Skip to main content

घूंघट मुक्त समाज के लिए स्वयं सेवी संस्थाओं की भूमिका

जयपुर। जिला कलक्टर डॉ. जोगाराम ने कहा है कि घूंघट मुक्त समाज के निर्माण के लिए स्वयंसेवी संस्थाओं एवं पुरुषोंं की भूमिका महत्वपूर्ण है जो इस बदलाव के लिए सामाजिक माहौल बनाने में सहायक बन सकते हैं। साथ ही महिला सशक्तिकरण की विभिन्न योजनाओं के लक्ष्यों को हासिल करने के लिए सम्बन्धित विभिन्न विभागों को समन्वय के साथ काम करना होगा।डॉ. जोगाराम सोमवार को जिला कलक्ट्रेट सभागार में महिला सशक्तिकरण की विभिन्न योजनाओं के प्रभावी क्रियान्वयन के सम्बन्ध में आयोजित बैठक में विभिन्न विभागाेंं के अधिकारियों एवं एनजीओ के प्रतिनिधियों से मिले फीडबैक के आधार पर सम्बोधित कर रहे थे।
उन्हाेंने कहा कि घूंघट मुक्त समाज के लिए समाज की सोच में बदलाव लाने का काम गैर सरकारी संगठन अच्छी तरह कर सकते हैं। उनके सुझावों एवं जमीनी स्तर से मिले फीडबैक को शामिल करके ही जयपुर जिले में घूंघट से मुक्ति के लिए एक्शन प्लान तैयार किया जाएगा। इसमें शिक्षा विभाग, चिकित्सा विभाग, पंचायती राज विभाग की भूमिका भी महत्वपूर्ण है। बैठक के बाद पत्रकारों से बात करते हुए जिला कलक्टर ने बताया कि सोमवार की बैठक इस मायने में सार्थक रही कि जिलेभर में महिलाओं की बेहतरी के लिए कार्य कर रहे एनजीओ ने न सिर्फ प्रासंगिक एवं व्यावहारिक मुद्दे उठाए बल्कि उनके समाधान के बारे में भी जानकारी अपने सुझावों के जरिए साझा की। इस सुझावों की समीक्षा कर एक्शन प्लान तैयार किया जाएगा ताकि जिले की महिलाओं को उनके लिए चलाई जा रही सरकारी योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ मिल सके।

बैठक में विभिन्न अधिकारियों ने उनके विभागों में चलाई जा रही महिलाओं के सशक्तिकरण की योजनाओं की विस्तार से जानकारी दी एवं अपने अनुभव भी साझा किए। एसएमएस अस्पताल की पूर्व प्लास्टिक सर्जरी एचओडी प्रो. मालती गुप्ता ने अलवर के एक गांव को घूंघट मुक्त किए जाने की पूरी प्रक्रिया बताई। जिले में घूंघट प्रथा के लिए स्कूलों में बने गार्गी मंच, मीना मंच जैसे समूह का उपयोग कर, व्हाट्सअप एवं अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर इसे बारे में जागरुकता फैलाने, साथिन, आशा सहयोगिनी एवं महिला-पंच सरपंच का महिला ग्राम सभा द्वारा आमुखीकरण किए जाने, घूंघट प्रथा उन्मूलन में पुरुषों की भागीदारी के प्रयास करने, गांव के लोगों का सहयोग लेने जैसे विभिन्न सुझाव इस बैठक में सामने आए। पुलिस की सहायक उपायुक्त सदर डॉ. संध्या यादव ने घूंघट मुक्ति की शुरूआत अपने घर से ही करने का सुझाव दिया।जिला परिषद् की मुख्य कार्यकारी भारती दीक्षित ने जालसू ब्लॉक में उनके प्रशिक्षण काल का अनुभव साझा करते हुए बताया कि जब उन्होंने ग्राम पंचायत की सभा में केवल चुनी हुई महिला सरपंच को ही शामिल करने का निर्णय दिया तो पहले विरोध हुआ, लेकिन बाद में समझाइश से इसे स्वीकार किया गया। उप निदेशक महिला अधिकारिता डॉ. राजेश डोगीवाल ने बैठक के आरम्भ में महिला सशक्तिकरण के लिए किए जा रहे प्रयासों एवं योजनाओं की जानकारी दी।बैठक में एसआरकेपीएस, प्लान इंडिया, सेव द चिल्ड्रन जयपुर, इंडियन डवपलपमेंट सोसायटी, विशाखा, रूवा, जीवन आश्रम, वत्सला जयपुर, जन कल्याण साहित्य मंच, प्रयत्न जयपुर संस्था, राजस्थान प्रगतिशील संस्था, महिला सुरक्षा एवं सलाह केन्द्र के प्रतिनिधि शामिल हुए।


Popular posts from this blog

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

सरधना विधानसभा से ए आई एम आई एम के भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने किया बड़ा ऐलान अब मुसलमान अपमानित नहीं होगा क्योंकि आ गई है उनकी पार्टी

खलील शाह/ साबिर सलमानी की रिपोर्ट  ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन की नेशनल पब्लिक स्कूल लश्कर गंज बाजार सरधना में आयोजित बैठक में भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने कहा कि ए आई एम आई एम पार्टी सरधना विधानसभा क्षेत्र में शोषित,वंचित और मुसलमानों को उनके अधिकार दिलाने के लिए आई है। आज भी सरधना विधानसभा क्षेत्र पिछड़ा हुआ है। राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी साहब ने उत्तर प्रदेश के शोषित और वंचित समाज को इंसाफ दिलाने का बीड़ा उठाया है। ए आई एम आई एम पार्टी ने मुसलमानों को दरी बिछाने वाला से टिकट बांटने वाला बनाने का बीड़ा उठाया है। जिस प्रकार आज सपा के मंचों पर मुसलमानों को अपमानित किया जा रहा है उसका बदला ए आई एम आई एम को वोट देकर सत्ता में हिस्सेदारी लेकर लेना होगा। हाजी आस मोहम्मद ने कहा कि उनके भाई हाजी अमीरुद्दीन ने तमाम उम्र समाजवादी पार्टी को आगे बढ़ाने में गुजार दी और जब किसी बीमारी की वजह से उनका इंतकाल हुआ तो समाजवादी पार्टी का कोई नुमाइंदा भी उनके परिवार की खबर गिरी करने नहीं आया । आजादी से लेकर आज तक मुस्लिम समाज सेकुलर दलों को अपना वोट देता आ रहा है लेकिन उसके बदले मे