Skip to main content

पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन को बचाने की जरूरत


शिमला। पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के हरित कौशल विकास कार्यक्रम के तहत पीपुल्स बायोडायवर्सिटी रजिस्टर (पीबीआर) तैयार करने के लिए दो महीने की अवधि का कोर्स एच.पी. एनविस हब, हिमाचल प्रदेश विज्ञान, प्रौद्योगिकी और पर्यावरण परिषद, शिमला में आज संपन्न हुआ। यह कार्यक्रम पर्यावरण और वन क्षेत्र में कौशल विकास के लिए एक पहल है जिससे राज्य के युवाओं को अल्पकालिक पाठ्यक्रमों के माध्यम से लाभकारी रोजगार या स्वरोजगार प्राप्त करने में सक्षम बनाया जा सके।









इस अवसर पर बोलते हुए, मुख्य अतिथि डॉ. एस.एस. सामंत, निदेशक, हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान (एचएफआरआई), शिमला ने कहा कि जैव विविधता संरक्षण पर दुनिया भर में ध्यान देने की आवश्यकता है, विशेष रूप से हिमाचल प्रदेश में जहाँ वनस्पतियों और जीवों की कई प्रजातियां पाई जाती हैं। उन्होंने स्थानीय जैव विविधता की सराहना करने जैसे छोटे कदमों पर जोर दिया। औषधीय पौधों के नाम सीखने और पारंपरिक उपयोग की जानकारी लोगों को संरक्षण प्रयासों के बारे में जागरूक करने में बहुत मदद करेंगे। डॉ. विनीत जिश्टू, वैज्ञानिक-डी, एचएफआरआई और डॉ. अनिल ठाकुर, एसोसिएट प्रोफेसर, डिग्री कॉलेज, ठियोग भी समारोह के दौरान मौजूद थे और पाठ्यक्रम के दौरान छात्रों द्वारा दिखाए गए उत्साह से बहुत प्रभावित थे। उन्होंने छात्रों से कुछ आगामी परियोजनाओं / पहलों में भाग लेने का आग्रह किया। इस कार्यक्रम में 14 छात्रों को प्रशिक्षित किया गया है: चंडीगढ़ से 1, जम्मू और कश्मीर से 1, लद्दाख से 1 और हिमाचल प्रदेश से 11।

दिन में इससे पहले, डॉ. एसपी भारद्वाज, एसोसिएट निदेशक, क्षेत्रीय फल अनुसंधान केंद्र नौणी विश्वविद्यालय की अध्यक्षता में एक विशेषज्ञ समिति ने प्रशिक्षुओं की मौखिक परीक्षा ली।

एनविस समन्वयक, डॉ. अपर्णा शर्मा ने पाठ्यक्रम की उपलब्धियों पर प्रकाश डाला और बताया कि यह उल्लेखनीय है कि इन पाठ्यक्रमों के माध्यम से प्रशिक्षित पांच छात्रों को हिम्कोस्ट और एचएफआरआई में विभिन्न वैज्ञानिक अनुसंधान परियोजनाओं में रखा गया है। पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, नई दिल्ली ने इस उपलब्धि की सराहना की है और इसे जैव विविधता संरक्षण में एक महत्वपूर्ण योगदान करार दिया है। स्थानीय युवाओं के हरित कौशल विकास पर दो और पाठ्यक्रम एचपी एनविस हब में जल्द ही शुरू हो रहे हैं: मूल्य संवर्धन: जंगली मौनपालन एवं प्रसंस्करण और मूल्य संवर्धन: औषधीय पौधे।

कोर्स के दौरान फील्ड और लैब विजिट के लिए छात्रों को एचपी और उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ संस्थानों में ले जाया गया। इनमे से कुछ हैं : एचएफआरआई और पॉटर हिल्स, भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, वाटर कैचमेंट एरिया, कुफरी, वन अनुसंधान संस्थान, उत्तराखंड राज्य जैव विविधता बोर्ड, उत्तराखंड विज्ञान और प्रौद्योगिकी परिषद, वन्यजीव भारतीय संस्थान, बॉटनिकल सर्वे ऑफ इंडिया, जूलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया और राजाजी नेशनल पार्क। इन गतिविधियों को मंत्रालय ने अपने ट्विटर हैंडल पर साझा किया। छात्रों ने जेडएसआई के हाई एल्टीट्यूड रिसर्च स्टेशन, सोलन में एमओईएफ और सीसी द्वारा आयोजित ट्रांस-हिमालय की पशु विविधता पर एक दिन के सेमिनार में भाग लिया और देश के प्रतिष्ठित वैज्ञानिकों के साथ बातचीत की। फील्ड ट्रेनिंग के अंतर्गत पुजारली के पास सरघीण में पीबीआर बनाने का काम एचएफआरआई के विशेषज्ञों की देखरेख में किया गया। समारोह छात्रों और विशेषज्ञों को प्रमाण पत्र और स्मृति चिन्ह के वितरण के साथ संपन्न हुआ।







Popular posts from this blog

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु

सरधना विधानसभा से ए आई एम आई एम के भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने किया बड़ा ऐलान अब मुसलमान अपमानित नहीं होगा क्योंकि आ गई है उनकी पार्टी

खलील शाह/ साबिर सलमानी की रिपोर्ट  ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन की नेशनल पब्लिक स्कूल लश्कर गंज बाजार सरधना में आयोजित बैठक में भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने कहा कि ए आई एम आई एम पार्टी सरधना विधानसभा क्षेत्र में शोषित,वंचित और मुसलमानों को उनके अधिकार दिलाने के लिए आई है। आज भी सरधना विधानसभा क्षेत्र पिछड़ा हुआ है। राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी साहब ने उत्तर प्रदेश के शोषित और वंचित समाज को इंसाफ दिलाने का बीड़ा उठाया है। ए आई एम आई एम पार्टी ने मुसलमानों को दरी बिछाने वाला से टिकट बांटने वाला बनाने का बीड़ा उठाया है। जिस प्रकार आज सपा के मंचों पर मुसलमानों को अपमानित किया जा रहा है उसका बदला ए आई एम आई एम को वोट देकर सत्ता में हिस्सेदारी लेकर लेना होगा। हाजी आस मोहम्मद ने कहा कि उनके भाई हाजी अमीरुद्दीन ने तमाम उम्र समाजवादी पार्टी को आगे बढ़ाने में गुजार दी और जब किसी बीमारी की वजह से उनका इंतकाल हुआ तो समाजवादी पार्टी का कोई नुमाइंदा भी उनके परिवार की खबर गिरी करने नहीं आया । आजादी से लेकर आज तक मुस्लिम समाज सेकुलर दलों को अपना वोट देता आ रहा है लेकिन उसके बदले मे