Skip to main content

सेंसेक्स भले ही उच्च स्तर 41000 के पार पहुंच गया हो लेकिन पिछले एक दशक में शेरों का नॉमिनल रिटर्न नौकरी की सालाना चक्रवृद्धि दर के हिसाब से मिला


बंबई स्टॉक एक्सचेंज का संवेदी सूचकांक भले ही सर्वकालिक उच्च स्तर 41,000 के पार पहुंच गया हो लेकिन पिछले एक दशक में शेयरों का नॉमिनल रिटर्न 9 फीसदी की सालाना चक्रवृद्घि दर (सीएजीआर) के हिसाब से मिला है। मिड और स्मॉल कैप सूचकांकों का रिटर्र्न इस दौरान सेंसेक्स से भी कम रहा है। बिड़ला सन लाइफ म्युचुअल फंड के मुख्य कार्याधिकारी ए बालासुब्रमणयन ने कहा, 'शेयर का रिटर्न व्यापक तौर पर नॉमिनल सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) और कंपनियों की आय में वृद्घि से जुड़ा होता है। 1990 के दशक की शुरुआत और पिछले दशक में इसमें खासी तेजी देखी जा रही थी। लेकिन धीरे-धीरे इसमें नरमी आने लगी। इसके परिणामस्वरूप शेयर में निवेश पर रिटर्न भी कम हो गया।' उनके अनुसार मुद्रास्फीति के निचले स्तर पर बने रहने से ब्याज दरें भी कम होनी चाहिए। हालांकि इसमें देरी हुई और पूरी तरह से इसे संतुलित नहीं किया गया, जिसका असर कंपनियों की संभावित आय वृद्घि पर पड़ा और रिटर्न भी कम मिला।अन्य बचत और निवेश साधनों में रिटर्न कम रहा है। उदाहरण के लिए भारतीय स्टेट बैंक का एक साल की सावधि जमा पर अभी 6.25 फीसदी ब्याज मिल रहा है। हालांकि 2011 में रिटर्न 9.3 फीसदी के उच्च स्तर तक और 2013 में 9 फीसदी तक पहुंच गया था लेकिन 2015 के बाद से इसमें लगातार कमी आ रही है। मिरे ऐसेट मैनेजमेंट में फिक्स्ड इनकम प्रमुख महेंद्र जाजू ने कहा, 'भारत वैश्विक बाजारों से काफी हद तक जुड़ा हुआ है, खास तौर पर विदेशी निवेशकों द्वारा शेयर और बॉन्ड बाजार में निवेश के मामले में। ऐसे में ब्याज दरें वैश्विक बाजारों के अनुरूप होती हैं।' उन्होंने कहा कि आने वाले समय में ब्याज दरों में और कमी आ सकती है।दूसरी ओर सोने पर रिटर्न सेंसेक्स की तरह ही 8.7 फीसदी सीएजीआर रहा। हालांकि रुपये में नरमी की वजह से सोने पर रिटर्न बढ़ा है। दिसंबर 2009 में डॉलर के मुकाबले रुपया 46.5 पर था जो अब प्रति डॉलर 71.2 रुपये पर आ गया है। पिछले दकश में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सोने में रिटर्न महज 3.1 फीसदी सीएजीआर रहा। रिटर्न में अगर मुद्रास्फीति को समायोजित कर दें तो वास्तविक रिटर्न और भी कम रहा है। दशक की पहली छमाही में मुद्रास्फीति सालाना दो अंक में बढ़ी थी, जिससे निवेशकों का वास्तविक रिटर्न घटा था। सावधि जमा कभी मुद्रास्फीति को मात नहीं दे पाई और शेयर तथा सोने पर वास्तविक रिटर्न उस दौरान 2 से 3 फीसदी रहा। दूसरी ओर उससे पिछले दशक (2000-2009) में शेयर और सोने पर नॉमिनल रिटर्न दो अंक में रहा जबकि मुद्रास्फीति 5.5 फीसदी रही थी। कोटक म्युचुअल फंड के प्रबंध निदेशक निलेश शाह ने पिछले दशक में कम रिटर्न के पीछे दूसरा कारण बताया। उन्होंने कहा, 'रिटर्न कम रहने की मुख्य वजह अर्थव्यवस्था में नरमी रही, जिसकी वजह से कई लॉर्ज कैप्स की रेटिंग घटानी पड़ी। हालांकि इसके बावजूद भारत प्रतिस्पद्र्घी बाजारों में दूसरा सबसे अच्छा इक्विटी बाजार रहा है।' विशेषज्ञों का मानना है कि अगर पीपीएफ, किसान विकास पत्र जैसी लघु बचत योजनाओं पर ब्याज घटता है तो बैंकोंं  के ब्याज दरों में आगे और कमी आ सकती है। एक डेट फंड मैनेजर ने कहा, 'बैंकों की सावधि जमा दरों में ज्यादा कमी इसलिए नहीं आई है क्योंकि बैंकरों को डर है कि दरें  घटाने से निवेशक सावधि जमा से पैसा निकलकर लघु बचत योजनाओं में लगा सकते हैं।'



Popular posts from this blog

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु

सरधना विधानसभा से ए आई एम आई एम के भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने किया बड़ा ऐलान अब मुसलमान अपमानित नहीं होगा क्योंकि आ गई है उनकी पार्टी

खलील शाह/ साबिर सलमानी की रिपोर्ट  ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन की नेशनल पब्लिक स्कूल लश्कर गंज बाजार सरधना में आयोजित बैठक में भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने कहा कि ए आई एम आई एम पार्टी सरधना विधानसभा क्षेत्र में शोषित,वंचित और मुसलमानों को उनके अधिकार दिलाने के लिए आई है। आज भी सरधना विधानसभा क्षेत्र पिछड़ा हुआ है। राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी साहब ने उत्तर प्रदेश के शोषित और वंचित समाज को इंसाफ दिलाने का बीड़ा उठाया है। ए आई एम आई एम पार्टी ने मुसलमानों को दरी बिछाने वाला से टिकट बांटने वाला बनाने का बीड़ा उठाया है। जिस प्रकार आज सपा के मंचों पर मुसलमानों को अपमानित किया जा रहा है उसका बदला ए आई एम आई एम को वोट देकर सत्ता में हिस्सेदारी लेकर लेना होगा। हाजी आस मोहम्मद ने कहा कि उनके भाई हाजी अमीरुद्दीन ने तमाम उम्र समाजवादी पार्टी को आगे बढ़ाने में गुजार दी और जब किसी बीमारी की वजह से उनका इंतकाल हुआ तो समाजवादी पार्टी का कोई नुमाइंदा भी उनके परिवार की खबर गिरी करने नहीं आया । आजादी से लेकर आज तक मुस्लिम समाज सेकुलर दलों को अपना वोट देता आ रहा है लेकिन उसके बदले मे