Skip to main content

पेपर लीक एक साजिश ?

बचपन में मैंने एक कहावत सुनी थी कि जो चमकेगा, वह हर जगह चमकेगा। दुर्भाग्य से यह कहावत मौजूदा शिक्षा व्यवस्था से तालमेल नहीं बिठा पा रही है। व्यवस्था की खामियों और सरकारी ढील के चलते सीबीएसई बोर्ड की दसवीं और बारहवीं परीक्षाओं के लीक प्रश्न पत्रों ने अनेक ऐसे छात्रों को चमकने का अवसर दे दिया था, जिन्होंने परीक्षा के लिए उचित मेहनत नहीं की थी। हालांकि सीबीएसई ने समय रहते अपनी गलती मान ली है और उसके दोबारा परीक्षा कराने के फैसले ने लाखों छात्रों के साथ अन्याय होने की आशंका काफी हद तक खत्म कर दी है।बोर्ड का दोबारा परीक्षा कराने का निर्णय बिल्कुल सही है, क्योंकि हमारे पास फौरी तौर पर इससे बेहतर विकल्प नहीं है। मैं समझता हूं कि लोग बोर्ड के इस फैसले के खिलाफ अतार्किक प्रदर्शन कर रहे हैं। यह सही है कि किसी भी छात्र के लिए दोबारा परीक्षा देना अप्रिय विषय हो सकता है, लेकिन उन्हें देश हित के पहलू को भी ध्यान रखना चाहिए। उनकी छोटी-सी कसरत देश की शिक्षा व्यवस्था की सेहत सुधारने की दिशा में एक बड़ा कदम हो सकती है। यह समझने की बात है कि ये प्रदर्शन जितनी मुखरता के साथ दिल्ली में हो रहे हैं, देश के दक्षिणी हिस्से में ऐसा नहीं है। मतलब अधिकतर देशवासी कुछ उच्चवर्गीय अभिभावकों के मुकाबले अपनी अलग राय रखते हैं।ऐसी अप्रिय स्थिति दोबारा न आए, इसके लिए सरकार को देश की शिक्षा व्यवस्था में कुछ जरूरी बदलाव करने होंगे। वैसे तो संविधान के मुताबिक, शिक्षा व्यवस्था राज्य सरकार के अधीन होती है, लेकिन साठ के दशक में जब सीबीएसई का गठन किया गया, तो उम्मीद यही की गई कि देश में एक समान पाठ्यक्रम के जरिये एक ही स्तर की पढ़ाई की व्यवस्था की जाए। दिक्कतें यहीं से शुरू हुईं। किसी संघीय ढांचे वाले राष्ट्र में शिक्षा व्यवस्था जितना संभव हो, विकेंद्रित और सामूहिक जिम्मेदारी वाली बनाई जाए। सीबीएसई को खत्म न भी किया जाए, तो कम से कम इसकी परीक्षाओं को विभिन्न राज्यों में अलग-अलग प्रश्नपत्रों के सेटों में बांट दिया जाए। स्थानीय प्रशासन की भागीदारी का बड़ा फायदा यह होगा कि इससे बोर्ड पर मौजूदा अधिभार कम किया जा सकेगा।

 
लेकिन इस मर्ज का इलाज यहीं खत्म नहीं होता। पिछले वर्षों में देश की शिक्षा व्यवस्था जिस तेजी से निजी हाथों में आई है, वह बहुत घातक है। अपवाद स्वरूप अमेरिका को छोड़ दिया जाए, तो पूर्वी एशिया या यूरोप में कहीं भी शिक्षा इस तरह से सरकारी जिम्मेदारी से मुक्त नहीं है। स्वास्थ्य और शिक्षा किसी भी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता होनी चाहिए। मौजूदा पेपर लीक प्रकरण का एकमात्र सकारात्मक पहलू यह है कि सरकार और बोर्ड सचेत हो गए हैं। सरकार को अविलंब एक कमिटी का गठन करना चाहिए, जिसमें सिविल सोसाइटी के सदस्यों समेत सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि और अकादमिक व्यक्तियों को जगह मिले। शिक्षा व्यवस्था सुदृढ़ करने के लिए इनके सुझावों पर तत्काल अमल भी हो।

निस्संदेह बिना किसी भीतरी संपर्क के इस तरह से पेपर लीक नहीं किए जा सकते। दोषियों की जल्द से जल्द पहचान कर उन्हें कड़ी सजा मिले, जिससे देश के सबसे प्रतिष्ठित शिक्षा बोर्ड पर लोगों का भरोसा फिर से बहाल किया जा सके। एक संतुलित समाज के निर्माण के लिए जरूरी है कि समाज के प्रत्येक हिस्से को विकास का एक समान अवसर मिले। उम्मीद की जानी चाहिए कि मौजूदा प्रकरण के बाद दोबारा कोई प्रश्नपत्र परीक्षा से पहले व्हॉट्सऐप पर नहीं घूमेगा।


 ◆ अगस्त 2017 : सब इंस्पेक्टर पेपर लीक

◆ फरवरी 2018 UPPCL पेपर लीक

◆ अप्रैल 2018 UP पुलिस का पेपर लीक

◆ जुलाई 2018 अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड का पेपर लीक

◆ अगस्त 2018 स्वास्थ्य विभाग प्रोन्नत पेपर लीक

◆ सितंबर 2018 नलकूप आपरेटर पेपर लीक

◆ 41520 सिपाही भर्ती पेपर लीक

◆ जुलाई 2020, 69000 शिक्षक भर्ती पेपर लीक

◆अगस्त 2021 बी०एड० प्रवेश परीक्षा पेपर लीक

◆ अगस्त 2021 PET पेपर लीक

◆ अक्टूबर 2021 सहायता प्राप्त स्कूल शिक्षक/प्रधानाचार्य पेपर लीक

◆ अगस्त 2021 UP TGT पेपर लीक

◆  NEET पेपर लीक

◆ NDA पेपर लीक

◆ SSC पेपर लीक

और आज

◆ 28 नवंबर UPTET पेपर लीक

रोजगार ,,परीक्षा की तैयारी करने वाले नौजवानों को नहीं,सरकार नकल माफियाओं को दे रही हैं BJP उसके मुख्य मंत्री उप-मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ( माध्यमिक शिक्षा-मंत्री और बेसिक शिक्षा-मंत्री ) जी.... क्या हकीकत है और किसकी साजिश षडयंत्र है किसकी ज़िम्मेदारी जवाबदेही है ? सरकारी व्यवस्था पुरी तरह अराजक है भ्रष्टाचार की गंगा में विधि व्यवस्था कानून व्यवस्था खत्म है परीक्षार्थी शिक्षित बेरोजगारों में घोर निराशा है लगातार परीक्षा पेपर लीक करने की सरकारी योजना प्रदेश सरकार की मनमानी अराजकता भ्रष्टाचार व युवाओं का भविष्य तबाह बर्बाद करने की साजिश के प्रमाण के लिए काफी है?

Popular posts from this blog

भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा-गादरे

मेरठ:-भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा। Raju Gadre राजुद्दीन गादरे सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता ने भारतीयों में पनप रही द्वेषपूर्ण व्यवहार आपसी सौहार्द पर अफसोस जाहिर किया और अपने वक्तव्य में कहा कि देश की जनता को गुमराह कर देश की जीडीपी खत्म कर दी गई रोजगार खत्म कर दिये  महंगाई बढ़ा दी शिक्षा से दूर कर पाखंडवाद अंधविश्वास बढ़ाया जा रहा है। षड्यंत्रकारियो की क्रोनोलोजी को समझें कि हिंदुत्व शब्द का सम्बन्ध हिन्दू धर्म या हिन्दुओं से नहीं है। लेकिन षड्यंत्रकारी बदमाशी करते हैं। जैसे ही आप हिंदुत्व की राजनीति की पोल खोलना शुरू करते हैं यह लोग हल्ला मचाने लगते हैं कि तुम्हें सारी बुराइयां हिन्दुओं में दिखाई देती हैं? तुममें दम है तो मुसलमानों के खिलाफ़ लिख कर दिखाओ ! जबकि यह शोर बिलकुल फर्ज़ी है। जो हिंदुत्व की राजनीति को समझ रहा है, दूसरों को उसके बारे में समझा रहा है, वह हिन्दुओं का विरोध बिलकुल नहीं कर रहा है ना ही वह यह कह रहा है कि हिन्दू खराब होते है और मुसलमान ईसाई सिक्ख बौद्ध अच्छे होते हैं! हिंदुत्व एक राजनैतिक शब्द है ! हिं

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन

 महेश्वरी देवी की रिपोर्ट  खबर बहेड़ी से  है, आज दिनांक 31 मार्च 2024 को समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन मधुर मिलन बारात घर बहेड़ी में संपन्न हुआ। जिसमें मुख्य अतिथि लोकसभा पीलीभीत प्रत्याशी  भगवत सरन गंगवार   रहे तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश महासचिव स्टार प्रचारक विधायक (पूर्व मंत्री )  अताउर रहमान  ने की , कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए  अता उर रहमान  ने कहा की प्रदेश में महंगाई बेरोजगारी चरम पर है और किसान बेतहाशा परेशान है उनके गन्ने का भुगतान समय पर न होने के कारण आत्महत्या करने को मजबूर हैं। उन्होंने मुस्लिम भाइयों को संबोधित करते हुए कहा की सभी लोग एकजुट होकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार को हटाकर एक सुशासन वाली सरकार (इंडिया गठबंधन की सरकार) बनाने का काम करें और भगवत सरन गंगवार को बहेड़ी विधानसभा से भारी मतों से जिताकर माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी के हाथों को मजबूत करें | रहमान जी ने अपने सभी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारी से कहा कि वह ज्यादा से ज्यादा इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी को वोट डलवाने का काम करें और यहां से भगवत सरन गंगवार को भ