Skip to main content

अमीर-ग़रीब में भेदभाव रहेगा तो कैसे कोविड महामारी का अंत होगा?

 113 साल पहले 1918 में वैश्विक महामारी से जितने लोग अमरीका में मृत हुए थे उससे ज़्यादा वहाँ पर अब कोविड से मृत हो चुके हैं। अमरीका जैसे साधन सम्पन्न राष्ट्र का यह हाल है तो अन्य विकासशील देशों में स्वास्थ्य सुरक्षा की कल्पना कीजिए कि महामारी ने कितनी वीभत्स मानवीय त्रासदी उत्पन्न की है। यह बात सच है कि कोरोना वाइरस के कारण जान गयी हैं परंतु यह भी कटु सत्य है कि कमजोर स्वास्थ्य प्रणालीग़ैर बराबरी वाली व्यवस्था के कारण भी अनेक जाने गयी हैं। कहीं लोग अस्पताल में भर्ती न होने के कारण मृत हुए तो कहीं ऑक्सिजन न मिल पाने के कारण। हर इंसान के लिए सशक्त जन स्वास्थ्य सेवा और सामाजिक सुरक्षा कितनी ज़रूरी है यह हमने सीखने में सदियाँ लगा दी हैं।विशेषज्ञों के अनुसारजब तक दुनिया की आबादी के एक बड़े भाग (70% से अधिक) को नौ-दस महीनों की समय सीमा में पूरा टीकाकरण नहीं मिल जातातब तक टीकाकरण के ज़रिए कोविड महामारी पर विराम कैसे लगेगासिर्फ़ अमीर देशों में या अमीर लोगों को ही पूरा टीका मिलेगा और अन्य लोग वंचित रहेंगे तो महामारी पर अंकुश कैसे लगेगायह गम्भीर सवाल न केवल अमीर देशों के लिए है बल्कि ग़रीब और विकासशील देशों में अमीर वर्ग के लिए भी है। चीन के वुहान से जो वाइरस दिसम्बर 2019 में रिपोर्ट हुआ थावह दुनिया के सभी देशों में फैल गया है - अमीर हो या ग़रीब। यह समझना सबसे ज़रूरी है कि एक व्यक्ति की स्वास्थ्य सुरक्षा अन्य लोगों की स्वास्थ्य सुरक्षा पर भी निर्भर है। और यह भी समझना ज़रूरी है कि व्यक्तिगत स्वास्थ्य सुरक्षा कदापि पर्याप्त नहीं है क्योंकि वह शासन-प्रशासन और हरी-भरी पृथ्वी पर भी निर्भर है (उदाहरण के तौर परवायु प्रदूषण से होने वाले फेफड़े के कैन्सर और अन्य जानलेवा रोग से स्वास्थ्य बीमा या स्वास्थ्य सेवा नहीं बचा पाएगी)।

 ठोस प्रमाण: टीकाकरण से कोविड होने पर उसके गम्भीर परिणाम होने का ख़तरा बहुत कम

 टीकाकरण का व्यक्तिगत लाभ भी मिलता है क्योंकि जिसको पूरा टीका लगा है उसको कोविड होने पर कोविड के गम्भीर परिणाम होने का ख़तरा अत्यंत कम है और कोविड से मृत होने की सम्भावना भी बहुत कम है।दुनियाभर में हुए अनेक वैज्ञानिक शोध इस बात को प्रमाणित करते हैं कि कोविड टीके से कोविड होने के गम्भीर परिणाम होने का ख़तरा बहुत कम होता है और मृत्यु का ख़तरा भी अत्यंत कम (उन लोगों की तुलना में जिन्हें कोविड टीका नहीं लगा है)। दुनिया में अनेक देशों में आबादी का एक बड़ा भाग पूरा टीकाकरण करवा चुका है जैसे कि अमरीकाकनाडाऑस्ट्रेल्याफ़्रान्सयूरोप के अन्य अमीर देशउरुगायसिंगापुर आदि। इनमें से अनेक देशों में 80% से अधिक आबादी को पूरा टीका लगा है और अनेक जगह 50% से अधिक आबादी पूरा टीकाकरण करवा चुकी है।

 जिन देशों में अत्याधिक आबादी पूरा टीकाकरण करवा चुकी हैवहाँ पर इसीलिए जिस अनुपात में नए कोविड पॉज़िटिव केस हैं उस अनुपात में लोगों को अस्पताल को ज़रूरत नहीं पड़तीऑक्सिजन की ज़रूरत नहीं पड़तीऔर मृत्यु दर भी कम है। जिन देशों में टीकाकरण कम है वहाँ जिस अनुपात में नए कोविड केस हैं उसी अनुपात में अस्पताल की ज़रूरत बढ़ती हैऑक्सिजन की ज़रूरत बढ़ती हैमृत्यु दर बढ़ती है। साफ़ ज़ाहिर है कि कोविड टीकाकरण करवाने के कारण कोविड होने पर गम्भीर परिणाम होने का ख़तरा बहुत कम होता है।

 क्या टीकाकरण से संक्रमण होने से बचाव होता है?

 पूरा कोविड टीकाकरण कराने से व्यक्ति कोविड से संक्रमित होने से बचेगा या नहीं इस पर ठोस प्रमाण अभी आना बाक़ी है। अमरीका में दिसंबर 2020 से अप्रैल 2021 तक हुए प्रारम्भिक शोध के आँकड़े बताते हैं कि जिन लोगों ने पूरा टीकाकरण करवाया था उनको संक्रमण होने का ख़तरा 80% कम था हालाँकि अमरीकी सीडीसी के अनुसारअभी अधिक शोध की ज़रूरत है कि यह बात वैज्ञानिक रूप से सिद्ध हो और ठोस रूप से कही जा सके.

 

हाल ही में जारी दिशानिर्देश मेंअमरीका के सीडीसी ने कहा कि कोविड टीके की पूरी खुराक लगवाने पर कोविड होने का ख़तरा 5 गुणा कम होता है और यदि कोविड हो जाए तो गम्भीर परिणाम होने का ख़तरा 10 गुणा कम और कोविड से मृत्यु होने का ख़तरा 10 से अधिक गुणा कम होता है।

 पर यह बात स्पष्ट है कि टीकाकरण करवाने से कोविड होने का ख़तरा अत्यंत कम होता है पर शून्य नहीं होता है - इसीलिए मास्क ठीक से पहनेभौतिक दूरी बनाये रखेंऔर संक्रमण नियंत्रण पर ध्यान दें।

 

मुंबई में आँकड़े देखें तो जिन लोगों को पूरा टीका लगा था उनमें सिर्फ़ 0.35% को कोविड हुआ। मुंबई में 25 लाख लोगों को पूरा टीका लगा था जिनमें से 9001 कोविड पॉज़िटिव हुए।

 उत्तर प्रदेश में कुल आबादी के मात्र 8% को अब तक लगा है पूरा टीका

 16 जनवरी 2021 से सितम्बर तकउत्तर प्रदेश में कुल आबादी के मात्र 8% का पूरा टीकाकरण हुआ है जो राष्ट्रीय औसत पूरा टीकाकरण दर से आधा है! केरल जैसे राज्यों में राष्ट्रीय औसत से दुगना टीकाकरण हो रहा है। हालाँकि इसी समय अवधि में अमीर देशों में आबादी का 80% से अधिक का टीकाकरण हो चुका है। जुलाई 2021 में भारत में आबादी के 8.8% लोगों का पूरा टीकाकरण हो चुका था पर उत्तर प्रदेश में 4.3% ही हुआ था। सशक्त जन स्वास्थ्य प्रणाली कितनी ज़रूरी है सतत विकास के लिए यह कोविड ने पुन: स्पष्ट कर दिया है।

 कोविड महामारी पर अंकुश लगाने के लिए यह ज़रूरी है कि एक समयबद्ध तरीक़े से बिना भेदभाव के सभी का टीकाकरण हो। अमीर हो या गरीबअमीर देश में हो या गरीब देश मेंदुनिया में सभी के टीकाकरण की ज़रूरत है जिससे कि महामारी पर सफलतापूर्वक अंकुश लग सके।

 अनेक देशों में टीकाकरण दर अत्यंत कम पर अमीर देश तीसरे बूस्टर डोज़ लगवाने पर आतुर!

 यदि अमीर लोग या अमीर देश टीके की होड़ करेंगे और खुद तीसरी बूस्टर डोज़ लगवाएँगे तो नि:संदेह महामारी के ख़िलाफ़ जंग अभी काफ़ी जटिल होने को है! दुनिया में कुल आबादी है 7 अरब और 5.5 अरब वैक्सीन डोज़ लग चुकी हैं पर इनमें से 80% अमीर देशों में लगी हैं न कि विकासशील या ग़रीब देशों में। यह बात भी हम ध्यान दें कि अनेक विकासशील देश जैसे कि भारत में यह अधिकांश वैक्सीन बनी हैं। दुनिया के अमीर देश तीसरी बूस्टर डोज़ लगवाने को आतुर हैं परंतु उनके अकेले के टीकाकरण से महामारी का अंत कैसे होगाइसीलिए विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक डॉक्टर टेडरॉस ने कहा है कि 2021 के अंत तककोई देश तीसरा बूस्टर डोज़ न लगवाए।

 विश्व स्वास्थ्य संगठन ने दुनिया के सभी देशों से अपील की है कि सितम्बर 2021 के अंत तकसभी देश अपनी आबादी के 10% का कम-से-कम पूरा टीकाकरण करेंदिसम्बर 2021 तक 40% और जून 2022 तक 70% आबादी का हर देश कम-से-कम टीकाकरण करे।

 अमीर देशों ने वादा किया था कि 1 अरब डोज़ वह ग़रीब देशों को दान देंगे पर इस वादे का सिर्फ़ 15% अभी तक दान दिया गया है। हाल ही में प्रकाशित समाचार के अनुसारभारत में भी तीसरे डोज़ की बात हो रही है जो सर्वदा अनुचित है क्योंकि पूरी आबादी में सभी पात्रों को टीका तो पहले मिले तब ही हम लोग तीसरी बूस्टर डोज़ का सोचें।

 कोविड महामारी का प्रकोप अनेक गुना तीव्र करने में हमारे समाज में व्याप्त ग़ैर बराबरी की बड़ी भूमिका है। इसीलिए कोविड के दौरान जीवनरक्षक दवाओं या ऑक्सिजन की कालाबाज़ारीजमाख़ोरीआदिपीपीई किट या मास्क भी इस मुनाफ़े के खेले से अछूते नहीं रहे। हद तब हो गयी जब मृत्यु उपरांत परिवारजन को शव ले जाने वाले वाहनऐम्ब्युलन्स आदि या क्रिया क्रम में भी लूटने की खबरें आयीं।

 जब तक समाज के सबसे वंचित वर्ग जो हाशिये पर हैं वह सुरक्षित नहीं रहेंगे और बिना किसी शोषण या भेदभाव के मानवीय ढंग से जीवनयापन नहीं कर सकेंगेतब तक कोविड जैसी महामारी मानवीय त्रासदी बन हम पर क़हर ढाहती रहेंगी।

 

बॉबी रमाकांत - सीएनएस (सिटिज़न न्यूज़ सर्विस)

(विश्व स्वास्थ्य संगठन महानिदेशक द्वारा पुरस्कृत बॉबी रमाकांतस्वास्थ्य अधिकार मुद्दों पर लिखते रहे हैं और सीएनएस (सिटिज़न न्यूज़ सर्विस)आशा परिवार और सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया) से जुड़े हैं। ट्विटर @bobbyramakant)

Popular posts from this blog

भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा-गादरे

मेरठ:-भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा। Raju Gadre राजुद्दीन गादरे सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता ने भारतीयों में पनप रही द्वेषपूर्ण व्यवहार आपसी सौहार्द पर अफसोस जाहिर किया और अपने वक्तव्य में कहा कि देश की जनता को गुमराह कर देश की जीडीपी खत्म कर दी गई रोजगार खत्म कर दिये  महंगाई बढ़ा दी शिक्षा से दूर कर पाखंडवाद अंधविश्वास बढ़ाया जा रहा है। षड्यंत्रकारियो की क्रोनोलोजी को समझें कि हिंदुत्व शब्द का सम्बन्ध हिन्दू धर्म या हिन्दुओं से नहीं है। लेकिन षड्यंत्रकारी बदमाशी करते हैं। जैसे ही आप हिंदुत्व की राजनीति की पोल खोलना शुरू करते हैं यह लोग हल्ला मचाने लगते हैं कि तुम्हें सारी बुराइयां हिन्दुओं में दिखाई देती हैं? तुममें दम है तो मुसलमानों के खिलाफ़ लिख कर दिखाओ ! जबकि यह शोर बिलकुल फर्ज़ी है। जो हिंदुत्व की राजनीति को समझ रहा है, दूसरों को उसके बारे में समझा रहा है, वह हिन्दुओं का विरोध बिलकुल नहीं कर रहा है ना ही वह यह कह रहा है कि हिन्दू खराब होते है और मुसलमान ईसाई सिक्ख बौद्ध अच्छे होते हैं! हिंदुत्व एक राजनैतिक शब्द है ! हिं

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन

 महेश्वरी देवी की रिपोर्ट  खबर बहेड़ी से  है, आज दिनांक 31 मार्च 2024 को समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन मधुर मिलन बारात घर बहेड़ी में संपन्न हुआ। जिसमें मुख्य अतिथि लोकसभा पीलीभीत प्रत्याशी  भगवत सरन गंगवार   रहे तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश महासचिव स्टार प्रचारक विधायक (पूर्व मंत्री )  अताउर रहमान  ने की , कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए  अता उर रहमान  ने कहा की प्रदेश में महंगाई बेरोजगारी चरम पर है और किसान बेतहाशा परेशान है उनके गन्ने का भुगतान समय पर न होने के कारण आत्महत्या करने को मजबूर हैं। उन्होंने मुस्लिम भाइयों को संबोधित करते हुए कहा की सभी लोग एकजुट होकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार को हटाकर एक सुशासन वाली सरकार (इंडिया गठबंधन की सरकार) बनाने का काम करें और भगवत सरन गंगवार को बहेड़ी विधानसभा से भारी मतों से जिताकर माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी के हाथों को मजबूत करें | रहमान जी ने अपने सभी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारी से कहा कि वह ज्यादा से ज्यादा इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी को वोट डलवाने का काम करें और यहां से भगवत सरन गंगवार को भ