Skip to main content

सेंगर जिंदा रहा तो मुझे मार देगा ,उन्नाव रेप पीड़िता







नई दिल्ली: उन्नाव बलात्कार पीड़िता का घर फिलहाल किसी बंदी गृह की भांति लग रहा है. आठ सीआरपीएफ जवानों के कड़े पहरे के बीच सविता (बदला हुआ नाम) अपनी चारपाई पर बैठी शून्य में ताकती रहती हैं. जुलाई महीने में दिल्ली के एम्स में भर्ती हुईं सविता बारह दिन पहले ही लौटी हैं. धुमैले (ग्रे) रंग का सूट पहने बैठीं सविता की जिंदगी को पिछले दो सालों के घटनाक्रम ने जैसे रंगहीन ही बना दिया है. इसी साल जुलाई महीने में हुए एक भयंकर सड़क हादसे में उन्होंने अपनी मौसी और चाची को खो दिया था. उस वक्त कार में वो चार लोग थे. उसी सड़क हादसे में बुरी तरह घायल हुए उनके वकील अभी भी अस्पताल में हैं और अस्पताल में भर्ती उनके वकील को लेकर पिछले दिनों खबर आई थी कि वो अब सिर्फ बेबसी पे रो पाते हैं.














सविता के बिना देख-रेख के छोटे-छोटे बाल चेहरे को और उदास बना रहे हैं. पास में बैठा छोटे भाई की प्यारी हरकतें  भी उसके चेहरे पर मुस्कराहट नहीं ला पा रही है. हालांकि वो बहन को हंसाने की हर संभव कोशिश करता रहा.


काफी देर तक चुप रहने के बाद वो आखिरकार कुलदीप सेंगर की सजा की बात पर बेबस लेकिन तीखी आवाज में बोलती हैं, 'अगर उसको फांसी नहीं होती है तो मेरा जीवन बेकार है. मेरे घर के मरे तीन सदस्यों की तेरहवीं भी नहीं की है हमने. हमारे घर के चार आदमी खत्म कर दिए कुलदीप सेंगर ने. अगर वो जिंदा रहता है तो मुझे भी मार देगा। इतना बोलते-बोलते उनके आंसू आंखों की कोरों तक आ जाते हैं. उनकी बड़ी बहन आगे जोड़ती हैं, 'ऐसा तो फिल्मों में ही होते देखा है जब एक केस के लिए पूरे परिवार को ट्रक से टक्कर मरवाकर खत्म कर दिया जाता है.'


कोर्ट की तीखी टिप्पणी- 'सीबीआई का रवैया पितृसत्तात्मक रहा'


गौरतलब है कि 2017 से शुरू हुए उन्नाव रेप केस में भाजपा के निष्काषित विधायक कुलदीप सेंगर को दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट ने दोषी पाया है. साथ ही कोर्ट अपने फैसले में इस केस की जांच कर रही सीबीआई पर तीखी टिप्पणी की है. कोर्ट का कहना है कि सीबीआई का जांच करने का तरीका पितृसत्तात्मक और संवेदनहीन रहा है. जांच एजेंसी ने एक भी महिला अधिकारी को टीम में शामिल नहीं किया और बार-बार पीड़िता को दफ्तर आने के लिए समन भेजा. साथ ही कोर्ट ने फटकार लगाई कि चार्जशीट फाइल करने में देरी की गई जिससे ट्रायल जल्दी खत्म नहीं हो सका.


देश के सबसे हाई प्रोफाइल केसों में से एक इस केस में पहली मौत सविता के पिता की हुई थी. सविता की मां दिप्रिंट को बताती हैं, 'जब उनको इस बलात्कार की बात पता चली तो वो गुस्से में कुलदीप सेंगर को ढूंढते हुए उनके घर गए थे. वहां सेंगर के आदमियों ने पानी डाल- डालकर उन्हें पीटा था. उन्हें इतना पीटा कि पुलिस थाने में उनकी मौत हो गई.'


बता दें कि कोर्ट ने इस केस में कुलदीप सेंगर की मुख्य सहयोगी शशि सिंह को संदेह का लाभ मिला और छोड़ दिया गया है. सविता, शशि सिंह को अपने लिए खतरा बताती हैं, 'उसी ने मुझे नौकरी का झांसा दिया था और सेंगर के पास ले गई थी. कोर्ट को क्या लगता है कि वो एक साल जेल में रहेगी और बाहर आकर हम लोगों को छोड़ देगी? शशि का बड़ा बेटा, जब हम पैरवी के लिए जाते थे तो सबके सामने धमकी देता था- तुम लोगों को उल्टा लटका दूंगा. शशि के छोटे बेटे शुभम ने भी मेरा बलात्कार किया.'


 

'वो 9 दिन मेरा गैंग रेप करते रहे, मेरे शरीर से बदबू उठने लगी थी'


वो आगे जोड़ती हैं, '7 जुलाई 2017 को सेंगर ने मेरे साथ बलात्कार किया. उसके ठीक चार दिन बाद 11 तारीख को मैं घर से बाहर नलके से पानी भरने गई थी. वहां खड़ी गाड़ी ने अचानक मुझे पकड़ लिया और मेरे हाथ-पैर पकड़ कर अंदर खींच लिया. मैं नरेश, शुभम और बृजेश नाम सुन पा रही थी. यहां से वो लोग मुझे उन्नाव लेकर गए. वहां जाकर ये आदमी दारू पीते और मेरे साथ बलात्कार करते.'


'ये लोग अपने दोस्तों को बुलाते. फोन करके कहते, 'जल्दी आजा. एक लड़की लाया हूं.' जब एक आदमी बलात्कार करता तो बाकी लोग दारू पी रहे होते. जिन कमरों में मेरा बलात्कार किया गया उन कमरों में कोई खिड़की नहीं होती थी कि मैं भाग सकूं. ये आदमी सारा दिन फोन अपने हाथ में ही रखते थे. अगर फोन हाथ लगता तो मैं अपने परिवार को फोन करती. नौ दिन तक मुझे खाना तो दिया गया लेकिन मैं न तो नहा सकी और ना ही मेरे कपड़े ही बदले. मेरे अंदर से बदबू भी आने लगी थी लेकिन फिर भी वो मुझे घुमाते रहे वो मेरा गैंग रेप करते रहे.'


आखिरी दिन को याद करते हुए सविता बताती हैं, 'मैं उनकी बातों से अंदाजा लगाने की कोशिश करती थी कि मुझे कहां ले जाएंगे. आखिरी में मुझे किसी कच्चे घर में छोड़कर भाग गए. उस घर में मौजूद एक औरत और बच्चे ने बताया कि मुझे किसी बृजेश यादव के हाथों 60,000 रुपये में बेच दिया गया है. उसके बाद पुलिस वहां(औरेयां जिला) पहुंच गई और मुझे बचा लिया.' गौरतलब है कि जब सविता की मां जब गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराने पहुंचीं तो पुलिस ने कहा था कि वो भाग गई होगी. नौ दिन तक उनकी मां पुलिस थाने के चक्कर काटती रहीं. आखिर में पुलिस को खोजबीन शुरू करनी पड़ी.उन्नाव के स्कूल में उनकी छोटी बहन को एक लड़के ने ये कहते हुए चिढ़ाया कि वो बलात्कार पीड़िता की बहन है. इस बात का चुटकुला बना और दूसरे बच्चे हंसे. सविता की मां गांव वालों के दुर्व्यवहार को लेकर कहती हैं, 'गांव वालों की तो छोड़ो, हमारे खुद के परिवार वालों की जुबान नहीं खुली. यहां तक की पुलिस सुरक्षा में दिए गए जवान भी सेंगर के लिए ही काम कर रहे थे. शुरुआती दिनों में हमारी बातें लीक हुईं तो हमने भीतर के कमरों में चुपके-चुपके बात करना शुरू कर दिया.'




यह भी पढ़ें: ग्राम प्रधान से बाहुबली विधायक तक का कुलदीप सिंह सेंगर का सफर, बलात्कार के आरोप ने बदल दिए सितारे


 



कार हादसा इस मामले का सबसे बड़ा मोड़ साबित हुआ. देशभर में इस पूरे मामले को लेकर लोगों में गुस्सा भरा और आक्रोश फैला. यहां तक कि सत्ताधारी पार्टी को भी कुलदीप सेंगर से किनारा करना पड़ा. सविता उस हादसे के बाद अस्पताल के दिनों को याद करते हुए बताती हैं, 'उस दिन हम अपने चाचा से मिलने जा रहे थे. रायबरेली के पास सड़क खाली ही थी. अचानक से एक ट्रक दिखा. हम कुछ सोच पाते उससे पहले ही ये सब हो गया. जब मुझे अस्पताल में होश आया तब मुझे खयाल आते थे कि मैं जिंदा ही ना रहूं.'


'तुम वही लड़की हो ना?'


उन्नाव में हुए इस बलात्कार के बाद सविता अपने चाचा के घर रहने दिल्ली आ गई थीं. लेकिन 'तुम वही लड़की हो ना' की लाइन ने उनका पीछा नहीं छोड़ा. दिप्रिंट जब उनसे मिलने पहुंचा तो उनके आसपास के लोगों ने यही पूछा- वही लड़की जिसके साथ…


सविता कहती हैं, ये लाइन ऐसा लगता है जैसे मेरी खाल से चिपक गई है. मैं बालकनी में खड़े होकर दुनिया देखने की हिम्मत भी नहीं जुटा पा रही हूं. मेरे लिए ये जिंदगी एक कैदखाने जैसी ही है.'


लेकिन हिम्मत ना हारते हुए भी वो कहती हैं कि सेंगर को फांसी हो जाए और मेरे चाचा को जमानत मिले तो कम से कम हमारी ठहरी हुई ज़िंदगी थोड़ी चले. दिल्ली महिला आयोग की स्वाति मालिवाल का खास तौर पर जिक्र करते हुए सविता का परिवार कहता है, 'अगर वो उनकी मदद नहीं करतीं, मीडिया मदद नहीं करता तो हो सकता है कि उनके पास मरने के अलावा कोई रास्ता ना बचता.'









Popular posts from this blog

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु

सरधना विधानसभा से ए आई एम आई एम के भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने किया बड़ा ऐलान अब मुसलमान अपमानित नहीं होगा क्योंकि आ गई है उनकी पार्टी

खलील शाह/ साबिर सलमानी की रिपोर्ट  ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन की नेशनल पब्लिक स्कूल लश्कर गंज बाजार सरधना में आयोजित बैठक में भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने कहा कि ए आई एम आई एम पार्टी सरधना विधानसभा क्षेत्र में शोषित,वंचित और मुसलमानों को उनके अधिकार दिलाने के लिए आई है। आज भी सरधना विधानसभा क्षेत्र पिछड़ा हुआ है। राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी साहब ने उत्तर प्रदेश के शोषित और वंचित समाज को इंसाफ दिलाने का बीड़ा उठाया है। ए आई एम आई एम पार्टी ने मुसलमानों को दरी बिछाने वाला से टिकट बांटने वाला बनाने का बीड़ा उठाया है। जिस प्रकार आज सपा के मंचों पर मुसलमानों को अपमानित किया जा रहा है उसका बदला ए आई एम आई एम को वोट देकर सत्ता में हिस्सेदारी लेकर लेना होगा। हाजी आस मोहम्मद ने कहा कि उनके भाई हाजी अमीरुद्दीन ने तमाम उम्र समाजवादी पार्टी को आगे बढ़ाने में गुजार दी और जब किसी बीमारी की वजह से उनका इंतकाल हुआ तो समाजवादी पार्टी का कोई नुमाइंदा भी उनके परिवार की खबर गिरी करने नहीं आया । आजादी से लेकर आज तक मुस्लिम समाज सेकुलर दलों को अपना वोट देता आ रहा है लेकिन उसके बदले मे