Skip to main content

भारत और नेपाल में तनाव के क्या मायने

भारत ने हाल ही में लिपुलेख पास सड़क का उद्घाटन किया है जोकि भारत से कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जाने वालों का मुख्य रास्ता है। साथ ही इससे भारत की चीन सीमा तक सैन्य सामानों की भी आपूर्ति होती है। भारत-नेपाल सीमा को महाकाली नदी व गंडक नदी तय करती हैं परन्तु नदियों का स्वभाव है कि वह हर मौसम में अपना स्थान बदल लेती हैं जिस वजह से भारत नेपाल के बीच सीमा रेखा में विवाद उत्पन्न हो जाते हैं। इतना ही नहीं भारत नेपाल सांस्कृतिक, धार्मिक, भूगौलिक तौर पर इतने नजदीक हैं कि इनके बीच कभी भी आम लोगों ने सीमा रेखा को लेकर कभी कोई परवाह नहीं की। आज भी दोनों तरफ के लोग आम की तरह इधर से उधर घूमते रहते हैं।

परंतु नेपाल में इन दिनों भारत विरोध के स्वर ऊंचे हो रखे हैं, लोग सड़कों से लेकर नेपाली संसद तक भारत को कटघरे में खड़ा कर सवाल पूछ रहे हैं कि भारत क्यों कालापानी, लिपुलेख पर अपना कब्जा किए बैठा है, जबकि वह क्षेत्र नेपाल का है। नेपाल सरकार व आम लोग उनकी अंग्रेजों के साथ हुई 1816 की सुगौली की संधि का हवाला दे रहे हैं। इतना ही नहीं नेपाली भारत से जाने वाले कैलाश मानसरोवर तीर्थ यात्रियों के यात्रावृतांत का भी हवाला दे रहे हैं जोकि इस क्षेत्र से जब गुजरे तब उनका नेपाली सुरक्षा बलों ने बहुत सहयोग किया। इसके साथ ही नेपाली उन गांवों के राजस्व वसूली की पुरानी रसीदें व लोगों के पहचान पत्रों का भी हवाला दे रहे हैं। भारत का दावा 1875 का नक्शा है जिसमें लिपुलेख व कालापानी भारत के क्षेत्र दर्शाए गए हैं। भारत के दावों में नेपाल-भारत सीमा के 1800 किलोमीटर में कई स्थान हैं यहां अभी दोनों देशों को सीमा का सही-सही आकलन करना है। इससे पहले भी नेपाल के संविधान परिवर्तन व संसदीय क्षेत्र के निर्धारण वक्त नेपाल के आंतरिक हालातों ने भारत विरोध का माहौल बनाया था। नेपाल में तराई का क्षेत्र मधेशियों का है व पर्वतीय क्षेत्र में मंगोल नस्ल के लोग हैं। पर्वत के लोग चीन से नजदीकी रखते हैं। मघेशी भारत से नजदीकी रखते हैं। इनके आपसी विवाद बहुत बार भारत विरोधी सुर बन जाते हैं।

वर्तमान विवाद भी भारत विरोधी किसी संगठन का काम है जो नहीं चाहता है कि नेपाल व भारत में आपसी निकटता बनी रहे। सैकड़ों-हजारों सालों से भारत ही नेपाल को रोजमर्रा के सामान की आपूर्ति करता आ रहा है, लाखों नेपाली भी भारत में भारतीयों की तरह रहते आए हैं। लेकिन भारत विरोधी गठजोड़ नेपाल गठजोड़ भारत-नेपाल संबंधों में आए दिन कोई न कोई नया विवाद जोड़ता आ रहा है। देर सवेर उन ताकतों के चेहरे पर से पर्दा जरूर हटेगा जो भारत-नेपाल रिश्तों को सामान्य व मित्रवत नहीं रहने देना चाहते। भारत को अपने सदियों से साथ रह रहे निकट पड़ोसी की शंकाओं को दूर करना चाहिए। हर समस्या का हल आपसी मिल बैठने से संभव है। भारत को नेपाल के ताजा गुस्से व मतभेदों को जल्द से जल्द शांत करना चाहिए क्योंकि नेपाल के उस पार बैठा चीन भी इसमें अपने बहुत से फायदे देख रहा है।

Popular posts from this blog

ग्राम कुलिंजन स्थित ईद गाह पर ईद के नमाज़ अदा की गई

  आज ईद उल फ़ितर के मौके पर ग्राम कुलिंजन स्थित ईद गाह पर ईद के नमाज़ अदा की गई,इस मौके पर क़ारी मेहताब खाँन साहब ने ईद के   पवित्र त्यौहार पर प्रकाश डाला व देश के अमन ओ अमान और एक दूसरे के साथ प्यार बाँटने का संदेश देते हुए,सभी को ईद की मुबारकबाद दी, ईद के नमाज़ क़ारी, रहीम साहब, पेश इमाम जामा मस्जिद कुलिंजन ने पढ़वाई व इस के साथ ही ख़सूसी दुआ करवाई, जय हिंद सोशल वेलफ़ेयर सोसायटी के अध्यक्ष मुशाम खाँन ने आये हुए  सभी नमाज़ियों की ईद की मुबारकबाद पेश की इस मौके पर मास्टर मईन उद्दीन खाँन, हाजी अरशद खाँन ,हाजी एहतेशाम,हाजी अतहर व हाजी अज़हर,हाफिज़ असग़र, सभी का इस्तकबाल करा।

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

ज़मीनी विवाद में पत्रकार पर 10 लाख रंगदारी का झूठे मुकदमें के विरुद्ध एस एस पी से लगाई जाचं की गुहार

हम करेंगे समाधान" के लिए बरेली से रफी मंसूरी की रिपोर्ट बरेली :- यह कोई नया मामला नहीं है पत्रकारों पर आरोप लगना एक परपंरा सी बन चुकी है कभी राजनैतिक दबाव या पत्रकारों की आपस की खटास के चलते इस तरह के फर्जी मुकदमों मे पत्रकार दागदार और भेंट चढ़ते रहें हैं।  ताजा मामला   बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान पत्रकार का है जो विभिन्न समाचार पत्रों से जुड़े हैं उन पर रंगदारी मांगने का मुक़दमा दर्ज कर दिया गया है। इस तरह के बिना जाचं करें फर्जी मुकदमों से तो साफ ज़ाहिर हो रहा है कि चौथा स्तंभ कहें जाने वाले पत्रकारों का वजूद बेबुनियाद और सिर्फ नाम का रह गया है यही वजह है भूमाफियाओं से अपनी ज़मीन बचाने के लिए एक पत्रकार व दो अन्य प्लाटों के मालिकों को दबाव में लेने के लिए फर्जी रगंदारी के मुकदमे मे फसांकर ज़मीन हड़पने का मामला बरेली के थाना बारादरी से सामने आया हैं बताते चले कि बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान के मुताबिक उनका एक प्लाट थाना बारादरी क्षेत्र के रोहली टोला मे हैं उन्हीं के प्लाट के बराबर इमरान व नयाब खां उर्फ निम्मा का भी प्लाट हैं इसी प्लाट के बिल्कुल सामन