Skip to main content

उत्तर प्रदेश में ईवीएम द्वारा घोटाले से बनी सरकार के समर्थकों का शुरू हो गया आतंक मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने के नारे बुलंद निंदनीय लोकतंत्र पर हमला--गादरे*

  दिल्ली:-13 अगस्त 1980, ईद का दिन। मुरादाबाद की ईदगाह में नमाज पढते हजारो मुसलमानो पर पीएसी ने गोलियां बरसाई। चार सौ से ज्यादा मुसलमानो की मौत। उस पर मूवी क्यों नही ? 18 फरवरी 1983 आसाम के नेली मे दस हजार से ज्यादा मुसलमानो की हत्या पुलिस और दंगाईयो ने मिलकर की। उस पर मूवी क्यों नही ?


21 मई 1987 मेरठ के हाशिमपुरा मोहल्ले मे पचास मुसलमानो को पीएसी ने जंगल मे ले जाकर एक नहर के किनारे लाईन मे खडा करके गोली मारी। उस पर मूवी क्यों नही ? 1984 मे दिल्ली रेल्वे स्टेशन पर साठ सिख फौजियों को बोगी से निकालकर, केरोसिन डालकर भीड ने जला दिया । शूद्रों की मूवी को क्यों नहीं सो गया जा रहा आज तक ब्राह्मणों द्वारा 4000 साल से पिछड़ी जातियों पर अनेक अत्याचार किए जा रहे हैं और बैंडिट क्वीन माननीय फूलन देवी की मूवी को क्यों नहीं चलने दिया आज एससी एसटी ओबीसी माइनॉरिटी पर टुकड़ों टुकड़ों में हमले किए जा रहे हैं उधर इस्लामोफोबिया जबरदस्त तरीके को देखने को मिल रहा है क्या यही प्रधानमंत्री मुख्यमंत्री राज्यपाल उपराष्ट्रपति के होते हुए एक लोकतंत्र में ऐसा संभव है? उस पर मूवी क्यों नही ? पण्डितों को 8 साल मे भी घर वापसी नहीं करा पाए मोदी।                            बहुजन मुक्ति पार्टी के बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने अपने वक्तव्य में कहा कि भारत लोकतंत्र होते हुए भी भारत में आज इस्लामोफोबिया के बढ़ते हुए कदम अफसोस जनक और उत्तर प्रदेश में ईवीएम द्वारा घोटाले से बनी सरकार के समर्थकों का शुरू हो गया आतंक मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने के नारे सरेआम बुलंद करना निंदनीय लोकतंत्र सीधे तौर पर हमला है इतिहास गवाह है कि कश्मीर और आस पास के रास्ते से तुर्क आए. अफ़ग़ान आए, मुग़ल आए। 400 साल से ज़्यादा समय तक कश्मीर में  मुसलमान शासक रहे। लेकिन कश्मीरी पंडित कश्मीर में बने रहे। 

वे कश्मीरी पंडित कश्मीर घाटी के सबसे अमीर समुदाय के तौर पर रहे। लगभग सारी ज़मीन इनके पास थी। शिक्षा में सबसे ऊँचा स्तर इनका था। कश्मीरी पंडित पी एम, नौकरशाह और जज बन रहे थे। 

फिर 1990 में ऐसा क्या हुआ कि उन्हें अपना घर छोड़ना पड़ा? राज्य का शासन उस समय जगमोहन चला रहे थे। ज्ञात कीजिए कि उस वक्र्त राज्य सरकार बर्खास्त थी। केंद्र की सरकार बीजेपी के समर्थन से चल रही थी।

जो लोग तुर्क, अफ़ग़ान और मुग़ल के साथ एडजस्ट कर गए, फूलते-फलते रहे, वो जगमोहन के समय घर छोड़कर चले गए? उस वक्त ब्राह्मण जो काम किया करते थे उनके व्यापार ना के बराबर हुए क्योंकि ऊंच-नीच की व्यवस्था फैलाने का षड्यंत्र या पूजा पाठ का वहां नहीं चल पा रहा था क्योंकि लोग मुस्लिम बनते चले गए और पूजा-पाठ छोड़ कर के एक ईश्वर खुदा को मानने वाले बन गए और ब्राह्मणों को पूरे भारत में अपने व्यापार को लेकर फैल गए और आज कश्मीर से ज्यादा बड़ी प्रॉपर्टी बड़े पैसे वाले बने हुए हैं। क्योंकि केंद्र सरकार ने उन लोगों को जमीन जायदाद भरपूर मात्रा में मुहैया कराई और दिल्ली में पंपोश एनक्लेव में ही देख सकते हैं कि एक फ्लैट की कीमत 15 से ₹20 करोड की कीमत वाले घरों मे रह रहे है? और कश्मीर में रह रहे लोगों की दुर्दशा सभी के सामने है। भारत देश में गुर्जर धोबी तेली माली ना जुलाहा बढ़ाई लोहार पिछडी जाति सवर्ण और जो व्यवस्था के शिकार थे पाखंडवाद, अंधविश्वास के मूर्ति पूजा पत्थर पूजा ऊंच-नीच असमानता के उन लोगों ने मुस्लिम धर्म अपनाया कुछ सीख अपनाएं कुछ सिख अपनाएं कुछ ईसाई तो कोई लिंगायत अपनाएं जहां जिस विचारधारा का प्रचार प्रसार अच्छा लगा लोगों को सही लगा तो उन्होंने धर्म परिवर्तन किया भारत में ज्यादातर ही नहीं 87% करीब मूल निवासी हैं खून के भाई हैं लेकिन कुछ षड्यंत्रकारी आज भी एक दूसरे को मंदिर मस्जिद में उलझा कर देश को विज्ञान की और ना ले जाकर विकास की ओर ना ले जाकर देश को बेचने का काम कर रहे हैं। जनता को समझना होगा और तभी हमारा देश षड्यंत्रकारिर्यों से षड्यंत्रकारी सरकारों से बच पाएगा वरना गुलामी में कोई कमी और कसर बाकी नहीं रह गई है जो लोग मस्जिदों के माइक या मुस्लिम समाज को चोर उचक्का कहने से गुरेज नहीं कर रहे हैं तो वह अपने गिरेबान में झांके कि वह व्यवस्था सुधारने में क्यों वक्त नहीं लगा रहे हैं कौन सा मजहब कहता है कि मारकाट मचाओ आतंकवाद फैलाव यदि कोई गुनहगार है कोई आतंकवाद फैला रहा है तो उनको भी सजा मिलनी चाहिए यही लोकतंत्र है। और लोकतंत्र में सभी लोगों को सभी मजहब को अपने-अपने विचारधारा पर रहकर अपने धार्मिक कार्य करने की स्वतंत्रता मौजूद है एक युग जिसको सतयुग कह रहे हैं उसमें केवल ब्राह्मणों को पढ़ने की आजादी थी फिर द्वापर युग आया उसमें ब्राह्मणों के साथ क्षत्रियों को पढ़ सकते थे त्रेतायुग मे ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य को भी लिखने-पढ़ने की आजादी मिली और आज जो लोग कलयुग कहते हैं डॉ बाबा भीमराव अंबेडकर साहब के संविधान के अनुसार जो आज लोकतंत्र जीवित है उसमें सभी जातियों को पढ़ने - लिखने की अपने काम करने की आजादी अपने स्वास्थ्य की देखभाल करने की आजादी मिली हुई है यदि ऐसा नहीं चाहिए तो उन षड्यंत्रकारिर्यों से सवाल करने की जरूरत है और अपने देश की शांति और व्यवस्था बनाकर प्रोग्रेस करने की जरूरत है तभी हमारा संविधान और लोकतंत्र और इंसानियत बच सकती है।

नरेंद्र मोदी के आठ साल के शासन के बावजूद उनकी वापसी भी नहीं हो पा रही है। क्यों?

Popular posts from this blog

भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा-गादरे

मेरठ:-भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा। Raju Gadre राजुद्दीन गादरे सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता ने भारतीयों में पनप रही द्वेषपूर्ण व्यवहार आपसी सौहार्द पर अफसोस जाहिर किया और अपने वक्तव्य में कहा कि देश की जनता को गुमराह कर देश की जीडीपी खत्म कर दी गई रोजगार खत्म कर दिये  महंगाई बढ़ा दी शिक्षा से दूर कर पाखंडवाद अंधविश्वास बढ़ाया जा रहा है। षड्यंत्रकारियो की क्रोनोलोजी को समझें कि हिंदुत्व शब्द का सम्बन्ध हिन्दू धर्म या हिन्दुओं से नहीं है। लेकिन षड्यंत्रकारी बदमाशी करते हैं। जैसे ही आप हिंदुत्व की राजनीति की पोल खोलना शुरू करते हैं यह लोग हल्ला मचाने लगते हैं कि तुम्हें सारी बुराइयां हिन्दुओं में दिखाई देती हैं? तुममें दम है तो मुसलमानों के खिलाफ़ लिख कर दिखाओ ! जबकि यह शोर बिलकुल फर्ज़ी है। जो हिंदुत्व की राजनीति को समझ रहा है, दूसरों को उसके बारे में समझा रहा है, वह हिन्दुओं का विरोध बिलकुल नहीं कर रहा है ना ही वह यह कह रहा है कि हिन्दू खराब होते है और मुसलमान ईसाई सिक्ख बौद्ध अच्छे होते हैं! हिंदुत्व एक राजनैतिक शब्द है ! हिं

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन

 महेश्वरी देवी की रिपोर्ट  खबर बहेड़ी से  है, आज दिनांक 31 मार्च 2024 को समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन मधुर मिलन बारात घर बहेड़ी में संपन्न हुआ। जिसमें मुख्य अतिथि लोकसभा पीलीभीत प्रत्याशी  भगवत सरन गंगवार   रहे तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश महासचिव स्टार प्रचारक विधायक (पूर्व मंत्री )  अताउर रहमान  ने की , कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए  अता उर रहमान  ने कहा की प्रदेश में महंगाई बेरोजगारी चरम पर है और किसान बेतहाशा परेशान है उनके गन्ने का भुगतान समय पर न होने के कारण आत्महत्या करने को मजबूर हैं। उन्होंने मुस्लिम भाइयों को संबोधित करते हुए कहा की सभी लोग एकजुट होकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार को हटाकर एक सुशासन वाली सरकार (इंडिया गठबंधन की सरकार) बनाने का काम करें और भगवत सरन गंगवार को बहेड़ी विधानसभा से भारी मतों से जिताकर माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी के हाथों को मजबूत करें | रहमान जी ने अपने सभी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारी से कहा कि वह ज्यादा से ज्यादा इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी को वोट डलवाने का काम करें और यहां से भगवत सरन गंगवार को भ