Skip to main content

*उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद की परीक्षाओं में शर्मनाक हालात का ज़िम्मेदार कौन-?

*ज़मीं की आख़िरी तह में उतर जाने को जी चाहा ,

कुछ ऐसी हालत थी उनकी, के मर जाने को जी चाहा ।

*इस बेशर्मी के दौर में शर्म किसको आए -? 

और कौन शर्माए-? और कौन इस हालत में सुधार कराए-?

बिजनौर ( हिरा मीडिया सेंटर )

पूरे उत्तर प्रदेश में मदरसा शिक्षा परिषद की 14 मई से शुरू हुईं विभिन्न परीक्षाएं आज समाप्त हो गईं। ज़िले भर में बनाए गए परीक्षा सेंटरों ने अपनी तरफ़ से परीक्षाओं को सम्पन्न कराने के सभी उचित प्रबंध करने का दावा किया। साथ ही आज शांति पूर्ण परीक्षाओं के संपन्न होने पर चैन की सांस ली। लेकिन मदरसा शिक्षा परिषद   की यह परीक्षाएं एक नहीं अनेक सवाल खड़ा कर रहीं हैं । सेंटरों पर परीक्षार्थियों का क्या हाल रहा-? अनेक स्थानों पर परीक्षार्थियों ने दी नीचे दरी पर बैठ कर परीक्षा।





नजीबाबाद के पास साहनपुर में मदरसा फारूक उल उलूम इंटर कॉलेज में बने परीक्षा सेंटर पर जहां आस पास के 9 मदरसों के छात्र परीक्षा दे रहे हैं वहां 21 मई को ज़िला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी नौशाद हुसैन ने स्वयं निरीक्षण किया। यूं तो सभी सेंटर्स पर नकल विहीन परीक्षाएं कराने का दावा किया गया है। लेकिन परीक्षार्थियों की दुर्दशा की सेंटर्स पर साफ़ दिखाई दी। जनपद बिजनौर के साहनपुर सेंटर के अलावा स्योहारा में भी एक परीक्षा स्थल पर दरी पर बैठ कर परीक्षा देते छात्र छात्राओं को देखा गया। परीक्षा दे कर लौट रहे परीक्षार्थियों ने बताया कि बड़ी रकम लेकर परीक्षा फार्म भरने वालों ने आज आ कर नहीं देखा कि हम किस हाल में परीक्षा दे रहे हैं। 

मदरसा शिक्षा परिषद की परीक्षाओं का एक दुखद और शर्मनाक पहलू ये रहा कि बड़ी संख्या में परीक्षार्थी नदारद रहे । उपस्थिति का प्रतिशत बहुत कम और अनुपस्थित रहने वालों की संख्या बहुत अधिक रही । एक दृश्य यह है कि एक  कमरा जिसमें सिर्फ़ 2 बच्चे मदरसा शिक्षा परिषद की परीक्षा दे रहे हैं, जबकि  इस कमरे में दर्ज 24 परीक्षार्थियों में से 22 अनुपस्थित हैं । सिर्फ़ एक सीनियर सेकेंडरी और एक कामिल (1)फारसी  का उपस्थित है। दोनों ही परीक्षार्थी ज़मीन यानि दरी पर बैठ कर परीक्षा दे रहे हैं। इस एक छात्र के पास कापी के नीचे रखने के लिए भी कुछ नहीं है। इसलिए वह कभी दरी पर रखकर लिखता है तो कभी पैरों पर रखकर।

परीक्षाएं समाप्त हो गई हैं मगर दुर्दशा और शर्मनाक स्थिति ने अनेक सवाल खड़े कर दिए हैं। कि उफ़! इतनी शर्मनाक हालत का ज़िम्मेदार कौन है-? इस बेशर्मी के दौर में शर्म किसको आएगी -? और कौन शर्माएगा-? और कौन इस हालत में सुधार कराएगा-?

उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद या मदरसा अध्यापक या मोटी मोटी रकम लेकर फार्म भरवाने वाले या फिर अल्पसंख्यक कल्याण विभाग या खुद बेचारे लाखों करोड़ों परीक्षार्थी-? किस के दिल में उतरेगी यह दुर्दशा-?

मगर मेरी हालत तो यह है :-

ज़मीं की आख़िरी तह में उतर जाने को जी चाहा ,

कुछ ऐसी हालत थी उनकी, के मर जाने को जी चाहा ।

Popular posts from this blog

भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा-गादरे

मेरठ:-भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा। Raju Gadre राजुद्दीन गादरे सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता ने भारतीयों में पनप रही द्वेषपूर्ण व्यवहार आपसी सौहार्द पर अफसोस जाहिर किया और अपने वक्तव्य में कहा कि देश की जनता को गुमराह कर देश की जीडीपी खत्म कर दी गई रोजगार खत्म कर दिये  महंगाई बढ़ा दी शिक्षा से दूर कर पाखंडवाद अंधविश्वास बढ़ाया जा रहा है। षड्यंत्रकारियो की क्रोनोलोजी को समझें कि हिंदुत्व शब्द का सम्बन्ध हिन्दू धर्म या हिन्दुओं से नहीं है। लेकिन षड्यंत्रकारी बदमाशी करते हैं। जैसे ही आप हिंदुत्व की राजनीति की पोल खोलना शुरू करते हैं यह लोग हल्ला मचाने लगते हैं कि तुम्हें सारी बुराइयां हिन्दुओं में दिखाई देती हैं? तुममें दम है तो मुसलमानों के खिलाफ़ लिख कर दिखाओ ! जबकि यह शोर बिलकुल फर्ज़ी है। जो हिंदुत्व की राजनीति को समझ रहा है, दूसरों को उसके बारे में समझा रहा है, वह हिन्दुओं का विरोध बिलकुल नहीं कर रहा है ना ही वह यह कह रहा है कि हिन्दू खराब होते है और मुसलमान ईसाई सिक्ख बौद्ध अच्छे होते हैं! हिंदुत्व एक राजनैतिक शब्द है ! हिं

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

ज़मीनी विवाद में पत्रकार पर 10 लाख रंगदारी का झूठे मुकदमें के विरुद्ध एस एस पी से लगाई जाचं की गुहार

हम करेंगे समाधान" के लिए बरेली से रफी मंसूरी की रिपोर्ट बरेली :- यह कोई नया मामला नहीं है पत्रकारों पर आरोप लगना एक परपंरा सी बन चुकी है कभी राजनैतिक दबाव या पत्रकारों की आपस की खटास के चलते इस तरह के फर्जी मुकदमों मे पत्रकार दागदार और भेंट चढ़ते रहें हैं।  ताजा मामला   बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान पत्रकार का है जो विभिन्न समाचार पत्रों से जुड़े हैं उन पर रंगदारी मांगने का मुक़दमा दर्ज कर दिया गया है। इस तरह के बिना जाचं करें फर्जी मुकदमों से तो साफ ज़ाहिर हो रहा है कि चौथा स्तंभ कहें जाने वाले पत्रकारों का वजूद बेबुनियाद और सिर्फ नाम का रह गया है यही वजह है भूमाफियाओं से अपनी ज़मीन बचाने के लिए एक पत्रकार व दो अन्य प्लाटों के मालिकों को दबाव में लेने के लिए फर्जी रगंदारी के मुकदमे मे फसांकर ज़मीन हड़पने का मामला बरेली के थाना बारादरी से सामने आया हैं बताते चले कि बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान के मुताबिक उनका एक प्लाट थाना बारादरी क्षेत्र के रोहली टोला मे हैं उन्हीं के प्लाट के बराबर इमरान व नयाब खां उर्फ निम्मा का भी प्लाट हैं इसी प्लाट के बिल्कुल सामन