड़ा उठाया है। जिस प्रकार आज सपा के मंचों पर मुसलमानों को अपमानित किया जा रहा है उसका बदला ए आई एम आई एम को वोट देकर सत्ता में हिस्सेदारी लेकर लेना होगा। हाजी आस मोहम्मद ने कहा कि उनके भाई हाजी अमीरुद्दीन ने तमाम उम्र समाजवादी पार्टी को आगे बढ़ाने में गुजार दी और जब किसी बीमारी की वजह से उनका इंतकाल हुआ तो समाजवादी पार्टी का कोई नुमाइंदा भी उनके परिवार की खबर गिरी करने नहीं आया । आजादी से लेकर आज तक मुस्लिम समाज सेकुलर दलों को अपना वोट देता आ रहा है लेकिन उसके बदले मे