Skip to main content

वाहन निर्माण में 13 परसेंट की गिरावट आई







वाहन क्षेत्र में गिरावट के बावजूद चालू वित्त वर्ष की अप्रैल से सितंबर अवधि के दौरान एल्युमीनियम कबाड़ आयात में 6.5 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। इस अवधि में देश के वाहन क्षेत्र के उत्पादन में 13 प्रतिशत की गिरावट आई है। भारतीय एल्युमीनियम संघ (एएआई) ने सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (सियाम) के आंकड़ों का हवाला देते हुए वित्त मंत्रालय को एक रिपोर्ट सौंपी है।उद्योग के एक सूत्र ने कहा कि ऑटो क्षेत्र के लिए आयात की आड़ में बिजली पारेषण और बर्तन जैसे अन्य क्षेत्रों में कबाड़ का इस्तेमाल किया जा रहा है। लेकिन ऐसे क्षेत्रों में कबाड़ का इस्तेमाल नुकसानदेह है और इनके लिए केवल प्राथमिक एल्युमीनियम का ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए। टिकाऊ उपभोक्ता वस्तुओं और बर्तनों जैसे संवेदनशील उत्पादों में अधिक सीसे और रेडियोधर्मी तत्व वाले एल्युमीनियम कबाड़ सेपर्यावरण और स्वास्थ्य को खतरा रहता है। ऐसे कबाड़ के इस्तेमाल से बिजली के उपकरणों और बिजली पारेषण की लाइनों में सुचालकता और बिजली की हानि होती है। एएआई को लगता है कि कबाड़ पर 2.5 प्रतिशत के मामूली आयात शुल्क से आयात में इजाफा हो रहा है। एल्युमीनियम के अलावा अन्य अलौह धातुओं के कबाड़ और प्राथमिक धातु दोनों के लिए ही बराबर शुल्क लगता है। एल्युमीनियम विनिर्माता प्राथमिक धातु और कबाड़ के बीच शुल्कों में अधिक अंतर झेल रहे हैं। एक ओर जहां कबाड़ पर 2.5 प्रतिशत का मामूली-सा शुल्क लगता है, वहीं दूसरी ओर प्राथमिक एल्युमीनियम पर 7.5 प्रतिशत शुल्क और एलएमई (लंदन मेटल एक्सचेंज) के दामों पर प्रीमियम शामिल रहता है।प्राथमिक एल्युमीनियम और कबाड़ के बीच कुल अंतर 400 से 500 डॉलर प्रति टन रहता है। एएआई ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि इसके अलावा गैर-कबाड़ आयात की गलत घोषणा से शुल्क चोरी की संभावना भी रहती है जिसके परिणामस्वरूप सरकारी खजाने को प्रत्यक्ष रूप से राजस्व की हानि होती है। इसमें कहा गया है कि प्राथमिक एल्युमीनियम क्षमता और घरेलू कबाड़ की पर्याप्त उपलब्धता की बड़ी उपस्थिति के बावजूद भारत का कबाड़ उपभोग 100 प्रतिशत आयात पर निर्भर है। स्वाभाविक तौर पर भारत में एल्युमीनियम कबाड़ आयात पूरी तरह से गैर-जरूरी है तथा घरेलू एल्युमीनियम उद्योग और देसी कबाड़ की रीसाइक्लिंग को प्रोत्साहन देने के लिए इसे प्रतिबंधित किया जाना चाहिए। देश के प्राथमिक एल्युमीनियम उपभोग को कबाड़ आयात के बढ़ते खतरे का सामना करना पड़ रहा है। वित्त वर्ष 19 के दौरान कुल आयात में इसकी हिस्सेदारी 58 प्रतिशत थी जिसके परिणामस्वरूप 2.5 अरब डॉलर मूल्य की विदेशी मुद्रा देश से बाहर गई।अमेरिका और चीन द्वारा एक-दूसरे पर शुल्क लगाए जाने के कारण भी देश के प्राथमिक एल्युमीनियम विनिर्माताओं के लिए जोखिम बढऩा तय है। इसके अलावा चीन ने सुरक्षात्मक कदम उठाते हुए इस वर्ष 15 दिसंबर से कबाड़ आयात पर पांच प्रतिशत अतिरिक्त शुल्क की घोषणा करके धातु अपशिष्टï और कबाड़ आयात के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है। चीन ने जुलाई 2019 से एल्युमीनियम कबाड़ को प्रतिबंधित आयात सूची में रख दिया है और कबाड़ आयात में कमी लाने के लिए कोटे की शुरुआत की है। इसकी योजना वर्ष 2020 तक कबाड़ और अपशिष्ट को पूरी तरह से प्रतिबंधित करने की है।कैलेंडर वर्ष 2019 में जनवरी से मार्च अवधि के दौरान भारत पहले ही चीन को सबसे बड़े कबाड़ आयातक के रूप में पीछे छोड़ चुका है। चीन के अलावा यूरोपीय संघ और अन्य विकसित देश कबाड़ के लिए कड़े नियम लागू कर चुके हैं। नतीजतन अमेरिका इन देशों के बाहर कबाड़ी की बड़ी खेप भेज रहा है जिससे भारत के सामने बड़ा खतरा पैदा हो गया है।






 








Popular posts from this blog

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु

सरधना विधानसभा से ए आई एम आई एम के भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने किया बड़ा ऐलान अब मुसलमान अपमानित नहीं होगा क्योंकि आ गई है उनकी पार्टी

खलील शाह/ साबिर सलमानी की रिपोर्ट  ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन की नेशनल पब्लिक स्कूल लश्कर गंज बाजार सरधना में आयोजित बैठक में भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने कहा कि ए आई एम आई एम पार्टी सरधना विधानसभा क्षेत्र में शोषित,वंचित और मुसलमानों को उनके अधिकार दिलाने के लिए आई है। आज भी सरधना विधानसभा क्षेत्र पिछड़ा हुआ है। राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी साहब ने उत्तर प्रदेश के शोषित और वंचित समाज को इंसाफ दिलाने का बीड़ा उठाया है। ए आई एम आई एम पार्टी ने मुसलमानों को दरी बिछाने वाला से टिकट बांटने वाला बनाने का बीड़ा उठाया है। जिस प्रकार आज सपा के मंचों पर मुसलमानों को अपमानित किया जा रहा है उसका बदला ए आई एम आई एम को वोट देकर सत्ता में हिस्सेदारी लेकर लेना होगा। हाजी आस मोहम्मद ने कहा कि उनके भाई हाजी अमीरुद्दीन ने तमाम उम्र समाजवादी पार्टी को आगे बढ़ाने में गुजार दी और जब किसी बीमारी की वजह से उनका इंतकाल हुआ तो समाजवादी पार्टी का कोई नुमाइंदा भी उनके परिवार की खबर गिरी करने नहीं आया । आजादी से लेकर आज तक मुस्लिम समाज सेकुलर दलों को अपना वोट देता आ रहा है लेकिन उसके बदले मे