Skip to main content

एआईटीयूसी ने गृह मंत्रालय के ताजा आदेश को वापस लेने की मांग की

AITUC गृह मंत्रालय के ताजा आदेश को वापस लेने की मांग करता है


 इसे भेदभावपूर्ण, मजदूर विरोधी और मानव विरोधी करार दिया


 AITUC ने गृह मंत्रालय के नवीनतम आदेश को 3 मई को निरस्त करते हुए कहा कि सरकार केवल उन फंसे श्रमिकों को आंदोलन की सुविधा देगी जो तालाबंदी से ठीक पहले काम करने के लिए या कार्यस्थल से गृहनगर गए थे, लेकिन अपने मूल स्थानों पर नहीं लौट पाए /  लॉक डाउन उपायों के हिस्से के रूप में व्यक्तियों और वाहनों की आवाजाही पर लगाए गए प्रतिबंधों के कारण काम करते हैं।


 यह एमएचए आदेश एक बार फिर दर्शाता है कि सरकार जमीनी हकीकत से पूरी तरह से बाहर है, एक भ्रमित बहुत, किसी भी आदेश को शूट करने से पहले अपना होमवर्क नहीं करता है, लेकिन श्रमिकों के परिवारों के प्रति असंवेदनशील, अमानवीय दृष्टिकोण के साथ एम्बेडेड है, जो बहुसंख्यक आबादी का प्रतिनिधित्व करते हैं।  देश।  श्रमिक अक्सर किसी विशेष स्थान पर कई महीनों के काम के बाद परिवारों के आने की योजना नहीं बनाते हैं।  वे मौसमी काम के लिए भी आते हैं और यह भी कि जब वे बुवाई और कटाई के समय के बीच गांवों में कोई काम नहीं करते हैं। वे शहरों और शहरों में न केवल कारखानों में काम करने के लिए आते हैं, बल्कि रिक्शा खींचने के लिए दुकानों में भी काम करते हैं।  ई-रिक्शा / ऑटो रिक्शा / टैक्स ड्राइविंग, हॉकिंग, वेंडिंग, निर्माण परियोजनाओं पर काम, सुरक्षा सेवाएँ, घरेलू काम, लोडिंग-अनलोडिंग या रोज़मर्रा के आकस्मिक कामों सहित किसी भी अन्य विषम नौकरी के लिए जो अपने जीवन यापन के लिए खुद को और अपने परिवार को पालने के लिए आते हैं।  पीछे।  यहां तक ​​कि वे कार्यकर्ता जो अपने पति या पत्नी के साथ आते हैं, गांवों में आधे परिवार को पीछे छोड़ देते हैं।  आघात के इस समय में जब उनके लिए सभी काम बंद थे और वे अपने परिवार के साथ मूल स्थानों में रहना चाहते हैं, सरकार उनके परिवार के सदस्यों के साथ उनके अधिकार के लिए उन्हें कैसे रोक सकती है।  सरकार का यह कदम श्रमिकों को नियोक्ताओं की मांगों के समर्थन में वापस रहने के लिए मजबूर करने के कुछ छलावरण को दर्शाता है।  यह उन्हें स्थितियों की तरह बंधन में रखने का एक तरीका है।


 इसके अलावा किसी को भी आवश्यक यात्रा में कोई दिलचस्पी नहीं होगी क्योंकि कोविद -19 वायरस से संक्रमित होने की आशंका है।


 AITUC इस आदेश को तत्काल वापस लेने की माँग करता है।  एआईटीयूसी यह भी मांग करता है कि ट्रेनों और बसों के लिए यात्रा शुल्क श्रमिकों से नहीं मांगे जाने चाहिए क्योंकि वे पहले ही अपनी नकदी को हाथ में ले चुके हैं।  कई राज्यों में बस ट्रांसपोर्ट ऑपरेटरों को भारी भुगतान करने के लिए उन्होंने ऋण कैसे लिया, इसकी भी रिपोर्टें हैं।  इस गहरी संकट की स्थिति में सरकार को कम से कम परिवारों के साथ होने की उत्सुकता में उनकी मदद करने के लिए बहुत कुछ करना चाहिए।


 


 अमरजीत कौर


 AITUC के महासचिव


 मोबाइल: 9810144958


Popular posts from this blog

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

थाना अमरिया पुलिस द्वारा 04 अभियुक्तों को 68 किलोग्राम डोडा पोस्ता व डोडा चूरा सहित किया गिरफ्तार

 पीलीभीत के थाना अमरिया में आज दिनांक 05.09.2022 को थाना अमरिया जनपद पीलीभीत पुलिस द्वारा पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार प्रभु जनपद पीलीभीत के निर्देशन में व  अपर पुलिस अधीक्षक महोदय जनपद पीलीभीत व क्षेत्राधिकारी सदर महोदय जनपद पीलीभीत के कुशल नेतृत्व में अपराधियों के विरुद्ध जनपद में मादक पदार्थ व जहरीली शराब की तस्करी व रोकथाम हेतु चलाये जा रहे अभियान के तहत  थाना अमरिया पुलिस द्वारा 02 अभियुक्तगणों 1.महेश कुमार गुप्ता पुत्र ओमप्रकाश निवासी कस्बा व थाना अमरिया जनपद पीलीभीत व  2.रवि गुप्ता पुत्र महेश गुप्ता निवासी कस्बा व थाना अमरिया जनपद पीलीभीत को उनके घर के पास से गिरफ्तार किया गया तथा इनके कब्जे से मादक पदार्थ 31 किलोग्राम ( डोडा पोस्ता व डोडा चूरा ) बरामद हुआ गिरफ्तार किए गये अभियुक्तगणों से गहनता से पूछताछ के दौरान उन्होनों बरामद मादक पदार्थों को  अभियुक्त प्रमोद गुप्ता पुत्र मटरु लाल निवासी ग्राम देवचरा थाना भमौरा जनपद बरेली व अभियुक्त विनोद कुमार गुप्ता पुत्र मटरु लाल निवासी ग्राम देवचरा थाना भमौरा जनपद बरेली से खरीद कर लाना बताया इस पूछताछ के दौरान प्रकाश में आये अभियुक्त प्रमोद