Skip to main content

फिलिस्तीन और उत्तरी साइप्रस तुर्की गणराज्य पर एर्दो ایرan का बयान

 सबा: फिलिस्तीन और उत्तरी साइप्रस तुर्की गणराज्य पर एर्दो ایرan का बयान

राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोआन ने सबा को दिए एक बयान में कहा कि जो लोग इसराइल के आतंकवादी राज्य के कारण हुए रक्तपात पर चुप रहे हैं, उन्हें पता होना चाहिए कि ऐसा करने से वे इसके शिकार हो सकते हैं। वह अंत तक तुर्की गणराज्य उत्तरी साइप्रस के अधिकारों की रक्षा करना जारी रखेंगे। लेकिन मैं आपको यह भी बता दूं कि हमें किसी पर नहीं बल्कि खुद पर भरोसा है।

 

*** वतन: "संयुक्त राष्ट्र को तुरंत अपने एजेंडे में इजरायली अपराधों को शामिल करना चाहिए"

तुर्की की नेशनल असेंबली के अध्यक्ष मुस्तफा शेन टॉप ने कहा है कि इजरायल और फिलिस्तीन के साथ संघर्ष को खत्म करने के लिए संयुक्त राष्ट्र की मांग पर्याप्त नहीं है। उन्होंने कहा, "संयुक्त राष्ट्र को तुरंत इस्राइल के नरसंहार, राजकीय आतंकवाद और मानवता के खिलाफ अपराधों को अपने एजेंडे में रखना चाहिए।"

 

*** खबर तुर्क कहते हैं: "इजरायल के हमलों के बावजूद चुप रहना अस्वीकार्य है"

संयुक्त राष्ट्र में तुर्की के स्थायी प्रतिनिधि फेरिदुन सेनेरली ओलू ने कहा है कि इजरायल के हमलों पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की चुप्पी अस्वीकार्य है। उन्होंने फिलिस्तीनियों के लिए एक अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा तंत्र का प्रस्ताव रखा है।

 

*** एनी शफाक: "फिलिस्तीन के लिए लीबिया मॉडल"

तुर्की के इस्तीफा देने वाले रियर एडमिरल जेहत याई ने अपने प्रस्ताव में फिलिस्तीन के साथ-साथ लीबिया के साथ एक समुद्री परमिट समझौते पर हस्ताक्षर करने का प्रस्ताव दिया है कि तुर्की समुद्र के द्वारा फिलिस्तीन का पड़ोसी हो सकता है। ऐसा लगता है जैसे तुर्की ने तुर्की गणराज्य के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए उत्तरी साइप्रस के इस तथ्य के बावजूद कि उत्तरी साइप्रस का तुर्की गणराज्य संयुक्त राष्ट्र का सदस्य नहीं है, इस समझौते को लागू किया जा रहा है। फिलिस्तीन के साथ भी यही कहा जा सकता है। "

 

*** डेली स्टार: "इजरायल को अमेरिकी सहायता अमानवीय है"

जैसा कि गाजा में फिलिस्तीनियों पर इजरायल के हमले जारी हैं, अमेरिकी सीनेटर बर्नी सैंडर्स, एक डेमोक्रेट, ने अमेरिकी प्रशासन पर प्रतिक्रिया व्यक्त की, जो इजरायल को सैन्य सहायता में الر 4 बिलियन प्रति वर्ष प्रदान करता है। सैंडर्स ने कहा, "मानवाधिकारों के हनन का समर्थन करने के लिए अमेरिकी सहायता का उपयोग अवैध है।" हमें तत्काल युद्धविराम की मांग करनी चाहिए

Popular posts from this blog

ग्राम कुलिंजन स्थित ईद गाह पर ईद के नमाज़ अदा की गई

  आज ईद उल फ़ितर के मौके पर ग्राम कुलिंजन स्थित ईद गाह पर ईद के नमाज़ अदा की गई,इस मौके पर क़ारी मेहताब खाँन साहब ने ईद के   पवित्र त्यौहार पर प्रकाश डाला व देश के अमन ओ अमान और एक दूसरे के साथ प्यार बाँटने का संदेश देते हुए,सभी को ईद की मुबारकबाद दी, ईद के नमाज़ क़ारी, रहीम साहब, पेश इमाम जामा मस्जिद कुलिंजन ने पढ़वाई व इस के साथ ही ख़सूसी दुआ करवाई, जय हिंद सोशल वेलफ़ेयर सोसायटी के अध्यक्ष मुशाम खाँन ने आये हुए  सभी नमाज़ियों की ईद की मुबारकबाद पेश की इस मौके पर मास्टर मईन उद्दीन खाँन, हाजी अरशद खाँन ,हाजी एहतेशाम,हाजी अतहर व हाजी अज़हर,हाफिज़ असग़र, सभी का इस्तकबाल करा।

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

ज़मीनी विवाद में पत्रकार पर 10 लाख रंगदारी का झूठे मुकदमें के विरुद्ध एस एस पी से लगाई जाचं की गुहार

हम करेंगे समाधान" के लिए बरेली से रफी मंसूरी की रिपोर्ट बरेली :- यह कोई नया मामला नहीं है पत्रकारों पर आरोप लगना एक परपंरा सी बन चुकी है कभी राजनैतिक दबाव या पत्रकारों की आपस की खटास के चलते इस तरह के फर्जी मुकदमों मे पत्रकार दागदार और भेंट चढ़ते रहें हैं।  ताजा मामला   बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान पत्रकार का है जो विभिन्न समाचार पत्रों से जुड़े हैं उन पर रंगदारी मांगने का मुक़दमा दर्ज कर दिया गया है। इस तरह के बिना जाचं करें फर्जी मुकदमों से तो साफ ज़ाहिर हो रहा है कि चौथा स्तंभ कहें जाने वाले पत्रकारों का वजूद बेबुनियाद और सिर्फ नाम का रह गया है यही वजह है भूमाफियाओं से अपनी ज़मीन बचाने के लिए एक पत्रकार व दो अन्य प्लाटों के मालिकों को दबाव में लेने के लिए फर्जी रगंदारी के मुकदमे मे फसांकर ज़मीन हड़पने का मामला बरेली के थाना बारादरी से सामने आया हैं बताते चले कि बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान के मुताबिक उनका एक प्लाट थाना बारादरी क्षेत्र के रोहली टोला मे हैं उन्हीं के प्लाट के बराबर इमरान व नयाब खां उर्फ निम्मा का भी प्लाट हैं इसी प्लाट के बिल्कुल सामन