Skip to main content

उत्तर प्रदेश में ईवीएम द्वारा घोटाले से बनी सरकार के समर्थकों का शुरू हो गया आतंक मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने के नारे बुलंद निंदनीय लोकतंत्र पर हमला--गादरे*

  दिल्ली:-13 अगस्त 1980, ईद का दिन। मुरादाबाद की ईदगाह में नमाज पढते हजारो मुसलमानो पर पीएसी ने गोलियां बरसाई। चार सौ से ज्यादा मुसलमानो की मौत। उस पर मूवी क्यों नही ? 18 फरवरी 1983 आसाम के नेली मे दस हजार से ज्यादा मुसलमानो की हत्या पुलिस और दंगाईयो ने मिलकर की। उस पर मूवी क्यों नही ?


21 मई 1987 मेरठ के हाशिमपुरा मोहल्ले मे पचास मुसलमानो को पीएसी ने जंगल मे ले जाकर एक नहर के किनारे लाईन मे खडा करके गोली मारी। उस पर मूवी क्यों नही ? 1984 मे दिल्ली रेल्वे स्टेशन पर साठ सिख फौजियों को बोगी से निकालकर, केरोसिन डालकर भीड ने जला दिया । शूद्रों की मूवी को क्यों नहीं सो गया जा रहा आज तक ब्राह्मणों द्वारा 4000 साल से पिछड़ी जातियों पर अनेक अत्याचार किए जा रहे हैं और बैंडिट क्वीन माननीय फूलन देवी की मूवी को क्यों नहीं चलने दिया आज एससी एसटी ओबीसी माइनॉरिटी पर टुकड़ों टुकड़ों में हमले किए जा रहे हैं उधर इस्लामोफोबिया जबरदस्त तरीके को देखने को मिल रहा है क्या यही प्रधानमंत्री मुख्यमंत्री राज्यपाल उपराष्ट्रपति के होते हुए एक लोकतंत्र में ऐसा संभव है? उस पर मूवी क्यों नही ? पण्डितों को 8 साल मे भी घर वापसी नहीं करा पाए मोदी।                            बहुजन मुक्ति पार्टी के बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने अपने वक्तव्य में कहा कि भारत लोकतंत्र होते हुए भी भारत में आज इस्लामोफोबिया के बढ़ते हुए कदम अफसोस जनक और उत्तर प्रदेश में ईवीएम द्वारा घोटाले से बनी सरकार के समर्थकों का शुरू हो गया आतंक मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने के नारे सरेआम बुलंद करना निंदनीय लोकतंत्र सीधे तौर पर हमला है इतिहास गवाह है कि कश्मीर और आस पास के रास्ते से तुर्क आए. अफ़ग़ान आए, मुग़ल आए। 400 साल से ज़्यादा समय तक कश्मीर में  मुसलमान शासक रहे। लेकिन कश्मीरी पंडित कश्मीर में बने रहे। 

वे कश्मीरी पंडित कश्मीर घाटी के सबसे अमीर समुदाय के तौर पर रहे। लगभग सारी ज़मीन इनके पास थी। शिक्षा में सबसे ऊँचा स्तर इनका था। कश्मीरी पंडित पी एम, नौकरशाह और जज बन रहे थे। 

फिर 1990 में ऐसा क्या हुआ कि उन्हें अपना घर छोड़ना पड़ा? राज्य का शासन उस समय जगमोहन चला रहे थे। ज्ञात कीजिए कि उस वक्र्त राज्य सरकार बर्खास्त थी। केंद्र की सरकार बीजेपी के समर्थन से चल रही थी।

जो लोग तुर्क, अफ़ग़ान और मुग़ल के साथ एडजस्ट कर गए, फूलते-फलते रहे, वो जगमोहन के समय घर छोड़कर चले गए? उस वक्त ब्राह्मण जो काम किया करते थे उनके व्यापार ना के बराबर हुए क्योंकि ऊंच-नीच की व्यवस्था फैलाने का षड्यंत्र या पूजा पाठ का वहां नहीं चल पा रहा था क्योंकि लोग मुस्लिम बनते चले गए और पूजा-पाठ छोड़ कर के एक ईश्वर खुदा को मानने वाले बन गए और ब्राह्मणों को पूरे भारत में अपने व्यापार को लेकर फैल गए और आज कश्मीर से ज्यादा बड़ी प्रॉपर्टी बड़े पैसे वाले बने हुए हैं। क्योंकि केंद्र सरकार ने उन लोगों को जमीन जायदाद भरपूर मात्रा में मुहैया कराई और दिल्ली में पंपोश एनक्लेव में ही देख सकते हैं कि एक फ्लैट की कीमत 15 से ₹20 करोड की कीमत वाले घरों मे रह रहे है? और कश्मीर में रह रहे लोगों की दुर्दशा सभी के सामने है। भारत देश में गुर्जर धोबी तेली माली ना जुलाहा बढ़ाई लोहार पिछडी जाति सवर्ण और जो व्यवस्था के शिकार थे पाखंडवाद, अंधविश्वास के मूर्ति पूजा पत्थर पूजा ऊंच-नीच असमानता के उन लोगों ने मुस्लिम धर्म अपनाया कुछ सीख अपनाएं कुछ सिख अपनाएं कुछ ईसाई तो कोई लिंगायत अपनाएं जहां जिस विचारधारा का प्रचार प्रसार अच्छा लगा लोगों को सही लगा तो उन्होंने धर्म परिवर्तन किया भारत में ज्यादातर ही नहीं 87% करीब मूल निवासी हैं खून के भाई हैं लेकिन कुछ षड्यंत्रकारी आज भी एक दूसरे को मंदिर मस्जिद में उलझा कर देश को विज्ञान की और ना ले जाकर विकास की ओर ना ले जाकर देश को बेचने का काम कर रहे हैं। जनता को समझना होगा और तभी हमारा देश षड्यंत्रकारिर्यों से षड्यंत्रकारी सरकारों से बच पाएगा वरना गुलामी में कोई कमी और कसर बाकी नहीं रह गई है जो लोग मस्जिदों के माइक या मुस्लिम समाज को चोर उचक्का कहने से गुरेज नहीं कर रहे हैं तो वह अपने गिरेबान में झांके कि वह व्यवस्था सुधारने में क्यों वक्त नहीं लगा रहे हैं कौन सा मजहब कहता है कि मारकाट मचाओ आतंकवाद फैलाव यदि कोई गुनहगार है कोई आतंकवाद फैला रहा है तो उनको भी सजा मिलनी चाहिए यही लोकतंत्र है। और लोकतंत्र में सभी लोगों को सभी मजहब को अपने-अपने विचारधारा पर रहकर अपने धार्मिक कार्य करने की स्वतंत्रता मौजूद है एक युग जिसको सतयुग कह रहे हैं उसमें केवल ब्राह्मणों को पढ़ने की आजादी थी फिर द्वापर युग आया उसमें ब्राह्मणों के साथ क्षत्रियों को पढ़ सकते थे त्रेतायुग मे ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य को भी लिखने-पढ़ने की आजादी मिली और आज जो लोग कलयुग कहते हैं डॉ बाबा भीमराव अंबेडकर साहब के संविधान के अनुसार जो आज लोकतंत्र जीवित है उसमें सभी जातियों को पढ़ने - लिखने की अपने काम करने की आजादी अपने स्वास्थ्य की देखभाल करने की आजादी मिली हुई है यदि ऐसा नहीं चाहिए तो उन षड्यंत्रकारिर्यों से सवाल करने की जरूरत है और अपने देश की शांति और व्यवस्था बनाकर प्रोग्रेस करने की जरूरत है तभी हमारा संविधान और लोकतंत्र और इंसानियत बच सकती है।

नरेंद्र मोदी के आठ साल के शासन के बावजूद उनकी वापसी भी नहीं हो पा रही है। क्यों?

Popular posts from this blog

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

थाना अमरिया पुलिस द्वारा 04 अभियुक्तों को 68 किलोग्राम डोडा पोस्ता व डोडा चूरा सहित किया गिरफ्तार

 पीलीभीत के थाना अमरिया में आज दिनांक 05.09.2022 को थाना अमरिया जनपद पीलीभीत पुलिस द्वारा पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार प्रभु जनपद पीलीभीत के निर्देशन में व  अपर पुलिस अधीक्षक महोदय जनपद पीलीभीत व क्षेत्राधिकारी सदर महोदय जनपद पीलीभीत के कुशल नेतृत्व में अपराधियों के विरुद्ध जनपद में मादक पदार्थ व जहरीली शराब की तस्करी व रोकथाम हेतु चलाये जा रहे अभियान के तहत  थाना अमरिया पुलिस द्वारा 02 अभियुक्तगणों 1.महेश कुमार गुप्ता पुत्र ओमप्रकाश निवासी कस्बा व थाना अमरिया जनपद पीलीभीत व  2.रवि गुप्ता पुत्र महेश गुप्ता निवासी कस्बा व थाना अमरिया जनपद पीलीभीत को उनके घर के पास से गिरफ्तार किया गया तथा इनके कब्जे से मादक पदार्थ 31 किलोग्राम ( डोडा पोस्ता व डोडा चूरा ) बरामद हुआ गिरफ्तार किए गये अभियुक्तगणों से गहनता से पूछताछ के दौरान उन्होनों बरामद मादक पदार्थों को  अभियुक्त प्रमोद गुप्ता पुत्र मटरु लाल निवासी ग्राम देवचरा थाना भमौरा जनपद बरेली व अभियुक्त विनोद कुमार गुप्ता पुत्र मटरु लाल निवासी ग्राम देवचरा थाना भमौरा जनपद बरेली से खरीद कर लाना बताया इस पूछताछ के दौरान प्रकाश में आये अभियुक्त प्रमोद