Skip to main content

दंगा भड़काने के आरोप में कांग्रेस की पूर्व पार्षद इशरत जहां गिरफ्तार

नई दिल्ली। उत्तर-पूर्वी दिल्ली की हिंसा के बाद अब जिंदगी धीरे-धीरे कदम आगे बढ़ा रही है। दुकानें भी खुलने लगी हैं, गाड़ियां भी सड़कों पर निकलने लगी हैं। बाजार में चहल-पहल देखी जा रही है। दिल्ली पुलिस अनुसार, दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 42 तक पहुंच गई है।


अपडेट...

-दिल्ली हिंसा की जांच के मामले में दिल्ली पुलिस की एसआईटी ने साइबर सेल की सहायता मांगी है। करीब 12 एफआईआर में साइबर सेल अपने स्तर पर जांच कर रही है। दरअसल साइबर सेल कई सीसीटीवी फुटेज खंगालने का काम अत्याधुनिक सॉफ्टवेयर्स की सहायता से करती है। दिल्ली हिंसा के ऐसे कई सीसीटीवी फुटेज साइबर सेल को सौपे गए हैं जिनकी क्वालिटी खराब है। सूत्रों की माने तो इन्हीं सीसीटीवी फुटेज के जरिए हिंसा करने वालों की पहचान का काम शुरू हो चुका है, इसके अलावा सोशल मीडिया जैसे व्हाट्सअप और फेसबुक के जरिए नफरत फैलाने वालों की पहचान करने का काम भी शुरू हो गया है।

-कांग्रेस की पूर्व निगम पार्षद इशरत जहां को हिंसा भड़काने के आरोप में दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इशरत जहां जगतपुरी इलाके की पूर्व निगम पार्षद रही हैं। पुलिस के मुताबिक इन पर खुरेंजी में हिंसा फैलाने का आरोप है।

- दिल्ली पुलिस ने 35 के मरने के कारणों की पहचान करते हुए बताया कि पिछले दिनों नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली में हुई हिंसा में 22 लोगों की मौत पत्थरबाजी की के कारण हुई है, जबकि 13 मौत गोली लगने की वजह से हुई है।

पुलिस ने शुक्रवार को नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली में हुई हिंसा में 35 लोगों के मारे जाने के कारणों का खुलासा किया और उनकी मौत की वजह भी बताई. 35 में से 22 की मौत पथराव या उन पर हुए शारीरिक हमले से हुई जबकि 13 की मौत बंदूक की गोली लगने से हुई.

-दिल्ली सरकार के सूत्रों से पता चला है कि व्हाट्सएप पर नफरत से भरी बातें फैलाई जा रही हैं। अगर किसी को ऐसी कोई सामग्री मिलती है तो उसे दिल्ली सरकार में तुरंत शिकायत दर्ज करवाएं। दिल्ली सरकार इसके लिए एक व्हाट्सएप नंबर जारी करने जा ही है। दिल्ली सरकार के सूत्रों के मुताबिक ऐसे शिकायतों की समीक्षा के बाद अगर उन्हें सही पाया गया तो आगे की कार्रवाई के लिए इसे पुलिस के पास फॉर्रवर्ड कर दिया जाएगा।

दिल्ली पुलिस और पैरा मिलिट्री फोर्स के जवानों ने रात भर हिंसा ग्रस्त इलाकों में मौजपुर, करावल नगर, भजनपुरा, सीलमपुर और जाफराबाद जैसे इलाकों में पुलिस की भारी बंदोबश्त है। पुलिस एहतियातन लोगों से सावधानी बरतने की बात कह रही है और अफवाहों से बचने का आग्रह कर रही है।


Popular posts from this blog

ग्राम कुलिंजन स्थित ईद गाह पर ईद के नमाज़ अदा की गई

  आज ईद उल फ़ितर के मौके पर ग्राम कुलिंजन स्थित ईद गाह पर ईद के नमाज़ अदा की गई,इस मौके पर क़ारी मेहताब खाँन साहब ने ईद के   पवित्र त्यौहार पर प्रकाश डाला व देश के अमन ओ अमान और एक दूसरे के साथ प्यार बाँटने का संदेश देते हुए,सभी को ईद की मुबारकबाद दी, ईद के नमाज़ क़ारी, रहीम साहब, पेश इमाम जामा मस्जिद कुलिंजन ने पढ़वाई व इस के साथ ही ख़सूसी दुआ करवाई, जय हिंद सोशल वेलफ़ेयर सोसायटी के अध्यक्ष मुशाम खाँन ने आये हुए  सभी नमाज़ियों की ईद की मुबारकबाद पेश की इस मौके पर मास्टर मईन उद्दीन खाँन, हाजी अरशद खाँन ,हाजी एहतेशाम,हाजी अतहर व हाजी अज़हर,हाफिज़ असग़र, सभी का इस्तकबाल करा।

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

ज़मीनी विवाद में पत्रकार पर 10 लाख रंगदारी का झूठे मुकदमें के विरुद्ध एस एस पी से लगाई जाचं की गुहार

हम करेंगे समाधान" के लिए बरेली से रफी मंसूरी की रिपोर्ट बरेली :- यह कोई नया मामला नहीं है पत्रकारों पर आरोप लगना एक परपंरा सी बन चुकी है कभी राजनैतिक दबाव या पत्रकारों की आपस की खटास के चलते इस तरह के फर्जी मुकदमों मे पत्रकार दागदार और भेंट चढ़ते रहें हैं।  ताजा मामला   बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान पत्रकार का है जो विभिन्न समाचार पत्रों से जुड़े हैं उन पर रंगदारी मांगने का मुक़दमा दर्ज कर दिया गया है। इस तरह के बिना जाचं करें फर्जी मुकदमों से तो साफ ज़ाहिर हो रहा है कि चौथा स्तंभ कहें जाने वाले पत्रकारों का वजूद बेबुनियाद और सिर्फ नाम का रह गया है यही वजह है भूमाफियाओं से अपनी ज़मीन बचाने के लिए एक पत्रकार व दो अन्य प्लाटों के मालिकों को दबाव में लेने के लिए फर्जी रगंदारी के मुकदमे मे फसांकर ज़मीन हड़पने का मामला बरेली के थाना बारादरी से सामने आया हैं बताते चले कि बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान के मुताबिक उनका एक प्लाट थाना बारादरी क्षेत्र के रोहली टोला मे हैं उन्हीं के प्लाट के बराबर इमरान व नयाब खां उर्फ निम्मा का भी प्लाट हैं इसी प्लाट के बिल्कुल सामन