Skip to main content

न्यूयॉर्क में फैल रही है उर्दू अदब की महक

कराची (स्टाफ रिपोर्टर) ने पाकिस्तान के कला परिषद में आयोजित 12 वें विश्व उर्दू सम्मेलन को संबोधित करते हुए लेखकों, कवियों, आलोचकों, पत्रकारों, विश्लेषकों ने कहा कि पश्चिम में उर्दू साहित्य पनप रहा है, उर्दू प्रेम की भाषा है, न्यूयॉर्क उर्दू साहित्य को न्यू लखनऊ कहा जाता है, उर्दू अब एक पुराना शहर नहीं है। हर कोई नई बस्ती है। हम नई बस्तियों का स्वागत करते हैं, हमारी नई बस्तियों में एक दीया जल रहा है और यह उर्दू है। भाषा है, पत्रकारिता अतीत में आसान थी, आज प्रतिबंधों के अधीन है, आज की पत्रकारिता बहुत शांत है, पत्रकारों के हाथ बंधे हुए हैं। सम्मेलन में अशफाक हुसैन, रज़ा अली आबिदी, शमीम हनफ़ी, आरिफ नकवी, रिहाना क़मर, समन शाह, बसर काज़मी, एडवोकेट अंसारी, इशरत मोईन सिमा, वफ़ा यज़दान मनीष, सदफ़ मिर्ज़ा, राहत ज़ाहिद ने संबोधित किया। "फॉलिंग डाउन?" शीर्षक से एक बैठक में बोलते हुए वरिष्ठ पत्रकार और विश्लेषक हामिद मीर ने कहा है कि अतीत में, पत्रकारों को कोड़े मारे जाते थे, जेल होती थी, लेकिन पत्रकारिता आसान थी, पत्रकारिता आज प्रतिबंधित है। फिर भी, मुझे नहीं पता कि किसने इसे प्रतिबंधित किया। एक समय था जब साहित्य और पत्रकारिता का वास्तव में गहरा संबंध था। मौलाना मुहम्मद अली जौहर अखबार के कवि और संपादक भी थे। अतीत में, जब लेखक, कवि और पत्रकार बयानबाजी करते थे, तो वे हास्य साहित्य और प्रतिरोध पत्रकारिता का उल्लेख करते थे, लेकिन आज की पत्रकारिता बहुत आधुनिक है। वरिष्ठ पत्रकार और विश्लेषक अस्मा शिराज़ी ने बैठक की मेजबानी की। हां, साहित्य में हास्य कविता है। इमरान साकिब ग्वादर के एक युवा कवि हैं जिन्होंने गुमशुदा व्यक्तियों पर कविता लिखी। मुझे आश्चर्य हुआ कि उस कविता को किसी अखबार और टीवी चैनल ने क्यों नहीं प्रसारित किया। अगर किसी ने अहमद फैज़ को गिरफ्तार किया होता, तो पता चलता कि उसे किसने गिरफ्तार किया गिरफ्तार व्यक्ति जानता था कि उसे किसने गिरफ्तार किया है, लेकिन आज, राज्य दमन का शिकार होने के बावजूद, अज्ञात व्यक्ति उसे इस तथ्य का श्रेय नहीं देते हैं कि वह राज्य उत्पीड़न का शिकार रहा है। 1973 के संविधान के अनुसार, 15 वर्षों में उर्दू को आधिकारिक भाषा के रूप में पेश किया जाना था। 2015 में, पाकिस्तान के मुख्य न्यायाधीश, पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने उर्दू को आधिकारिक भाषा के रूप में पेश किया। फैसला लेकिन अदालत का फैसला अभी भी अंग्रेजी में आता है, हामिद मीर ने कहा कि हमारे समाज में एक महिला के लिए पत्रकारिता मुश्किल है, अगर अस्मा शिराज़ी और मनेज़ जहाँगीर बहादुरी से एक कार्यक्रम में सवाल पूछते हैं, जो सोशल मीडिया पर भ्रम का सामना करता है, मैं महिला पत्रकार सहयोगियों, बहादुरी और बहादुरी से सलाम करता हूं 1960 और 1970 के दशक में उर्दू के साथ एक अंतर है जो आज हो रहा है वह आज भी हो रहा है। हम सभी को प्रतिबंधों के खिलाफ अपने प्रतिबंधों को बढ़ाना चाहिए। पाकिस्तान में जब पत्रकार, कवि और लेखक पूछेंगे कि हमारे लापता लोग कहां हैं, तो हमारा देश फूल जाएगा। अस्मा शिराज़ी ने कहा कि बंदूक दिखाई नहीं देती है लेकिन डर है, जो उत्पीड़न के इस माहौल में चुप रहता है, वह सबसे बड़ा अपराधी है। संवेदना आएगी, गति तेज होगी, संघर्ष और तेज होगा। कवि नाहिद ने कहा कि केवल नारे नहीं बदलेंगे। हम सभी को फिर से जेल भरने की जरूरत है। बाहर निकलने की जरूरत है, उन्होंने हामिद मीर को संबोधित किया और शिकायत की कि आप लोग टेलीविजन पर राजनेताओं से झूठ बोल रहे हैं। "उर्दू की नई बस्तियों" नामक एक बैठक में, विभिन्न देशों में रहने वाले पाकिस्तानियों ने इन देशों में उर्दू के प्रचार के बारे में बताया।


Popular posts from this blog

ग्राम कुलिंजन स्थित ईद गाह पर ईद के नमाज़ अदा की गई

  आज ईद उल फ़ितर के मौके पर ग्राम कुलिंजन स्थित ईद गाह पर ईद के नमाज़ अदा की गई,इस मौके पर क़ारी मेहताब खाँन साहब ने ईद के   पवित्र त्यौहार पर प्रकाश डाला व देश के अमन ओ अमान और एक दूसरे के साथ प्यार बाँटने का संदेश देते हुए,सभी को ईद की मुबारकबाद दी, ईद के नमाज़ क़ारी, रहीम साहब, पेश इमाम जामा मस्जिद कुलिंजन ने पढ़वाई व इस के साथ ही ख़सूसी दुआ करवाई, जय हिंद सोशल वेलफ़ेयर सोसायटी के अध्यक्ष मुशाम खाँन ने आये हुए  सभी नमाज़ियों की ईद की मुबारकबाद पेश की इस मौके पर मास्टर मईन उद्दीन खाँन, हाजी अरशद खाँन ,हाजी एहतेशाम,हाजी अतहर व हाजी अज़हर,हाफिज़ असग़र, सभी का इस्तकबाल करा।

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

ज़मीनी विवाद में पत्रकार पर 10 लाख रंगदारी का झूठे मुकदमें के विरुद्ध एस एस पी से लगाई जाचं की गुहार

हम करेंगे समाधान" के लिए बरेली से रफी मंसूरी की रिपोर्ट बरेली :- यह कोई नया मामला नहीं है पत्रकारों पर आरोप लगना एक परपंरा सी बन चुकी है कभी राजनैतिक दबाव या पत्रकारों की आपस की खटास के चलते इस तरह के फर्जी मुकदमों मे पत्रकार दागदार और भेंट चढ़ते रहें हैं।  ताजा मामला   बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान पत्रकार का है जो विभिन्न समाचार पत्रों से जुड़े हैं उन पर रंगदारी मांगने का मुक़दमा दर्ज कर दिया गया है। इस तरह के बिना जाचं करें फर्जी मुकदमों से तो साफ ज़ाहिर हो रहा है कि चौथा स्तंभ कहें जाने वाले पत्रकारों का वजूद बेबुनियाद और सिर्फ नाम का रह गया है यही वजह है भूमाफियाओं से अपनी ज़मीन बचाने के लिए एक पत्रकार व दो अन्य प्लाटों के मालिकों को दबाव में लेने के लिए फर्जी रगंदारी के मुकदमे मे फसांकर ज़मीन हड़पने का मामला बरेली के थाना बारादरी से सामने आया हैं बताते चले कि बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान के मुताबिक उनका एक प्लाट थाना बारादरी क्षेत्र के रोहली टोला मे हैं उन्हीं के प्लाट के बराबर इमरान व नयाब खां उर्फ निम्मा का भी प्लाट हैं इसी प्लाट के बिल्कुल सामन