Skip to main content

शाहीन बाग आंदोलन क्या है परिणाम

"शाहीन बाग" अपने आंदोलन के 48 वें दिन में पहुँच गया है। पर मोदी सरकार देश भर के 200 से अधिक "शाहीन बागों" की आवाज़ सुनने की बजाय उन पर अनर्गल आरोप लगा कर दिल्ली चुनाव में ध्रुविकरण करने का प्रयास कर रही है। और कुछ एजेन्सीज़ के पेड सर्वे बता रहे हैं कि इससे उसके मत प्रतिशत में कुछ बढ़ोत्तरी भी हुई है।


शाहीन बाग वालों सुन लो ?


यह आंदोलन किसी की सरकार बनाने या बिगाड़ने के लिए नहीं है , यह वजूद की लड़ाई है जिसे माँ बहन बेटियों ने यहाँ तक पहुँचाया है , तो इस चक्कर में कि इससे भाजपा को दिल्ली चुनाव में फायदा होगा , परेशान मत होना , क्युँकि अभी टीवी चैनल और बहुत से पेड सर्वे यह भ्रम फैलाने का प्रयास करेंगे कि "शाहीन बाग" के कारण ध्रुविकरण हुआ है और भाजपा फाईट में आ गयी है।


दिल्ली में भाजपा जीते या फाईट में आए ? हू केयर


हम तो शाहीन बाग से मिल रहे परिणामों पर नज़र रखे हैं।


पहला परिणाम यह है कि शाहीन बाग पर दुनिया की नज़र है , मौजूदा वक्त में यह शाहीन बाग "तहरीर स्क्वायर" से बड़ा चेहरा हो गया है , जिसकी आवाज़ "यूरेपियन संसद" तक पहुँच गयी है , वहाँ सीएए के खिलाफ बहस हो रही है , वोटिंग हो रही है। शाहीन बाग की यह सबसे पहली जीत है।


दूसरा परिणाम यह है कि इस देश में मुसलमानों पर 70 साल से हुए ज़ुल्म के खिलाफ "शाहीन बाग" इस देश की अब तक की सबसे बड़ी आवाज़ बन गया है , जिसमें हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई , सबकी आवाज़ शामिल है।


तीसरा परिणाम , इस देश में मुसलमानों के साथ देश के तमाम तमाम हिन्दू , सिख , ईसाई आकर खड़े हो गये हैं और सब मिल कर सीएए के खिलाफ़ लड़ रहे हैं। यह इस देश में पहली बार हुआ है कि मुसलमानों के साथ देश खड़ा हो गया है।


चौथा परिणाम , जो मुस्लिम महिलाएँ , चहरदिवारी में बंद गूँगी , बुर्के और परदे में मर्दों द्वारा बंद , सताई , तीन तलाक से डरी सहमी , और दबाई कह कर पूरे देश और दुनिया में संघी कुनबे द्वारा प्रचारित की गयीं , उन्होंने देश भर के शाहीन बागों के ज़रिए इस झूठी छवि को तोड़ दिया। अब यह बुर्कानशीं चैलेन्ज करती हैं तमाम स्मृति इरानियों और निर्मला सीतारमणों को कि आएँ उनसे बहस करें  , वह पराजित कर देंगी। यह आंदोलन मुस्लिम महिलाओं के शक्तिशाली होने का सबसे बड़ा प्रमाण है।


छठाँ परिणाम , देश का मीडिया अब "शाहीन बाग" को लेकर बँटता दिख रहा है। मीडिया का बहुत बड़ा वर्ग अब दलाल मीडिया के द्वारा शाहीन बाग को लेकर फैलाए भ्रम को तोड़ रहा है। 


अब तक एनडीटीवी और कुछ वेबपोर्टल के ज़रिये ही कवर किया जा रहा शाहीन बाग अब "बीबीसी , आजतक , एबीपी न्यूज़ और इंडिया टुडे" चैनलों के ज़रिये लाईव प्रसारित हो रहा है , सुधीर चौधरी और दीपक चौरसिया की साजिश को अब मीडिया ही इक्सपोज़ कर रही है, यह चैनल अंजना ओम कश्यप और राहुल कँवल के ज़रिए प्रदर्शनकारियों के बीच घुस कर निष्पक्षता से सवाल जवाब कर रहे हैं और प्रदर्शनकारी फर्राटेदार जवाब दे रही हैं , सवाल कर रही हैं जिनके जवाब सरकार के पास नहीं हैं।


सातवाँ परिणाम , मैंने संघ और उनके नालायकों की जितनी "बंच आफ थाट" और "वी ओर आवर नेशनहुड डीफाईन" पढ़ी है उससे जितना इनको समझा है वह यह है कि इस आंदोलन से पैदा हुए देश की जनता के प्रतिरोध का यह संघी नागपुर में बैठकर जोड़ घटाना कर रहे होंगे , और अब अपने किसी अन्य ज़हरीले प्रोजेक्ट पर अमल करने के पहले इस प्रतिरोध को अपने दिमाग में रखेंगे और शायद कुछ समय के लिए इसे टाल भी दें।


आठवाँ परिणाम , शाहीन बागों ने इस देश में नये नये हज़ारों नेतृत्व पैदा कर दिए हैं जिनका उभार आने वाले समय में होगा और यह अपने क्षेत्र में अपनी जनता की आवाज़ बनेंगे।


नौवाँ परिणाम , शाहीन बागों से देश की एक आबादी ने अपने हक के लिए आंदोलन करना सीख लिया है , संगठित होना सीख लिया है , आवाज़ उठाना सीख लिया है , अब ज़रूरत है देश के सभी शाहीन बागों के बीच समन्वय की जिसके लिए एक "चंद्रशेखर आज़ाद रावण" जैसा हिम्मती नेता चाहिए।


दसवाँ परिणाम , शाहीन बाग से ही देश को एक और "चंद्रशेखर रावण" मिलने जा रहा है , थोड़ा इंतज़ार करिए , यह आपको चौंकाने वाला है।


इन 10 परिणामों के अलावा , सरकार भी झुकेगी , उच्चतम न्यायालय भी सुनेगी और देश की न्यायप्रीय जनता भी सुनेगी। माँ बहन बेटियों की 1° तापमान की सर्दी में रात रात भर बैठकर विरोध करना ज़ाया नहीं जाएगा।


हिम्मत मत हारना "शाहीन बाग" वालों , तुम जीत रहे हो , हिन्दुस्तान जीत रही है।


Popular posts from this blog

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु

सरधना विधानसभा से ए आई एम आई एम के भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने किया बड़ा ऐलान अब मुसलमान अपमानित नहीं होगा क्योंकि आ गई है उनकी पार्टी

खलील शाह/ साबिर सलमानी की रिपोर्ट  ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन की नेशनल पब्लिक स्कूल लश्कर गंज बाजार सरधना में आयोजित बैठक में भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने कहा कि ए आई एम आई एम पार्टी सरधना विधानसभा क्षेत्र में शोषित,वंचित और मुसलमानों को उनके अधिकार दिलाने के लिए आई है। आज भी सरधना विधानसभा क्षेत्र पिछड़ा हुआ है। राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी साहब ने उत्तर प्रदेश के शोषित और वंचित समाज को इंसाफ दिलाने का बीड़ा उठाया है। ए आई एम आई एम पार्टी ने मुसलमानों को दरी बिछाने वाला से टिकट बांटने वाला बनाने का बीड़ा उठाया है। जिस प्रकार आज सपा के मंचों पर मुसलमानों को अपमानित किया जा रहा है उसका बदला ए आई एम आई एम को वोट देकर सत्ता में हिस्सेदारी लेकर लेना होगा। हाजी आस मोहम्मद ने कहा कि उनके भाई हाजी अमीरुद्दीन ने तमाम उम्र समाजवादी पार्टी को आगे बढ़ाने में गुजार दी और जब किसी बीमारी की वजह से उनका इंतकाल हुआ तो समाजवादी पार्टी का कोई नुमाइंदा भी उनके परिवार की खबर गिरी करने नहीं आया । आजादी से लेकर आज तक मुस्लिम समाज सेकुलर दलों को अपना वोट देता आ रहा है लेकिन उसके बदले मे