Skip to main content

नागरिकता संशोधन कानून विरोधी प्रदर्शनों पर प्रधानमंत्री ने

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) विरोधी प्रदर्शनों पर तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुप्पी साध रखी है. मगर जेएनयू के छात्रों और शिक्षकों को वे निशाना बनाते रहे हैं. भाजपा के कई मंत्री और नेता ‘लोकतांत्रिक तरीके से निर्वाचित सरकार द्वारा पास किए गए कानून’ का विरोध करने वाले युवाओं की निंदा करते रहे हैं. लेकिन एक समय था जब नरेंद्र मोदी ने खुद एक युवा नेता के तौर पर 1978 में, अपनी पहली गुजराती किताब ‘संघर्षमा गुजरात’ (साधना पुस्तक प्रकाशन, अहमदाबाद) में लिखा था कि गुजरात ने इंदिरा गांधी की इमरजेंसी का किस तरह प्रतिकार किया था. तब करीब 20 साल से कुछ ऊपर के मोदी ने इस किताब में बताया है कि उन्होंने इस प्रतिकार में किस तरह सक्रिय भागीदारी की थी.


मोदी की सार्वजनिक और भूमिगत गतिविधियों के ब्यौरे देने वाली इस किताब की शुरुआत इस तरह होती है. ‘इतिहास गवाह है, राजमहलों और संसदों ने इतिहास नहीं बनाई है, संसद पर दस्तक देने वालों ने संसद भी बनाया है, इतिहास भी बनाया है.’


बुद्धिजीवियों की तारीफ


किताब के एक अध्याय में ‘बौद्धिकों’ की भूमिका की प्रशंसा की गई है, जबकि गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए और अब प्रधानमंत्री के रूप में भी मोदी इस जमात के खिलाफ़ नफरत उगलते रहे हैं. लेकिन तब, युवाओं को ‘विद्रोह’ करने का आह्वान करते हुए उन्होंने उनके नाम एक पत्र जारी किया था. यह 21 नवंबर 1976 की बात है, जब अहमदाबाद में युवाओं का एक सम्मेलन बुलाया गया था. पूर्व मुख्यमंत्री और गांधीवादी नेता बाबूभाई जे पटेल स्वतंत्र पार्टी के नेता पीलू मोदी के साथ इसमें भाग लेने वाले थे. उस समय मोदी भूमिगत थे. लेकिन युवाओं के इस सम्मेलन के लिए उन्होंने एक संदेश तैयार किया था और इसमें लिखा था कि इस सम्मेलन को अहमदाबाद में करने की अनुमति नहीं दी गई है इसलिए इसे वहां से 20 किलोमीटर दूर बारेजादी में किया जा रहा है. मोदी के मुताबिक, ‘इस किताब के लेखक का संदेश इस सम्मेलन में पढ़कर सुनाया गया, और जनसंघ के सदस्यों ने ‘सैकड़ों पुलिसवालों की मौजूदगी में’ इस संदेश को बांटा।आज जब मोदी प्रदर्शनकारियों को ‘आत्मविश्लेषण’ करने के लिए कह रहे हैं या उनकी पहचान उनके पहरावे से कर रहे हैं तब उन्हें अपने इस पत्र को पढ़ने के बारे में सोचना चाहिए, जो उन्होंने तब लिखा था-युवाओ !



नरेंद्र मोदी ने खुद एक युवा नेता के तौर पर 1978 में, अपनी पहली गुजराती किताब ‘संघर्षमा गुजरात’ (साधना पुस्तक प्रकाशन, अहमदाबाद) में लिखा था। चित्र सौजन्य: उर्वश कोठारी


आप भारतमाता के प्यारे हैं, भारत के भविष्य के लिए उम्मीद की एक किरण हैं. विजयी भारतमाता की संतानो, जरा सोचो! हमें आज किस दिशा में धकेला जा रहा है? अगर आप आज नहीं जागे, तो जरा सोचिए कि कल आपको किस परिस्थिति का सामना करना पड़ेगा।भारत के भविष्य को आप ही दिशा देंगे. चूंकि युवा ही आज समाज के अगुआ हैं और कल देश के नेता बनेंगे… तब यह किसका उत्तरदायित्व है कि आज की समस्याओं का समाधान करे और देश को चमकाए? इसका उत्तर स्पष्ट है— यह उत्तरदायित्व आपका ही है.


देश के साथ फरेब करके उसे चुप करा दिया गया है. कल ऐसी गुलामी में जीने के लिए कौन मजबूर होगा? बेशक आप ही मजबूर होंगे. आज की गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा, अनैतिकता, भ्रष्टाचार, और चरम यातना कल किसे भुगतनी पड़ेगी? आपको. लोकतंत्र को जिस तरह नष्ट किया गया है और तानाशाही थोप दी गई है, उस रास्ते पर कल किसे सिर झुकाकर चलना पड़ेगा? आपको, देश में आज दूसरी आज़ादी की जो लड़ाई चल रही है उसमें अगर आप अपना बलिदान नहीं देते तो कल इतिहास किसे कोसेगा? आपके सिवा किसी और को नहीं. शहीदों के लहू का महत्व न समझने के लिए इतिहासकर जिन लोगों के नामों की सूची बनाएंगे उसमें किसका नाम होगा? बेशक, आपका. युवाओ! हमेशा याद रखें कि आपकी भूमिका सिर्फ इतिहास लिखने या पढ़ने तक सीमित नहीं है, आपका काम इतिहास बनाना भी है. कालपुरुष कालपट पर हर दिन इतिहास लिखता है. उसे सामग्री मुहैया कराने की ज़िम्मेदारी किसकी है? आपकी।इस देश का इतिहास कैसे लिखा जाएगा? सूखी हुई स्याही और कलम से? या युवाओं के हृदय के रक्त से? या बहनों की पवित्र राखी और सतियों के सिंदूर से? इसका फैसला कौन करेगा? आप।लोकतंत्र की विजय और तानाशाही की हार में बस एक कदम का फासला रह गया है. विजय की ओर वह एक कदम उठाने का काम किसका है? आपका.जेलों में बंद, कमजोर भारतमाता की तरह असहाय लोगों को मुक्त कराने का कर्तव्य किसका है? आपका. भारतमाता की संतानो! व्यापक और असहनीय अत्याचारों, भारी असंतोष और असहायता से लड़ने के महान कर्तव्य और भारी चुनौती के सामने कौन खड़ा होगा? सुनहरे भविष्य के रचनाकार आप ही हैं!आप अपने आंदोलन की शुरुआत कहां से करेंगे? प्रतिद्वंद्वी की पहचान करने के बाद आपको उपयुक्त हथियार उठान पड़ेगा. युवाओ, अगर आप आगे नहीं आते हैं तो भारत का आंदोलन अपने मार्ग से भटक जाएगा. अगर आप चुनौती को स्वीकार नहीं करते तो भविष्य आपको आज का युवा मानने से इनकार कर देगा, क्योंकि युगों से असली युवा दमन का मुक़ाबला करते रहे हैं. उन्होंने दमन और अन्याय के सामने कभी सिर नहीं झुकाया, वे कभी रुके नहीं, कभी थके नहीं.
तो आज आप चुप क्यों हैं? युवाओं की शानदार परंपरा में चार चांद लगाने का ऐतिहासिक मौका आपके दरवाजे पर दस्तक दे रहा है. उठो, जागो, और भारतमाता की दूसरी आज़ादी की लड़ाई में कूद पड़ो !


दोस्तो! हम सब आज़ादी के बाद की पैदाइश हैं. गुलामी में दम तोड़ना हमें मंजूर नहीं. दम लगाकर गुलामी तोड़ना हमारा काम है… यही यौवन है!
आपका
(युवा भूगर्भ साथी)


Popular posts from this blog

ग्राम कुलिंजन स्थित ईद गाह पर ईद के नमाज़ अदा की गई

  आज ईद उल फ़ितर के मौके पर ग्राम कुलिंजन स्थित ईद गाह पर ईद के नमाज़ अदा की गई,इस मौके पर क़ारी मेहताब खाँन साहब ने ईद के   पवित्र त्यौहार पर प्रकाश डाला व देश के अमन ओ अमान और एक दूसरे के साथ प्यार बाँटने का संदेश देते हुए,सभी को ईद की मुबारकबाद दी, ईद के नमाज़ क़ारी, रहीम साहब, पेश इमाम जामा मस्जिद कुलिंजन ने पढ़वाई व इस के साथ ही ख़सूसी दुआ करवाई, जय हिंद सोशल वेलफ़ेयर सोसायटी के अध्यक्ष मुशाम खाँन ने आये हुए  सभी नमाज़ियों की ईद की मुबारकबाद पेश की इस मौके पर मास्टर मईन उद्दीन खाँन, हाजी अरशद खाँन ,हाजी एहतेशाम,हाजी अतहर व हाजी अज़हर,हाफिज़ असग़र, सभी का इस्तकबाल करा।

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

ज़मीनी विवाद में पत्रकार पर 10 लाख रंगदारी का झूठे मुकदमें के विरुद्ध एस एस पी से लगाई जाचं की गुहार

हम करेंगे समाधान" के लिए बरेली से रफी मंसूरी की रिपोर्ट बरेली :- यह कोई नया मामला नहीं है पत्रकारों पर आरोप लगना एक परपंरा सी बन चुकी है कभी राजनैतिक दबाव या पत्रकारों की आपस की खटास के चलते इस तरह के फर्जी मुकदमों मे पत्रकार दागदार और भेंट चढ़ते रहें हैं।  ताजा मामला   बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान पत्रकार का है जो विभिन्न समाचार पत्रों से जुड़े हैं उन पर रंगदारी मांगने का मुक़दमा दर्ज कर दिया गया है। इस तरह के बिना जाचं करें फर्जी मुकदमों से तो साफ ज़ाहिर हो रहा है कि चौथा स्तंभ कहें जाने वाले पत्रकारों का वजूद बेबुनियाद और सिर्फ नाम का रह गया है यही वजह है भूमाफियाओं से अपनी ज़मीन बचाने के लिए एक पत्रकार व दो अन्य प्लाटों के मालिकों को दबाव में लेने के लिए फर्जी रगंदारी के मुकदमे मे फसांकर ज़मीन हड़पने का मामला बरेली के थाना बारादरी से सामने आया हैं बताते चले कि बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान के मुताबिक उनका एक प्लाट थाना बारादरी क्षेत्र के रोहली टोला मे हैं उन्हीं के प्लाट के बराबर इमरान व नयाब खां उर्फ निम्मा का भी प्लाट हैं इसी प्लाट के बिल्कुल सामन