Skip to main content

सूबे की कुल 143 सीटों पर मुस्लिम अपना असर रखते हैं. इनमें से 70 सीटों पर मुस्लिम आबादी बीस से तीस फीसद के बीच है जबकि 73 सीटें ऐसी हैं जहां मुसलमान तीस फीसद से ज्यादा हैं. सूबे की करीब तीन दर्जन ऐसी विधानसभा सीटें हैं, जहां मुस्लिम उम्मीदवार अपने दम पर जीत दर्ज कर सकते हैं

ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी भी यूपी में अपना सियासी आधार बढ़ाने के लिए 100 सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान किया है. ओवैसी की नजर भले ही सूबे की मुस्लिम बहुल सीटों पर है, लेकिन पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से लेकर सीएम योगी के गढ़ गोरखपुर तक में चुनाव लड़ने का प्लान बनाया है.  उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए सियासी सरगर्मियां तेज हो गई हैं. हैदराबाद से सांसद व ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी भी यूपी में अपना सियासी आधार बढ़ाने के लिए 100 सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान किया है. ओवैसी की नजर भले ही सूबे की मुस्लिम बहुल सीटों पर है, लेकिन पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से लेकर सीएम योगी के गढ़ गोरखपुर तक में चुनाव लड़ने का प्लान बनाया है.  



बता दें कि उत्तर प्रदेश में करीब 20 फीसदी मुस्लिम मतदाता हैं और सूबे की कुल 143 सीटों पर मुस्लिम अपना असर रखते हैं. इनमें से 70 सीटों पर मुस्लिम आबादी बीस से तीस फीसद के बीच है जबकि 73 सीटें ऐसी हैं जहां मुसलमान तीस फीसद से ज्यादा हैं. सूबे की करीब तीन दर्जन ऐसी विधानसभा सीटें हैं, जहां मुस्लिम उम्मीदवार अपने दम पर जीत दर्ज कर सकते हैं और करीब 107 विधानसभा सीटें ऐसी हैं जहां अल्पसंख्यक मतदाता चुनावी नतीजों को प्रभावित करते हैं. सूबे की इन्हीं सीटों पर असदुद्दीन ओवैसी की खास नजर है, जहां से चुनावी मैदान में कैंडिडेट उतारने की तैयारी है. AIMIM के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली ने aajtak.in से बताया 2022 में पार्टी ने सूबे की जिन 100 सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है, उन्हें चिन्हित कर लिया गया है. यूपी की 75 जिले में से 55 जिलों की सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी है, जिनमें से ज्यादातर सीट पश्चिम यूपी की है. इसीलिए पश्चिम यूपी में हम अपने 60 फीसदी कैंडिडेट उतारेंगे और पूर्वांचल में 30 फीसदी होंगे जबकि सेंट्रल यूपी में हम 10 से 15 सीटें का टारगेट लेकर चल रहे हैं, जिनमें कानपुर, लखनऊ, सीतापुर और सुल्तानपुर जिले की सीटें शामिल हैं. 

उन्होंने बताया कि पश्चिम यूपी के बरेली, पीलीभीत, रामपुर, मुरादाबाद, बिजनौर, अमरोहा, मेरठ, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, संभल, बुलंदशहर, फिरोजाबाद, आगरा और अलीगढ़ जिले की विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए चयन किया गया है. ऐसे ही पूर्वांचल में गोरखपुर, श्रावस्ती, जौनपुर, बस्ती, गाजीपुर, आजमगढ़, वाराणसी, बहराइच, बलरामपुर, संतकबीरनगर, गोंडा, प्रयागराज और प्रतापगढ़ जिले की सीटों को चिन्हित किया गया है. पिछले एक सप्ताह में पचास से ज्यादा लोगों ने चुनाव लड़ने का आवेदन किया है. हर एक सीट पर तीन से चार संभावित नाम आए है और हम सिंतबर-अक्टूबर तक अपने सभी प्रत्याशियों के नामों का ऐलान कर देंगे. असदुद्दीन ओवैसी ने यूपी में जिन विधानसभा चुनाव पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है, उन पर मुस्लिम वोटरों की संख्या 35 से 45 फीसदी तक है. इतना ही नहीं इन सीटों पर मुस्लिम मतों के सहारे अभी तक सपा, बसपा और कांग्रेस के विधायक ही जीत दर्ज करते रहे हैं. ऐसे में ओवैसी के इन सीटों के चुनावी मैदान में उतरने से सपा, बसपा और कांग्रेस के लिए नई चुनौती खड़ी हो सकती है. 

ओवैसी क्या सपा-बसपा की बढ़ाएंगे चुनौती

राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो यूपी में ओवैसी की निशाने पर शुरू से ही सपा, बसपा और कांग्रेस रही हैं. इसके जरिए दोनों पार्टियों को मिलने वाले मुस्लिम वोटों को झटकना है. यूपी की मौजूदा सियासत में सूबे में सपा, बसपा, कांग्रेस और मुस्लिम वोटों की सियासत करने वाले राजनीतिक दलों से मुसलमान मायूस हैं और भरोसेमंद विकल्पों की तलाश में हैं. ऐसे में औवैसी मुस्लिम को एक विकल्प देने के लिए ओम प्रकाश राजभर और कुछ छोटे दलों के साथ मिलकर भागेदारी संकल्प मोर्चा बनाया है. 

बता दें कि मौजूदा विधानसभा में अब तक के सबसे कम सिर्फ 24 मुस्लिम विधायक हैं. मुस्लिम विधायकों की यह हिस्सेदारी 6 फीसदी से भी कम है जबकि सूबे में मुसलमानों की आबादी 20 फीसदी है. इस लिहाज से 403 सदस्यों वाली विधानसभा में मुस्लिम विधायकों की संख्या 75 होनी चाहिए. आजादी के बाद से यह अब तक कम आंकड़ा है. ऐसे में  ओवैसी की पार्टी 2022 के विधानसभा चुनाव में मुसलमानों की नुमाइंदगी एक बड़ा मुद्दा भी बना रही है. शौकत अली कहते हैं कि सपा और बसपा सिर्फ मुस्लिमों का वोट लेना जानती है, लेकिन प्रतिनिधित्व नहीं देना चाहती है. मुस्लिमों की कहां कितना भागेदारी

मुरादाबाद में 50.80 फीसदी, रामपुर में 50.57 फीसदी, सहारनपुर में 41.97 फीसदी,  मुजफ्फरनगर में 41.11 फीसदी, शामली में 41.73 फीसदी, अमरोहा में 40.78 फीसदी, बागपत में 27.98 फीसदी, हापुड़ में 32.39 फीसदी, मेरठ में 34.43 फीसदी, संभल में 32.88 फीसदी, बहराइच में 33.53 फीसदी, बलरामपुर में 37.51 फीसदी, बरेली में 34.54 फीसदी, बिजनौर में 43.04 फीसदी और अलीगढ़ में 19.85 फीसदी आबादी मुस्लिम है. इन जिलों में उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला बहुत हद तक मुस्लिम मतदाताओं के ही हाथ में होता है. 

वहीं, अन्य जिलों जैसे अमेठी में 20.06 फीसदी, गोंडा में 19.76 फीसदी, लखीमपुर खीरी में 20.08 फीसदी, लखनऊ में 21.46 फीसदी, मुऊ में 19.46 फीसदी, महाराजगंज में 17.46 फीसदी, पीलीभीत 24.11 फीसदी, संत कबीर नगर में 23.58 फीसदी, श्रावस्ती में 30.79 फीसदी, सिद्धार्थनगर में 29.23 फीसदी, सीतापुर में 19.93 फीसदी और वाराणसी में 14.88 फीसदी आबादी मुस्लिमों की है. इसके अलावा अन्य जिलों में यह आबादी 10 से 15 फीसदी के बीच है।साभार: आज तक 

कुबूल अहमद

Popular posts from this blog

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु

सरधना विधानसभा से ए आई एम आई एम के भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने किया बड़ा ऐलान अब मुसलमान अपमानित नहीं होगा क्योंकि आ गई है उनकी पार्टी

खलील शाह/ साबिर सलमानी की रिपोर्ट  ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन की नेशनल पब्लिक स्कूल लश्कर गंज बाजार सरधना में आयोजित बैठक में भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने कहा कि ए आई एम आई एम पार्टी सरधना विधानसभा क्षेत्र में शोषित,वंचित और मुसलमानों को उनके अधिकार दिलाने के लिए आई है। आज भी सरधना विधानसभा क्षेत्र पिछड़ा हुआ है। राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी साहब ने उत्तर प्रदेश के शोषित और वंचित समाज को इंसाफ दिलाने का बीड़ा उठाया है। ए आई एम आई एम पार्टी ने मुसलमानों को दरी बिछाने वाला से टिकट बांटने वाला बनाने का बीड़ा उठाया है। जिस प्रकार आज सपा के मंचों पर मुसलमानों को अपमानित किया जा रहा है उसका बदला ए आई एम आई एम को वोट देकर सत्ता में हिस्सेदारी लेकर लेना होगा। हाजी आस मोहम्मद ने कहा कि उनके भाई हाजी अमीरुद्दीन ने तमाम उम्र समाजवादी पार्टी को आगे बढ़ाने में गुजार दी और जब किसी बीमारी की वजह से उनका इंतकाल हुआ तो समाजवादी पार्टी का कोई नुमाइंदा भी उनके परिवार की खबर गिरी करने नहीं आया । आजादी से लेकर आज तक मुस्लिम समाज सेकुलर दलों को अपना वोट देता आ रहा है लेकिन उसके बदले मे