Skip to main content

भारत का संविधान

26 जनवरी को भारत अपना 71वां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहा है। इन 70 सालों को बनाने और आगे बढ़ाने में भारत के संविधान ने ही अहम भूमिका निभाई है। इतिहास की बात करें तो भारत का संविधान (Constitution Of India) भारत का संविधान (Constitution Of India) पास हुआ था और 26 जनवरी (26 January) को लागू होने के बाद हर साल इस दिन को याद करने के लिए राजपथ पर गणतंत्र दिवस परेड को निकाला जाता है। भारत का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा संविधान है, जो कई देशों से लेकर बना है। आज हम आपको बता रहे हैं भारत को एक बनाए रखने वाली किताब 'भारत का संविधान' (Constitution Of India) के बारे में... संविधान का इतिहास (History of the Constitution) भारत का संविधान (Constitution of India) भारत का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा संविधान कहा जाता है, जिसमें सबसे ज्यादा दस्तावेज हैं। सबसे बड़ा होने के अलावा, यह भारतीय राज्य को नियंत्रित करने के बारे में भी बताता है कि कौन किस तरह से काम करेगा। स्वतंत्रता से पहले, भारत में दो सरकारें थीं एक ब्रिटिश सरकार और दूसरी रियासतें। यह संविधान है, जिसने औपचारिक रूप से इन दो भेदों को समाप्त किया और भारत को एक संघ देश बनाया। Also Read - दो दशकों में पहली बार भारत के डायरेक्ट टैक्स में आई बड़ी गिरावट, जानें क्या है मामला भारत का संविधान इसका लेक्स लोकी है, अर्थात भारत में सभी कानूनों का जनक। मूल रूप से इसका मतलब है कि संसद और राज्य विधानसभाओं के सभी कानून संविधान से अपने अधिकार प्राप्त करते हैं। यहां तक ​​कि भारतीय राज्य के तीन स्तंभ- विधायिका, कार्यपालिका और न्यायपालिका- संविधान से अधिकार प्राप्त करते हैं। संविधान के बिना, हमारे पास भारत को चलाने वाली प्रशासनिक मशीनरी नहीं होगी। यहां तक ​​कि लोगों के मौलिक अधिकार और कर्तव्य भी संविधान के बिना मौजूद नहीं होंगे। भारतीय संविधान की विशेषताएं (Features of the Indian Constitution) 1. प्रस्तावना 2. संघ और उसका क्षेत्र (अनुच्छेद 1 - 4) 3. नागरिकता (अनुच्छेद 5-11) मौलिक अधिकार - समानता का अधिकार मौलिक अधिकार - स्वतंत्रता का अधिकार मौलिक अधिकार - शोषण के खिलाफ अधिकार (बहुत छोटा लेख) मौलिक अधिकार - धर्म की स्वतंत्रता का अधिकार मौलिक अधिकार - सांस्कृतिक और शैक्षिक अधिकार मौलिक अधिकार - कुछ कानूनों की बचत मौलिक अधिकार - संवैधानिक उपचार का अधिकार भारत के संविधान का इतिहास काफी लचीला है क्योंकि यह बताता है कि यह अस्तित्व में कैसे आया। यह यह भी बताता है कि भारत ने अपने आधुनिक रूप में लोकतंत्र के संसदीय स्वरूप को क्यों चुना। इतिहासकार कहते हैं कि 17 वीं शताब्दी में अंग्रेज भारत में केवल व्यापार के लिए आए थे। धीरे-धीरे उन्होंने व्यापार के साथ राजनीतिक मामलों में हस्तक्षेप करना शुरू कर दिया। उन्होंने राजस्व इकट्ठा करने और खुद को शासित करने के अधिकार हासिल कर लिए। ऐसा करने के लिए उन्होंने विभिन्न कानून, नियम और कानून बनाए। 1833 के चार्टर एक्ट के अनुसार, बंगाल का गवर्नर जनरल भारत का गवर्नर जनरल बन गया। इसने एक केंद्रीय विधानमंडल भी बनाया, जिसने एक तरह से भारत के ब्रिटिश शासकों को बनाया। कंपनी का शासन अंतत 1858 में भारत सरकार अधिनियम के साथ समाप्त हो गया। नतीजतन, ब्रिटिश क्राउन भारत का शासक बन गया और अपनी सरकार के माध्यम से देश का प्रशासन किया।भारत पहुंचे ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोल्सोनारो, प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर किया स्वागत 1861, 1892 और 1909 के भारतीय परिषद अधिनियमों ने वायसराय की परिषदों में भारतीयों को प्रतिनिधित्व देना शुरू किया। उन्होंने कुछ प्रांतों में विधायी शक्तियां भी बहाल कीं। दूसरे शब्दों में, उन्होंने केंद्र और प्रांतों के बीच शक्तियों के विकेंद्रीकरण को अपनाया। भारत सरकार अधिनियम 1919 (Government of India Act 1919) इस अधिनियम के अनुसार, सरकार के सभी प्रांतों में विधान परिषदें अस्तित्व में आईं। दूसरे शब्दों में, अंग्रेजों ने अलग-अलग केंद्रीय और प्रांतीय सरकारों के साथ द्विसदनीय संरचना को अपनाया। यह भी पहली बार था जब लोग प्रत्यक्ष चुनाव के माध्यम से अपने प्रतिनिधियों का चुनाव कर सकते थे। संविधान ने बाद में इस अर्ध-संघीय और द्विसदनात्मक संरचना को अपनाया। भारत सरकार अधिनियम 1935 (Government of India Act 1935) इस कानून का अधिनियमित होना संविधान के इतिहास की सबसे महत्वपूर्ण घटनाओं में से एक है। सबसे पहले, इस कानून ने शासन की शक्तियों को एक संघीय सूची, एक प्रांतीय सूची और एक समवर्ती सूची में विभाजित किया। यहां तक ​​कि भारतीय संविधान ने केंद्र और राज्य सरकारों के बीच शक्तियों का ऐसा विभाजन अपनाया। इस अधिनियम ने प्रांतों को स्व-शासन की अधिक स्वायत्तता प्रदान की। इसने संघीय न्यायालय की भी स्थापना की, जिसे अब हम भारत के सर्वोच्च न्यायालय के रूप में संदर्भित करते हैं। 1947 का भारतीय स्वतंत्रता अधिनियम (Indian Independence Act of 1947) यह अधिनियम भारत से अंग्रेजों की विदाई में अंतिम चरण का प्रतीक है। भारत इस अधिनियम के बाद वास्तव में स्वतंत्र और संप्रभु राज्य बन गया। अधिनियम ने केंद्रीय और प्रांतीय स्तरों पर सरकारें स्थापित कीं। इसने संविधान सभा की नींव भी रखी। संविधान सभा (Constituent Assembly) अनंतिम विधानसभाओं के सदस्य अप्रत्यक्ष रूप से संविधान सभा के सदस्य चुने गए। यह सभा स्वतंत्र भारत के पहले 'संसद' के रूप में कार्य करती थी और पहली बार 9 दिसंबर 1946 को दिल्ली में मिली थी। आजादी के बाद, विधानसभा ने डॉ। राजेंद्र प्रसाद को अपना अध्यक्ष चुना और संविधान का मसौदा तैयार किया। डॉ। अंबेडकर मसौदा समिति के प्रमुख बने। यही कारण है कि उन्हें संविधान का पिता कहा जाता है। दो साल से अधिक समय तक विचार-विमर्श के बाद, विधानसभा ने आखिरकार 26 नवंबर 1949 को संविधान को मंजूरी दे दी। इन देशों से लिया गया है संविधान (Constitution taken countries) ब्रिटेन के शासन से भारत काफी समय बाद आजाद हुआ। लेकिन कई सारे देश थे जो बहुत पहले आजाद हो गए थे। उन्होंने अपना संविधान बना लिया था। कई देश ऐसे थे जिनके यहां लोकतांत्रिक प्रक्रिया लागू थी। ऐसे में संविधान निर्माताओं ने भारत के संविधान को लिखने में कई देशों के संविधान की सहायता ली। जिन देशों की सहायता ली गई वो थे- 1. संयुक्त राज्य अमेरिका 2. ब्रिटेन 3. आयरलैंड 4. ऑस्ट्रेलिया 5. जर्मनी 6. कनाडा 7. दक्षिण अफ्रीका 8. सोवियत संघ 9. जापान 10. फ्रांस दुनिया का सबसे बड़ासंयुक्त राज्य अमेरिका 2. ब्रिटेन 3. आयरलैंड 4. ऑस्ट्रेलिया 5. जर्मनी 6. कनाडा 7. दक्षिण अफ्रीका 8. सोवियत संघ 9. जापान 10. फ्रांस दुनिया का सबसे बड़ा और छोटा संविधान दुनिया का सबसे बड़ा संविधान भारत का है इसमें वर्तमान में 465 आर्टिकल और 12 अनुसूचियां हैं। भारत के संविधान को हिंदी और इंग्लिश में हाथ से लिखा गया था। इसकी मूल कॉपी पार्लियामेंट की लाइब्रेरी में हीलियम से भरे केस में रखी हुई है। सबसे छोटे संविधान वाले देशों में अमेरिका, जर्मनी, चीन और मैक्सिको का नाम शामिल है।


Popular posts from this blog

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

थाना अमरिया पुलिस द्वारा 04 अभियुक्तों को 68 किलोग्राम डोडा पोस्ता व डोडा चूरा सहित किया गिरफ्तार

 पीलीभीत के थाना अमरिया में आज दिनांक 05.09.2022 को थाना अमरिया जनपद पीलीभीत पुलिस द्वारा पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार प्रभु जनपद पीलीभीत के निर्देशन में व  अपर पुलिस अधीक्षक महोदय जनपद पीलीभीत व क्षेत्राधिकारी सदर महोदय जनपद पीलीभीत के कुशल नेतृत्व में अपराधियों के विरुद्ध जनपद में मादक पदार्थ व जहरीली शराब की तस्करी व रोकथाम हेतु चलाये जा रहे अभियान के तहत  थाना अमरिया पुलिस द्वारा 02 अभियुक्तगणों 1.महेश कुमार गुप्ता पुत्र ओमप्रकाश निवासी कस्बा व थाना अमरिया जनपद पीलीभीत व  2.रवि गुप्ता पुत्र महेश गुप्ता निवासी कस्बा व थाना अमरिया जनपद पीलीभीत को उनके घर के पास से गिरफ्तार किया गया तथा इनके कब्जे से मादक पदार्थ 31 किलोग्राम ( डोडा पोस्ता व डोडा चूरा ) बरामद हुआ गिरफ्तार किए गये अभियुक्तगणों से गहनता से पूछताछ के दौरान उन्होनों बरामद मादक पदार्थों को  अभियुक्त प्रमोद गुप्ता पुत्र मटरु लाल निवासी ग्राम देवचरा थाना भमौरा जनपद बरेली व अभियुक्त विनोद कुमार गुप्ता पुत्र मटरु लाल निवासी ग्राम देवचरा थाना भमौरा जनपद बरेली से खरीद कर लाना बताया इस पूछताछ के दौरान प्रकाश में आये अभियुक्त प्रमोद