Skip to main content

‘सुना है डूब गई है बे-हिसी के दरिया में’*

 आज का मज़मून अहले नज़र के हवाले, 23.2.22

मुसलमानों की जहालत और ग़रीबी की सबसे बड़ी वजह दीन का महदूद तसव्वुर है - कलीमुल हफ़ीज़

*ये मज़मून एक हादसे कि वजह से लिखना हुआ। हुआ ये कि दिल्ली की एक झुग्गी बस्ती का रहने वाला एक मुस्लिम लड़का जिसकी उम्र 18 साल रही होगी, तिहाड़ जेल में पुलिस की मार न झेल सका और मर गया। इस हादसे पर उस बस्ती में हंगामा हुआ। सड़क पर जनाज़ा रख कर विरोध-प्रदर्शन किया गया। हज़ारों लोगों ने सड़क जाम कर दी। पुलिस के यक़ीन दिलाने के बाद मैय्यत की तदफ़ीन की गई।


उस बस्ती के पास में बड़ी-बड़ी इमारतें हैं, उनमें कुछ इमारतें अमीर मुसलमानों की हैं। ये बस्ती दिल्ली के बीचों-बीच है। अक्सर झुग्गी बस्तियाँ किसी गंदे नाले या शहर के किनारे, कूड़े के ढेर के आस-पास हैं, मगर ये बस्ती रोड के किनारे है। इस बस्ती में ज़्यादातर मुसलमान ही रहते हैं, जिनका ताल्लुक़ यूपी, बंगाल और बिहार से है।*
*यहाँ जो मुसलमान रहते हैं उनमें से एक साहब से मेरी मुलाक़ात हुई। मैंने उन्हें बताया कि मैं जेल में मरने वाले नौजवान के घर वालों से ताज़ियत के लिये आया था और मैंने उनको अपनी मदद का यक़ीन दिलाया है और मैं गुनहगारों के ख़िलाफ़ कार्रवाई भी करूँगा। उन्होंने बड़ी हैरत से कहा भाई मुझे तो मालूम नहीं, ये तो आपसे सुन रहा हूँ। हालाँकि हादसे को कई दिन गुज़र चुके थे। बातों-बातों में मौसूफ़ ने कहा कि दिन भर बाहर रहना होता है। मैं तहज्जुद पढ़ कर फ़ुलाँ मस्जिद में फ़ज्र पढ़ता हूँ क्योंकि वहाँ अव्वल वक़्त होती है, ज़ौहर और अस्र आम तौर पर दफ़्तर में हो जाती है और मग़रिब फ़ुलाँ मस्जिद में और इशा फ़ुलाँ जगह पर पढ़ता हूँ। मौसूफ़ एक बड़ी कंपनी के मालिक हैं और इस बात में कोई शक नहीं की वो अरबपति होंगे।*

*इसमें कोई हैरत की बात नहीं कि दिल्ली के लोग दिन भर मसरूफ़ रहते हैं। इसमें भी कोई हैरत की बात नहीं कि दिल्ली में एक ही फ़्लैट में रहने वाले एक-दूसरे को नहीं जानते, बल्कि जानना भी नहीं चाहिए। ‘जानना भी नहीं चाहिए’ इसलिए कह रहा हूँ कि मेरे एक दोस्त ने बताया कि वो जिस बिल्डिंग में रहते हैं उसमें चार फ़्लोर हैं, और हर फ़्लोर पर दो दो फ़्लेट हैं। मैं जब अपने फ़्लेट से आता जाता तो बाक़ी लोगों को जो इस बिल्डिंग में रहते हैं उनको मौक़ा देख कर सलाम कर लेता। एक साहब से तक़रीबन रोज़ ही सलाम-दुआ होती है। एक दिन वो कहने लगे कि आप सलाम क्यों करते हैं? इस सवाल पर मैंने कहा, जनाब सलाम करना सवाब है, इससे जान-पहचान पढ़ती है, हम एक ही बिल्डिंग में रहते हैं, हमें एक-दूसरे से परिचित होना चाहिये, उन्होंने बुरा सा मुँह बना कर कहा नहीं, मुझे इसकी कोई ज़रूरत नहीं है। आप मुझे सलाम न किया करें।*

*आप इन दोनों वाक़िआत को देखिये और फिर इस्लाम की तालीमात, रसूलुल्लाह (सल्ल०) के नमूने, ख़ैरे-उम्मत होने के तक़ाज़े, आम इंसानी अख़लाक़ की रौशनी में अपना जायज़ा लीजिये। हमारे यहाँ कितने ही लोग तहज्जुद पढ़ते हैं और नवाफ़िल के पाबंद हैं, अल्लाह ने जिनको मुख़्तलिफ़ सलाहियतों और नेमतों से नवाज़ा है, किसी को ख़ूब माल दिया है, किसी को फ़ुर्सत के पल ख़ूब बख़्शे हैं। लेकिन हम इन नेमतों का सही से इस्तेमाल नहीं करते। इसलिए किसी भी सूरत हमारी हालत नहीं बदलती।*

*हमारे यहाँ दीन का महदूद तसव्वुर इतना आम हो गया है कि भूखों को खाना खिलाना, झुग्गी में रहने वालों की तालीम व तरबियत का ख़याल करना, अपने आस-पास के लोगों की समस्याओं को जानना और समझना दीन का काम ही नहीं समझा जाता। हमारी साउंड-प्रूफ़ गाड़ियों और महलों तक ग़रीबों की आवाज़ नहीं पहुँचती। हम इतने बे-हिस हो गए हैं कि अपने जैसे इन्सानों ही को नहीं बल्कि अपने मुसलमान भाइयों तक को ख़ातिर में नहीं लाते। दीन के महदूद तसव्वुर की बदौलत क़ुरआन का इस्तेमाल हम सिर्फ़ मुर्दों को बख़्शवाने तक महदूद कर देते हैं। सीरत का मतलब महफ़िल सजाना है, सुन्नत के नाम पर चंद नवाफ़िल हैं।* 

प्रस्तुति एस ए बेताब

Popular posts from this blog

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु

सरधना विधानसभा से ए आई एम आई एम के भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने किया बड़ा ऐलान अब मुसलमान अपमानित नहीं होगा क्योंकि आ गई है उनकी पार्टी

खलील शाह/ साबिर सलमानी की रिपोर्ट  ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन की नेशनल पब्लिक स्कूल लश्कर गंज बाजार सरधना में आयोजित बैठक में भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने कहा कि ए आई एम आई एम पार्टी सरधना विधानसभा क्षेत्र में शोषित,वंचित और मुसलमानों को उनके अधिकार दिलाने के लिए आई है। आज भी सरधना विधानसभा क्षेत्र पिछड़ा हुआ है। राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी साहब ने उत्तर प्रदेश के शोषित और वंचित समाज को इंसाफ दिलाने का बीड़ा उठाया है। ए आई एम आई एम पार्टी ने मुसलमानों को दरी बिछाने वाला से टिकट बांटने वाला बनाने का बीड़ा उठाया है। जिस प्रकार आज सपा के मंचों पर मुसलमानों को अपमानित किया जा रहा है उसका बदला ए आई एम आई एम को वोट देकर सत्ता में हिस्सेदारी लेकर लेना होगा। हाजी आस मोहम्मद ने कहा कि उनके भाई हाजी अमीरुद्दीन ने तमाम उम्र समाजवादी पार्टी को आगे बढ़ाने में गुजार दी और जब किसी बीमारी की वजह से उनका इंतकाल हुआ तो समाजवादी पार्टी का कोई नुमाइंदा भी उनके परिवार की खबर गिरी करने नहीं आया । आजादी से लेकर आज तक मुस्लिम समाज सेकुलर दलों को अपना वोट देता आ रहा है लेकिन उसके बदले मे