Skip to main content

इस तरह नहीं लड़ सकते ---

M wadood sajid

 भारतीय मुसलमानों की दृष्टि से यदि हम वर्तमान युग की तुलना भारत के ज्ञात इतिहास से करें तो यह युग बहुत ही असामान्य लगता है। इसलिए स्थिति से निपटने के लिए कदम उठाने होंगे। कभी नहीं आए। तब भी नहीं जब आंदोलन बाबरी मस्जिद के खिलाफ राम मंदिर की शुरुआत। खूनी रथ यात्रा निकाली गई। मुस्लिम विरोधी दंगे शुरू हुए।  उनकी अवज्ञा किसी काम की थी या नहीं लेकिन उनकी अवज्ञा कभी प्रतिबंधित नहीं थी। जिन दलों को उनके वोट की जरूरत थी, उन्होंने भी उनकी शिकायतें सुनीं। लेकिन ऐसा लगता है कि अब किसी को लोगों के वोट की जरूरत नहीं है। अब कोई इस्तेमाल नहीं कर रहा है उनका नाम वोट पाने के लिए। अब हर दल दूसरे वर्ग के वोटों के लिए चिंतित है। और अब हर दल खुले तौर पर खुद को धर्मनिरपेक्ष साबित करता है। करने में गर्व महसूस कर रहा है।


  बाबरी मस्जिद की शहादत के बाद जमीयत उलेमा-ए-हिंद के विदेश मंत्रालय के पूर्व अधिकारी काजी मसूद हसन सिद्दीकी द्वारा समीक्षा की गई।मौलाना अब्दुल हमीद नोमानी और मौलाना फजलुर रहमान कासमी ने कहा कि सर्वेक्षण के अनुसार, 67,500 मुस्लिम विरोधी 1990 के दशक तक दंगे हो चुके थे। इनमें से 23,500 दंगे 1984 के सिख विरोधी दंगों की तीव्रता के थे। 37 साल पहले हुए सिख विरोधी दंगे निस्संदेह भयानक थे। 2004 तक, प्रत्येक पीड़ित को विभिन्न प्रकार की वित्तीय सहायता दी जाती थी दिल्ली और केंद्र सरकार से सहायता। हालांकि, अप्रैल 2005 में, तत्कालीन प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल ने 2200 पीड़ितों के परिवारों के लिए 7.22 अरब रुपये प्रदान किए। क्या किसी सरकार या कांग्रेस सरकार ने पीड़ितों के लिए ऐसी कोई राशि आवंटित की है 2005 तक हजारों मुस्लिम विरोधी दंगे हुए?  किसी ने जाकर मनमोहन सिंह या सोनिया गांधी से कम से कम 1984 के मुस्लिम विरोधी दंगों के पीड़ितों की रिपोर्ट करने के लिए नहीं कहा।


  जो भी हो, यह सब हुआ है लेकिन इन सबके बावजूद मुसलमानों के लिए ऐसा समय कभी नहीं रहा, जैसा आज है।  2019 में उनका वोट भारहीन हो गया।  अब स्थिति यह है कि अन्य सभी राजनीतिक दलों द्वारा मुस्लिम वोटों को महत्वहीन माना गया है।वर्तमान प्रधान मंत्री के पहले कार्यकाल में, 'धर्मनिरपेक्ष' दलों ने अपनी शैली बदल दी थी, लेकिन इस दूसरे कार्यकाल में इन दलों ने अपना रास्ता खो दिया है। कट्टर लेखक प्रदीप सिंह लिखते हैं, ''राष्ट्रीय राजनीति बदल रही है.'' तो कोई श्रीराम के साले के लिए मंदिर बनाने की बात कर रहा है तो कोई भगवान परशु राम की दहलीज पर पहुंच रहा है.


 कांग्रेस नेता राहुल गांधी का वह बयान याद है, जिन्होंने 12 दिसंबर, 2021 को जयपुर में एक रैली में कहा था, 'कानून के शासन को वापस लाने की जरूरत है।' कांग्रेस यानी मुस्लिम और अन्य गैर-हिंदू वर्ग भी अपनी योजना से गायब हैं।समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने 31 दिसंबर 2021 को कहा था कि अगर हम सत्ता में होते तो एक साल में राम मंदिर बना लेते। और वह जल्द ही अयोध्या जकरराम राम लला के दर्शन करेंगे।

 

  गुरुग्राम के पार्कों और अन्य खुली जगहों पर जुमे की नमाज को लेकर काफी बवाल हुआ है, लेकिन कौन सा राजनीतिक दल खुलकर सामने आया है?  केवल गुरुग्राम में रहने वाले और कंपनियों, कारखानों और कार्यालयों में काम करने वाले मुसलमानों को ही हर शुक्रवार को बदमाशों का सामना करना पड़ रहा है, प्रदर्शन और यह गलत है।  अंदाजा लगाइए कि जब मुख्यमंत्री इस तरह की निराधार और झूठी बातें फैला रहे हैं तो उपद्रवियों को कौन रोकेगा।


 अब सवाल यह है कि अब मुसलमानों के सामने क्या रास्ता है?राजनीति से हटना संभव नहीं है.लेकिन राजनीतिक जमीन अपनी जगह नहीं है.  आपको प्रतिस्पर्धा करनी होगी। आपको समस्या का समाधान खोजना होगा। लेकिन प्रतिस्पर्धा के लिए आपको एक और अलग रास्ता अपनाना होगा। और यह एक प्राकृतिक सिद्धांत है। नहीं किया जा सकता।  यहाँ लोहे को काटने के सिद्धांत का पालन करने की कोशिश काम नहीं आएगी। लोहे को काटने के लिए कुछ और खोजना होगा, भले ही वह तीव्रता के मामले में लोहे से कम हो। अल्लामा इकबाल ने उर्दू में अनुवाद करते हुए कहा था:

 फूल के पत्ते से हीरे का कलेजा काटा जा सकता है


  इतिहास के पन्ने दूसरे विश्व युद्ध के दौरान 6 अगस्त, 1945 को जापान के हिरोशिमा और नागासाकी पर संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा गिराए गए परमाणु बम के विनाश के वृत्तांतों से भरे हुए हैं। तापमान 4,000 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया।  एक समय में, एक किलोमीटर के दायरे में 66,000 लोग और 1,00,000 से अधिक लोग झटकों से मारे गए थे।  यह अफवाह थी कि अगले 75 वर्षों तक यहां कुछ भी नहीं बढ़ेगा।  लोगों ने व्यक्तिगत और सामूहिक रूप से कोशिश की हिरोशिमा फिर से उठ खड़ी हुई।  भगवान का शुक्र है कि हिरोशिमा जैसी कोई चीज नहीं है।


 हमारा प्रयास स्थिति का सामना करने के लिए नहीं बल्कि केवल स्थिति का वर्णन करने के लिए है। कुछ दल कुछ काम कर रहे हैं लेकिन अलग-अलग। हमारे संसाधन अलग से खर्च किए जा रहे हैं। हमें इन संसाधनों को मिलाकर काम करने की जरूरत है। संसाधन केवल वित्तीय और भौतिक नहीं हो सकते हैं, बल्कि वैज्ञानिक, धार्मिक, राजनीतिक, सामाजिक और प्रशासनिक भी।


  यह राजनीतिक टकराव का समय नहीं है। यह उनकी अपनी भाषा में जवाब देने का समय नहीं है। सभी ग्रहों के शैतान यहां आकर जमा हो गए हैं। आप उनसे उनकी शैली में नहीं लड़ सकते।  'संसद' पर्व पर दैत्यों की बहस और वाद-विवाद देखिए। कहा जाता है कि ये योगी और मोदी आपको बचाने के लिए हमेशा नहीं रहेंगे। यह एक ऐसा बयान है जो इसके दर्जनों नकारात्मक अर्थ निकाल सकता है और इसे निकाला जा रहा है इस चुनौती की क्या जरूरत थी? क्या इसका कोई असर हुआ या फायदा हुआ? इन मौखिक 'बमों' से आप कुछ सौ या कुछ हज़ार लोगों की तालियाँ बटोर सकते हैं। आप बदमाशों के हाथ और जीभ को नहीं रोक सकते। 'जो पहले से ही आप-विरोधी भावनाओं से भरे हुए हैं' आगे अपने विरोधी बना रहे हैं।


  एक सवाल जो अक्सर पूछा जाता है कि समाधान क्या है?  मेरे पास अकेले समाधान नहीं है। मैं यह नहीं कर सकता। पार्टियों और नेताओं द्वारा मिलकर समाधान खोजा जाना चाहिए। लेकिन एक समान स्तर पर, खुले तौर पर सभी को विश्वास में लेकर और स्वार्थ से ऊपर उठकर - पार्टियां अपने पर काम कर रही हैं अपने हैं, लेकिन राजनीतिक मामलों में हमें एकजुट होना होगा। उस समय, एक व्यावहारिक समाधान निकलेगा। तड़क-भड़क वाले भाषणों के साथ कुछ सौ युवाओं की भीड़-भाड़ वाली सभाओं से हम बाहर निकलना नहीं चाहते हैं। आपके पास कुछ भी नहीं है सब कुछ के बावजूद इंदौर में बदमाशों की कानूनी गिरफ्तारी की व्यवस्था करें।  इंकलाब के 19 दिसंबर, 2021 के अंक में प्रकाशित एक कॉलम में इसका विस्तार से जिक्र किया गया था। बदमाशों ने स्थानीय वकीलों को इसका पीछा नहीं करने दिया और हाईकोर्ट ने 11 तारीख को तारीख तय कर सुनवाई कर जमानत दे दी। इस प्रकार, हम अपने अस्तित्व के लिए नहीं लड़ सकते।

Popular posts from this blog

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु

सरधना विधानसभा से ए आई एम आई एम के भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने किया बड़ा ऐलान अब मुसलमान अपमानित नहीं होगा क्योंकि आ गई है उनकी पार्टी

खलील शाह/ साबिर सलमानी की रिपोर्ट  ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन की नेशनल पब्लिक स्कूल लश्कर गंज बाजार सरधना में आयोजित बैठक में भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने कहा कि ए आई एम आई एम पार्टी सरधना विधानसभा क्षेत्र में शोषित,वंचित और मुसलमानों को उनके अधिकार दिलाने के लिए आई है। आज भी सरधना विधानसभा क्षेत्र पिछड़ा हुआ है। राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी साहब ने उत्तर प्रदेश के शोषित और वंचित समाज को इंसाफ दिलाने का बीड़ा उठाया है। ए आई एम आई एम पार्टी ने मुसलमानों को दरी बिछाने वाला से टिकट बांटने वाला बनाने का बीड़ा उठाया है। जिस प्रकार आज सपा के मंचों पर मुसलमानों को अपमानित किया जा रहा है उसका बदला ए आई एम आई एम को वोट देकर सत्ता में हिस्सेदारी लेकर लेना होगा। हाजी आस मोहम्मद ने कहा कि उनके भाई हाजी अमीरुद्दीन ने तमाम उम्र समाजवादी पार्टी को आगे बढ़ाने में गुजार दी और जब किसी बीमारी की वजह से उनका इंतकाल हुआ तो समाजवादी पार्टी का कोई नुमाइंदा भी उनके परिवार की खबर गिरी करने नहीं आया । आजादी से लेकर आज तक मुस्लिम समाज सेकुलर दलों को अपना वोट देता आ रहा है लेकिन उसके बदले मे