Skip to main content

नफरत की राजनीति से किसको फायदा

मुसलमानों से डर किसको और क्यों ? 


एस. ज़ेड.मलिक(पत्रकार)


मुसलमानों से केवल और केवल उन्हें नफरत है, जो द्वेष, दुराग्रह में अपना जीवन व्यतीत करते है, जैसे मानुवादी, तथा उन्मादी लोग, जो अपना वर्चस्व किसी भी रूप स्थापित रखना चाहते हैं , और यह लोग कैसे है और कौन लोग हैं? इनका धंधा क्या है। थोड़ा ध्यान से इसे पढ़ें और मंथन करें ।
 पहला- भारत मे मन्दिर के व्यावस्थापक, दूसरा- अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ब्याज शराब और फैशन कॉरपोरेट, तीसरा- हत्यार, और वैश्याविर्त का धंधा।


इस्लाम अर्थात इंसानियत - इन सभी बुराइयों से दूर रहने का सख्ती से हुक्म देता है - इंसानियत अर्थात इस्लाम में इन बुराइयों की कोई जगह नहीं, और जो इस्लाम के फॉलोवर हैं वह मुसलमान है को इस्लाम अर्थात इंसानियत में उदारवादी बनने का सर्वप्रथम सीख दी गई है और दूसरे-अपनी और समाज तथा राष्ट्र की रक्षा एवं दूसरों का संम्मान करने का हुक्म दिया गया है, सद्भावनापूर्ण जीवन व्यतीत करने तथा अन्य गरीब लाचार लोगों का सहयोग करने का हुक्म दिया गया है। 


अब ऐसी स्थिति में थोड़ा मंथन करें - इनसभी को यही लगता है, की इस्लाम को मानने वाले केवल मुसलमान ही एक ऐसा समुदाये है जिसके कारण ब्याज, मन्दिर, शराब, फैशन, हत्यार,वैश्याविर्त के धंधे आने वाले समय मे बन्द हो जाएंगे। बड़ी तेजी से आज इंसान इस्लाम अर्थात इंसानियत को अपना रहा है । इसलिये की 70% व्यक्ति शांति सद्भवना सौहार्दपूर्ण वातावरण चाहत चाहता और इसी चाह में लोग धीरे धीरे जो इस्लाम और मुसलमानों को समझने लगे उन्होंने ने ईमान अर्थात मुस्लमानियत व इस्लाम को अपना रहे है और अपनाया । ऐसी स्थिति में  इन कॉर्पोरेटरों को आभास होने लगा कि यदि लोगों ने इस्लाम अर्थात इंसानियत अपना कर मुसलमान बन गए तो बहुत जल्द ही यह ऐसे धंधे बन्द हो जाएंगे। इसके लिये इन्होंने मुसलमानों को कहीं , गुसपैठिया , तो कहीं आतंकवादी, तो कहीं अन्य प्रकार से बदनाम तथा उन्हें रोकने का कामकर रहे हैं।
यह केवल भारत मे नहीं है यह कार्य सम्पूर्ण विश्व मे बड़े उच्च स्तर पर किया जा रहा है। 
यदि स्थानीय अपराध का रेशिओं देखेंगे तो भारत मे अन्य देशों की तुलना में तीन गुना अधिक केवल हिन्दू समुदाये में ही अपराध हो रहा है। लेकिन मुसलमानों के विरुद्ध एक माहौल तैयार कर भारत में इनदिनों हिंदुत्व को बाहरी शक्तिओ एवं सरकार का प्रोत्साहन दे कर इस लिये बढाया जा रहा है कि यह लोग हिन्दू के नाम पर मुसलमानो पर हावी रहें और और इन कॉरपोरेटों का धंधा आसानी से चलता रहे।


Popular posts from this blog

ग्राम कुलिंजन स्थित ईद गाह पर ईद के नमाज़ अदा की गई

  आज ईद उल फ़ितर के मौके पर ग्राम कुलिंजन स्थित ईद गाह पर ईद के नमाज़ अदा की गई,इस मौके पर क़ारी मेहताब खाँन साहब ने ईद के   पवित्र त्यौहार पर प्रकाश डाला व देश के अमन ओ अमान और एक दूसरे के साथ प्यार बाँटने का संदेश देते हुए,सभी को ईद की मुबारकबाद दी, ईद के नमाज़ क़ारी, रहीम साहब, पेश इमाम जामा मस्जिद कुलिंजन ने पढ़वाई व इस के साथ ही ख़सूसी दुआ करवाई, जय हिंद सोशल वेलफ़ेयर सोसायटी के अध्यक्ष मुशाम खाँन ने आये हुए  सभी नमाज़ियों की ईद की मुबारकबाद पेश की इस मौके पर मास्टर मईन उद्दीन खाँन, हाजी अरशद खाँन ,हाजी एहतेशाम,हाजी अतहर व हाजी अज़हर,हाफिज़ असग़र, सभी का इस्तकबाल करा।

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

ज़मीनी विवाद में पत्रकार पर 10 लाख रंगदारी का झूठे मुकदमें के विरुद्ध एस एस पी से लगाई जाचं की गुहार

हम करेंगे समाधान" के लिए बरेली से रफी मंसूरी की रिपोर्ट बरेली :- यह कोई नया मामला नहीं है पत्रकारों पर आरोप लगना एक परपंरा सी बन चुकी है कभी राजनैतिक दबाव या पत्रकारों की आपस की खटास के चलते इस तरह के फर्जी मुकदमों मे पत्रकार दागदार और भेंट चढ़ते रहें हैं।  ताजा मामला   बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान पत्रकार का है जो विभिन्न समाचार पत्रों से जुड़े हैं उन पर रंगदारी मांगने का मुक़दमा दर्ज कर दिया गया है। इस तरह के बिना जाचं करें फर्जी मुकदमों से तो साफ ज़ाहिर हो रहा है कि चौथा स्तंभ कहें जाने वाले पत्रकारों का वजूद बेबुनियाद और सिर्फ नाम का रह गया है यही वजह है भूमाफियाओं से अपनी ज़मीन बचाने के लिए एक पत्रकार व दो अन्य प्लाटों के मालिकों को दबाव में लेने के लिए फर्जी रगंदारी के मुकदमे मे फसांकर ज़मीन हड़पने का मामला बरेली के थाना बारादरी से सामने आया हैं बताते चले कि बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान के मुताबिक उनका एक प्लाट थाना बारादरी क्षेत्र के रोहली टोला मे हैं उन्हीं के प्लाट के बराबर इमरान व नयाब खां उर्फ निम्मा का भी प्लाट हैं इसी प्लाट के बिल्कुल सामन