Skip to main content

तरक्की पर ले जा रहा है इसरो







भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के लिए 2019 कामयाबी का सुनहरा साल साबित हुआ है। इस साल भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ने छह प्रक्षेपण यानों का अभियान सफलतापूर्वक अंजाम देने के साथ सात उपग्रह अभियानों में भी परचम लहराया। हालांकि चंद्रमा की सतह पर भारतीय यान चंद्रयान-2 को सकुशल उतारने में मिली नाकामी ने इसरो के इस स्वर्णिम सफर को थोड़ा धूमिल जरूर कर दिया। 


 


अगर साल भर में सफल अभियानों को संख्या के हिसाब से देखें तो यह वर्ष 2018 में अंजाम दिए गए 16 अभियानों की तुलना में कम लग सकता है लेकिन इसरो ने वर्ष 2019 में कुछ बेहद अहम एवं जटिल अभियान पूरे किए हैं। चंद्रमा के अंधेरे हिस्से पर चंद्रयान-2 भेजने के बेहद जटिल अभियान के अलावा बेहद महत्त्वाकांक्षी कार्यक्रमों गगनयान और आदित्य-1 की दिशा में भी वह आगे बढ़ा।


 




गगनयान के तहत भारत अंतरिक्ष में पहली बार अंतरिक्षयात्री भेजने के मिशन पर काम कर रहा है जबकि आदित्य-1 को सूर्य की तरफ भेजा जाएगा। वर्ष 2019 की शुरुआत में इसरो ने बताया था कि इस साल उसकी  32 अभियानों को अंजाम देने की योजना है। इनमें 14 यान प्रक्षेपण, 17 उपग्रह प्रक्षेपण और एक तकनीकी प्रदर्शन अभियानों की योजना थी। इस दौरान चंद्रयान-2 के जटिल अभियान के अलावा लघु उपग्रह प्रक्षेपण यान (एसएसएलवी) के विकास से जुड़े परीक्षण भी शामिल थे। एसएसएलवी को छोटे उपग्रहों के प्रक्षेपण यान के तौर पर विकसित किया जा रहा है।


 


पिछले साल 16 अभियान पूरे करने वाले इसरो ने 2019 की शुरुआत किसी प्रक्षेपण से नहीं बल्कि अपने भरोसेमंद ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी) के उत्पादन की आउटसोर्सिंग के लिए उद्योगों के साथ सहमति ज्ञापन पर दस्तखत से किया। इसे एक बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है क्योंकि इसके बाद इसरो रॉकेट तैयार करने के बजाय उपग्रहों के कामकाज पर अधिक ध्यान दे सकेगा। इसरो के चेयरमैन के शिवन का कहना है कि इससे समय एवं संसाधनों की बचत होगी।


 




यह भी ध्यान रखना होगा कि भारत सरकार ने कई उन्नत समयबद्ध परियोजनाओं को स्वीकृति दी है। इनमें जीएसएलवी मैक-3 के वाणिज्यिक इस्तेमाल, अद्र्ध-क्रायोजेनिक स्तर के डिजाइन एवं विकास और मानवयुक्त अंतरिक्ष अभियान गगनयान को मंजूरी जैसे प्रस्ताव शामिल हैं। शिवन कहते हैं, 'यह साफ है कि इन परियोजनाओं को समय पर पूरा करने के लिए इसरो के सीमित संसाधनों का इस्तेमाल किया जाएगा। इसमें अनुसंधान एवं विकास के काफी काम शामिल हैं। पीएसएलवी का नियमित उत्पादन एक उद्योग कंसोर्टियम करेगा और इसरो मिशन विश्लेषण एवं योजना और नियंत्रण के कामों से जुड़ा रहेगा।' 


 


इसरो ने एकेडेमिया के साथ अपनी भागीदारी को भी मजबूत करने की कोशिश की है। देश भर के छह अलग इलाकों में स्थित एकेडेमिया केंद्रों में इसरो अपनी छह शोध पीठ गठित करने वाला है। इन पीठों का इस्तेमाल उभरती तकनीकों के विकास की जरूरत पूरी करने और इन्क्यूबेशन सेंटर के तौर पर किया जाएगा। प्रक्षेपण की शुरुआत 24 जनवरी को पीएसएलवी-सी44 अभियान के साथ हुई। यह पीएसएलवी के नए संस्करण पीएसएलवी-डीएल का पहला मिशन था। यह रॉकेट अपने साथ इमेजिंग उपग्रह माइक्रोसैट-आर और छात्रों द्वारा बनाया गया कलामसैट लेकर अंतरिक्ष में गया। कलामसैट को सौर समकालिक धु्रवीय कक्षा में स्थापित किया गया।


 




इसके बाद इसरो ने अगले चार महीनों के दौरान तीन अभियानों को अंजाम दिया। इनमें से एक उपग्रह मई में फ्रेंच गुयाना से प्रक्षेपित किया गया। गगनयान परियोजना के लिए चालक दल के चयन और प्रशिक्षण में सहयोग के लिए इसरो ने वायु सेना के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए। गगनयान देश का पहला मानवयुक्त अंतरिक्ष कार्यक्रम है जिसे 2022 में प्रक्षेपित करने की योजना है। 


 


इस बीच सरकार ने मार्च 2019 में न्यूस्पेस इंडिया के गठन की घोषणा की। इसकी कारोबारी योजना एंट्रिक्स कॉरपोरेशन की तरह होगी जो इसरो की पहली व्यावसायिक कंपनी है। यह पीएसएलवी के लिए नोडल एजेंसी होगी। जून से सितंबर तक इसरो का ज्यादा जोर चंद्रयान-2 पर रहा। इसे पहले दिन से ही कह रहा था कि यह अभियान तकनीकी रूप से ज्यादा चुनौतीपूर्ण है। इसरो ने इसके लैंडर को चंद्रमा के दक्षिणी धु्रव पर उतारने की कोशिश की जहां अभी तक कोई देश नहीं पहुंचा है। 15 जुलाई को अंतिम क्षणों में इस अभियान को तकनीकी गड़बड़ी के कारण टाल दिया गया। इस गड़बड़ी को दूर करने के बाद चंद्रयान-2 को 22 जुलाई को 48 दिन की यात्रा पर रवाना कर दिया गया। ऑर्बिटर को 2 जुलाई को सफलतापूर्वक चंद्रमा की कक्षा में स्थापित कर दिया गया लेकिन विक्रम लैंडर को सुरक्षित चंद्रमा की सतह पर उतारने की इसरो की कोशिश सफल नहीं हो पाई। ऑर्बिटर को पांच साल तक सेवा में रहना था लेकिन इसमें जितना ईंधन बचा है उससे यह सात साल तक सक्रिय रह सकता है। इस झटके के बाद इसरो ने नवंबर में फिर प्रक्षेपण की पटरी पर लौटा और उसने पीएसएलवी-सी47 को सफलतापूर्वक प्रक्षेपित किया। इस रॉकेट ने कार्टोसैट-3 और अमेरिका के 13 नैनो उपग्रहों को सफलतापूर्वक पृथ्वी की कक्षा में पहुंचाया। कार्टोसैट-3 तीसरी पीढ़ी का आधुनिक भू अवलोकन उपग्रह है जिसमें उच्च रिजॉल्यूशन इमेजिंग क्षमता है। यह उपग्रह पांच साल तक सेवा में रहेगा। इसका उपयोग व्यापक पैमाने पर शहरी नियोजन, तटीय भूमि के इस्तेमाल, ग्रामीण संसाधनों और बुनियादी ढांचे के विकास में किया जाएगा। साथ ही इससे सुरक्षा बलों की अंतरिक्ष से निगरानी की क्षमता में भी बढ़ोतरी होगी।  साल का समापन पीएसएलवी के 50वें मिशन के साथ हुई। पीएसएलवी-सी48 ने देश के नए जासूसी उपग्रह रिसैट-2बीआर1 और नौ अन्य विदेशी उपग्रहों को उनकी कक्षा में पहुंचाया। शिवन ने कहा कि यह इस साल का अंतिम प्रक्षेपण होगा और इस तरह इसरो ने छह प्रक्षेपण वाहन मिशनों और सात उपग्रह मिशनों के साथ साल का समापन किया। शिवन का कहना है कि 2020 में इसरो ने पीएसएलवी, जीएसएलवी और एसएसएलवी के साथ प्रक्षेपण की कई योजनाएं बनाई हैं। हालांकि उन्होंने यह बताने से इनकार कर दिया कि आने वाले साल में इसरो कितने प्रक्षेपण करेगा। उन्होंने कहा कि पीएसएलवी अंतरिक्ष में सभी स्थानों की यात्रा कर चुका है। इनमें धु्रवीय कक्षा, भूस्थिर हस्तातंरण कक्षा, चंद्रमा और मंगल शामिल है और अब उसका अगला लक्ष्य सूर्य है। नवंबर में शिवन ने कहा था कि इसरो का व्यस्त कार्यक्रम है और मार्च 2020 तक उसके पास 13 मिशन हैं। इसके बाद 2020 के मध्य में जीसैट-20 उपग्रह का प्रक्षेपण होना है। यह अगली पीढ़ी का पांच टन वजनी उपग्रह है जो देश की संचार क्षमताओं को बढ़ाएगा और इससे देश के ग्रामीण तथा दूरदराज के इलाकों में इंटरनेट की स्पीड बढ़ाने में मदद मिलेगी।इसरो ने पहले कहा था कि वह एक नए रॉकेट एसएसएलवी का प्रक्षेपण करेगा जो 500 किग्रा भार ले जाने में सक्षम है। छोटे रॉकेटों के क्षेत्र में बढ़ रही वैश्विक प्रतिस्पद्र्घा के मद्देनजर इसका विकास किया जा रहा है। यह प्रौद्योगिकी कंपनियों और स्टार्टअप के छोटे उपग्रहों को अंतरिक्ष में लेकर जाएगा। इसरो अब चंद्रयान-3 की तैयारी कर रहा है जिसे नवंबर 2020 में छोड़ा जा सकता है और इसके जरिये एक बार फिर चंद्रमा की सतह पर लैंडर उतारने की कोशिश होगी।




 





Popular posts from this blog

भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा-गादरे

मेरठ:-भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा। Raju Gadre राजुद्दीन गादरे सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता ने भारतीयों में पनप रही द्वेषपूर्ण व्यवहार आपसी सौहार्द पर अफसोस जाहिर किया और अपने वक्तव्य में कहा कि देश की जनता को गुमराह कर देश की जीडीपी खत्म कर दी गई रोजगार खत्म कर दिये  महंगाई बढ़ा दी शिक्षा से दूर कर पाखंडवाद अंधविश्वास बढ़ाया जा रहा है। षड्यंत्रकारियो की क्रोनोलोजी को समझें कि हिंदुत्व शब्द का सम्बन्ध हिन्दू धर्म या हिन्दुओं से नहीं है। लेकिन षड्यंत्रकारी बदमाशी करते हैं। जैसे ही आप हिंदुत्व की राजनीति की पोल खोलना शुरू करते हैं यह लोग हल्ला मचाने लगते हैं कि तुम्हें सारी बुराइयां हिन्दुओं में दिखाई देती हैं? तुममें दम है तो मुसलमानों के खिलाफ़ लिख कर दिखाओ ! जबकि यह शोर बिलकुल फर्ज़ी है। जो हिंदुत्व की राजनीति को समझ रहा है, दूसरों को उसके बारे में समझा रहा है, वह हिन्दुओं का विरोध बिलकुल नहीं कर रहा है ना ही वह यह कह रहा है कि हिन्दू खराब होते है और मुसलमान ईसाई सिक्ख बौद्ध अच्छे होते हैं! हिंदुत्व एक राजनैतिक शब्द है ! हिं

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन

 महेश्वरी देवी की रिपोर्ट  खबर बहेड़ी से  है, आज दिनांक 31 मार्च 2024 को समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन मधुर मिलन बारात घर बहेड़ी में संपन्न हुआ। जिसमें मुख्य अतिथि लोकसभा पीलीभीत प्रत्याशी  भगवत सरन गंगवार   रहे तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश महासचिव स्टार प्रचारक विधायक (पूर्व मंत्री )  अताउर रहमान  ने की , कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए  अता उर रहमान  ने कहा की प्रदेश में महंगाई बेरोजगारी चरम पर है और किसान बेतहाशा परेशान है उनके गन्ने का भुगतान समय पर न होने के कारण आत्महत्या करने को मजबूर हैं। उन्होंने मुस्लिम भाइयों को संबोधित करते हुए कहा की सभी लोग एकजुट होकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार को हटाकर एक सुशासन वाली सरकार (इंडिया गठबंधन की सरकार) बनाने का काम करें और भगवत सरन गंगवार को बहेड़ी विधानसभा से भारी मतों से जिताकर माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी के हाथों को मजबूत करें | रहमान जी ने अपने सभी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारी से कहा कि वह ज्यादा से ज्यादा इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी को वोट डलवाने का काम करें और यहां से भगवत सरन गंगवार को भ