Skip to main content

महबूब अली ने रेलवे ट्रैक पर कूद कर बचाई लड़की की जान ,मजहब नहीं सिखाता दूसरे मजहब से नफरत करना

 महबूब नमाज पढ़कर लौट रहे थे। सामने एक रेलवे ट्रैक था। वे गुजर रहे थे कि अचानक उन्हें चीख सुनाई देती है। जिस मालगाड़ी पर चढ़कर वे ट्रैक पार रहे हैं, उसी के नीचे एक लड़की फंस गई है। गाड़ी चल चुकी है। महबूब अली फुर्ती के साथ गाड़ी के नीचे कूद गए, लड़की का सिर पकड़ कर जमीन से चिपट कर लेटे रहे और गाड़ी के 27 डिब्बे उन पर गुजर गए। लड़की की जान बच गई। 

दरअसल, मालगाड़ी खड़ी हो गई थी। महबूब अपने दोस्त के साथ गाड़ी पर चढ़कर उस पार निकल गए। कुछ और लोग उसके नीचे से पटरी पार कर रहे थे। तभी एक नाबालिग लड़की का पैर फंस गया। इसी दौरान गाड़ी चल पड़ी और लड़की गाड़ी के नीचे ही फंस गई। पेशे से कारपेंटर महबूब ने लड़की को बचाने के लिए एक सेकेंड गंवाए बिना अपनी जान की बाजी लगा दी। किसी ने इसका वीडियो बना लिया जो अब वायरल हो रहा है। 

यह घटना भोपाल के बरखेड़ी फाटक की है। महबूब ने बताया कि वह फर्नीचर बनाने का काम करते हैं। 5 फरवरी को सोनिया कॉलोनी से नमाज पढ़कर आ रहे थे। बरखेड़ी फाटक के पास एक मालगाड़ी धीरे-धीरे आकर रूक गई। वह और उनका एक दोस्त मालगाड़ी के ऊपर से निकल गए। तभी एक लड़की नीचे से निकल रही थी और इसी दौरान मालगाड़ी चलने लगी। वह घबराकर चिल्लाने लगी तभी मैं तुरंत अंदर घुस गया और लड़की को लेकर पटरी पर लेट गया। हादसे के बाद लड़की अपने परिजनों के साथ चली गई। महबूब ने अपनी जान की परवाह किए बगैर लड़की की जिंदगी बचाई। इसके लिए उन्हें सम्मानित किया गया है। एक स्वयंसेवी संस्था ने महबूब को उपहार स्वरूप मोबाइल फोन दिया है क्योंकि उनके पास फोन नहीं था।  मैं यह कहानी सुबह से लिखना चाहता था। बहुत थकने के बाद भी मन नहीं माना। भले ही चार लोगों तक पहुंचा सकूं लेकिन दुनिया को यह बताना जरूरी है कि महबूब जैसे निश्छल और नेकदिल लोग कम होते हैं। इंसानियत यही है जो महबूब ने किया। इस देश का मुखिया कहता है कि दंगाइयों को कपड़ों से पहचाना जा सकता है। क्या इस दाढ़ी और टोपी वाले मसीहा को देखकर आप बता सकते हैं कि वह एक लड़की के लिए आज खुदा बन गए और उसकी जान बचा ली? आपको बरगलाया जा रहा है। कपड़े और हुलिए से इंसान नहीं पहचाने जा सकते। कपड़ा, हुलिया, रंग, क्षेत्र, जाति, धर्म से नफरत पहचानी जाती है। इन सबसे जुड़े जज्बात नफरत के कारोबारियों के औजार हैं। किसी बहुरुपिये के चक्कर में मत फंसिए। आपके आसपास भी तमाम महबूब होंगे। आपसे कहा जा रहा कि उनके पहनावे और पहचान के आधार पर उनसे नफरत कीजिए। आपको यह नहीं करना है। क्या पता किसी दिन आप फिसल जाएं और जो हाथ आपको थाम ले, वह किसी महबूब का ही हो। अपने दोस्त के रूप में, पड़ोसी के रूप में, गांव या शहर के पहचान के रूप में, हर महबूब से मोहब्बत बनाए रखें। इंसानियत में थोड़ा हिस्सा तो आपका भी है

Popular posts from this blog

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु

सरधना विधानसभा से ए आई एम आई एम के भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने किया बड़ा ऐलान अब मुसलमान अपमानित नहीं होगा क्योंकि आ गई है उनकी पार्टी

खलील शाह/ साबिर सलमानी की रिपोर्ट  ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन की नेशनल पब्लिक स्कूल लश्कर गंज बाजार सरधना में आयोजित बैठक में भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने कहा कि ए आई एम आई एम पार्टी सरधना विधानसभा क्षेत्र में शोषित,वंचित और मुसलमानों को उनके अधिकार दिलाने के लिए आई है। आज भी सरधना विधानसभा क्षेत्र पिछड़ा हुआ है। राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी साहब ने उत्तर प्रदेश के शोषित और वंचित समाज को इंसाफ दिलाने का बीड़ा उठाया है। ए आई एम आई एम पार्टी ने मुसलमानों को दरी बिछाने वाला से टिकट बांटने वाला बनाने का बीड़ा उठाया है। जिस प्रकार आज सपा के मंचों पर मुसलमानों को अपमानित किया जा रहा है उसका बदला ए आई एम आई एम को वोट देकर सत्ता में हिस्सेदारी लेकर लेना होगा। हाजी आस मोहम्मद ने कहा कि उनके भाई हाजी अमीरुद्दीन ने तमाम उम्र समाजवादी पार्टी को आगे बढ़ाने में गुजार दी और जब किसी बीमारी की वजह से उनका इंतकाल हुआ तो समाजवादी पार्टी का कोई नुमाइंदा भी उनके परिवार की खबर गिरी करने नहीं आया । आजादी से लेकर आज तक मुस्लिम समाज सेकुलर दलों को अपना वोट देता आ रहा है लेकिन उसके बदले मे