Skip to main content

नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 पर चर्चा हुई

 

नई दिल्ली : लोकसभा में सोमवार शाम को नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 पर चर्चा हुई. गृहमंत्री अमित शाह ने विधेयक पेश करते हुए कहा कि यह वर्षों की मांग है इस पर सभी को पार्टी की विचारधारा से ऊपर उठकर सोचना चाहिए. उन्होंने किसी देश से नागरिक के पलायन की मजबूरी पर कहा कि कोई भी व्यक्ति कोई देश या गांव ऐसे ही नहीं छोड़ता है. वे प्रताड़ित होकर यहां आए हैं. उन्हें किसी भी प्रकार के अधिकार नहीं दिया गया है. ये लाखों करोड़ लोग नर्क जैसा जीवन जी रहे हैं. वहीं कांग्रेस ने इसे असंवैधानिक करार देते हुए कड़ा विरोध किया.


शाह ने कहा, 'मैं सदन को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि इस बिल से लोगों को न्याया मिलेगा. लोग 70 वर्षों से इसका इंतजार कर रहे हैं. इस बिल के पीछे कोई राजनीतिक एजेंडा नहीं है. हम नागरिकता बिल को लागू करने के लिए प्रतिबद्ध हैं. अल्पसंख्यकों को लेकर किसी भी प्रकार का भेदभाव नहीं कर रहे हैं. यह बिल हमारे घोषण पत्र के मुताबिक है.'


विपक्षी सदस्यों को चुनौती देते हुए शाह ने कहा, 'आप यह साबित करें कि यह बिल किसी के साथ भेदभाव करता है. अगर भेदभाव साबित हुआ तो यह बिल मैं वापस ले लूंगा'.


 

उन्होंने कहा कि इस देश में कई बार आर्टिकल 14 का उल्लंघन हुआ है. जो लोग विरोध कर रहे हैं उन्होंने ही अपनी सरकार के दौरान कई बार आर्टिकल 14 का उल्लंघन किया है.


शाह ने सदन में कहा कि किसी के पास राशन कार्ड है या नहीं हम उनको नागरिकता देंगे. सीमाओं की सुरक्षा सरकार का कर्तव्य है. मणिपुर में इनर लाइन परमिट लागू होगा. इस बिल के जरिए किसी का भी अधिकार नहीं छीना जा रहा है. हम बदलाव को स्वीकार करते हैं. बदलाव को समाहित करते हैं.


शाह ने कहा कि आज जो अल्पसंख्यक पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आए हैं. इनको यहां नागरिकता देने का प्रावधान है. शाह ने दूसरे देशों का हवाला देते हुए कहा कि वे भी बाहर के लोगों को नागरिकता देने के लिए कानून नहीं बनाए हैं. हमने भी इसे बनाया है. इसलिए हमने एकल नागरिकता का प्रावधान दिया है. विविधता में एकता ही हमारे देश को एक रखने का मंत्र है. सहिष्णुता हमारा गुण है. बदलाव को हम अपनी संस्कृति में समाहित करते हैं.


पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर के लोगों को यह बता देना चाहिए कि जो लोग इन देशों से आए, जिस दिन यहां आए उस दिन से ही उनको नागरिकता दी जाएगी. अल्पसंख्यक प्रवासी के खिलाफ कोई भी कार्रवाई चल रही होगी तो वह भारत की नागरिकता मिलने के साथ ही खत्म हो जाएगी.


गृहमंत्री शाह ने कहा यह नागकिरता बिल 2014 और 2019 के आम चुनावों में हमारी पार्टी का घोषणा पत्र का हिस्सा रहा है.


 

शाह ने कहा कि इस बिल को लेकर मैंने जानकारों के साथ 119 घंटे तक बैठक की है. इस बिल से किसी को भी भयभीत होने की जरूरत नहीं है.


वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने कहा यह बिल पूरी तरह से अंसवैधानिक है. यह संविधान की धाराओं के विरुद्ध है. उन्होंने गृहमंत्री अमित शाह से पूछा कि अगर आप संविधान के मुताबिक एक नागरिक के साथ भेदभाव नहीं कर सकते तो नागरिकता देने में कैसे?


तिवारी ने कहा कि हम शरणार्थियों को पनाह देने के खिलाफ नहीं है. हम चाहते हैं कि सरकार एक व्यापक कानून लेकर आए. उन्होंने कहा कि जब भी कोई शरणार्थी भारत आता है तो उसका धर्म नहीं देखा जाता है. उन्होंने कहा जिन तीन देशों का जिक्र किया गया है उनका राजनीतिक धर्म इस्लाम है.


Popular posts from this blog

भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा-गादरे

मेरठ:-भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा। Raju Gadre राजुद्दीन गादरे सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता ने भारतीयों में पनप रही द्वेषपूर्ण व्यवहार आपसी सौहार्द पर अफसोस जाहिर किया और अपने वक्तव्य में कहा कि देश की जनता को गुमराह कर देश की जीडीपी खत्म कर दी गई रोजगार खत्म कर दिये  महंगाई बढ़ा दी शिक्षा से दूर कर पाखंडवाद अंधविश्वास बढ़ाया जा रहा है। षड्यंत्रकारियो की क्रोनोलोजी को समझें कि हिंदुत्व शब्द का सम्बन्ध हिन्दू धर्म या हिन्दुओं से नहीं है। लेकिन षड्यंत्रकारी बदमाशी करते हैं। जैसे ही आप हिंदुत्व की राजनीति की पोल खोलना शुरू करते हैं यह लोग हल्ला मचाने लगते हैं कि तुम्हें सारी बुराइयां हिन्दुओं में दिखाई देती हैं? तुममें दम है तो मुसलमानों के खिलाफ़ लिख कर दिखाओ ! जबकि यह शोर बिलकुल फर्ज़ी है। जो हिंदुत्व की राजनीति को समझ रहा है, दूसरों को उसके बारे में समझा रहा है, वह हिन्दुओं का विरोध बिलकुल नहीं कर रहा है ना ही वह यह कह रहा है कि हिन्दू खराब होते है और मुसलमान ईसाई सिक्ख बौद्ध अच्छे होते हैं! हिंदुत्व एक राजनैतिक शब्द है ! हिं

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन

 महेश्वरी देवी की रिपोर्ट  खबर बहेड़ी से  है, आज दिनांक 31 मार्च 2024 को समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन मधुर मिलन बारात घर बहेड़ी में संपन्न हुआ। जिसमें मुख्य अतिथि लोकसभा पीलीभीत प्रत्याशी  भगवत सरन गंगवार   रहे तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश महासचिव स्टार प्रचारक विधायक (पूर्व मंत्री )  अताउर रहमान  ने की , कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए  अता उर रहमान  ने कहा की प्रदेश में महंगाई बेरोजगारी चरम पर है और किसान बेतहाशा परेशान है उनके गन्ने का भुगतान समय पर न होने के कारण आत्महत्या करने को मजबूर हैं। उन्होंने मुस्लिम भाइयों को संबोधित करते हुए कहा की सभी लोग एकजुट होकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार को हटाकर एक सुशासन वाली सरकार (इंडिया गठबंधन की सरकार) बनाने का काम करें और भगवत सरन गंगवार को बहेड़ी विधानसभा से भारी मतों से जिताकर माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी के हाथों को मजबूत करें | रहमान जी ने अपने सभी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारी से कहा कि वह ज्यादा से ज्यादा इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी को वोट डलवाने का काम करें और यहां से भगवत सरन गंगवार को भ