Skip to main content

मुसलमान" देश का, वो चारा है जिसे कांटे में फंसाकर षडयंत्रकारी भारत के Sc, St, Obc अल्पसंख्यको का शिकार करते है, Sc, St, Obc अल्पसंख्यक जितनी जल्दी जागो, नही तो सत्यानाश--गादरे

मेरठ:-मुसलमान देश का, वो चारा है जिसे कांटे में फंसाकर BJP-RSS के ब्राह्मण भारत के Sc, St, Obc का शिकार करते है, इस बात को देश का Sc, St, Obc जितनी जल्दी समझेगा,  Sc, St, Obc के लिए उतना ही अच्छा होगा।

 बहुजन मुक्ति पार्टी के क्रन्तिकारी आर डी गादरे ने अपने वक्तव्य भारत देश के नागरिको से सीधे जन जाग्रति करते हुए कहा कि आज हिन्दू मुस्लिम के षड्यंत्र की राजनीति करने वालो ने देश की आर्थिक स्थिति रीड की हड्डी तोडने का काम कर रहे हैं। देश को लूटने वाले देश और संविधान के दुश्मनो से जंग लडो बेईमानो से व्रण आने वली नस्ले गुलाम पैदा होंगी। 

कोई बताये की जाट समाज ने आरक्षण माँगा था हरियाणे में तो उसके खिलाफ कोई मुसलमान खड़ा नहीं हुआ था।

जब गुजरात मे पटेलों ने आरक्षण आंदोलन चलाया था तब किसी मुसलमान ने विरोध नहीं किया था।

जब राजस्थान के गुर्जरों ने आरक्षण को लेकर आंदोलन किया तो कहाँ मुसलमान विरोध में उतरे थे?

जब 2 अप्रैल को एससी/एसटी के लोग एट्रोसिटी एक्ट को लेकर भारत बंद कर रहे थे तब मुस्लमानों ने कौनसे चौक-चौराहों पर आकर विरोध किया था?

जब किसान 13 महीने तक दिल्ली के बॉर्डर पर सड़कों पर लड़ रहा तब मुसलमान पत्थर फेंकने नहीं आये थे बल्कि आसपास की मस्जिदें आशियाने के लिए खोल दी थी,वेज बिरयानी,शर्बत के साथ सहयोग कर रहे थे।

जब आदिवासी लोग जल-जंगल-जमीन बचाने की स्थानीय लड़ाई से आजिज आकर जंतर-मंतर पर आए तो उनके खिलाफ कौनसा मुसलमान विरोध कर रहा था?

ये एससी/एसटी/ओबीसी/किसानों के बच्चों के दिमाग मे इतना जहर किसने भर दिया कि इनके युवा बूढ़े  माँ-बाप की सेवा करने के बजाय मुसलमानों को बर्बाद करके फर्जी धर्म को खतरे से बाहर निकालने में व्यस्त है?

जब जाटों ने हरियाणे में आरक्षण आंदोलन की लड़ाई लड़ी,गुज्जरों ने राजस्थान में लड़ी,पटेलों ने गुजरात मे लड़ी,लिंगायतों ने कर्नाटक में लड़ी,कापुओं ने आंध्रा में लड़ी,किसानों ने दिल्ली के खिलाफ लड़ी तब आपको गालियां कौन दे रहा था?आपको सबक दिखाने को कौन आतुर हो रहा था?

इन हिंदुत्ववादी लंपटों का निशाना सिर्फ मुस्लिम नहीं है,मुस्लिमों पर ध्यान केंद्रित करके ओबीसी/एससी/एसटी व किसानों के बच्चों का उपयोग करके देश लूटना है!

ये किसानों के बच्चे,ओबीसी/एससी/एसटी के बच्चे इनके फर्जी धर्म के धर्मवाहक कैसे बन गए इस पर गौर करिये।इन बच्चों से पूछिए तेरा बाप खेती करके अपना हक हासिल नहीं कर पा रहा!तेरा बाप मजदूरी करके आधी दिहाड़ी लेकर आ रहा है!

तुम अपने दादा-दादी का इलाज करवाने के काबिल नहीं हो इसलिए अस्पतालों से LAMA लेकर निकल रहे हो!

तुम अपने बच्चों को बेहतर शिक्षा देने में नाक़ाबिल हो इसलिए भजन संध्याओं-कथाओं में जाकर मनोरंजन कर रहे हो!

याद रखो आज मुस्लिम निशाने पर है।वो अपने बच्चों को मजबूरी में ही सही लेकिन रास्ते पर धकेल देगा।संघर्ष के बीच से रास्ता ढूंढ लेगा लेकिन तुम सोचो इतनी बड़ी युवा तादात को कहां सेटल करोगे जिनको दिमागी तौर पर पैदल कर दिया गया है?

नफरत कभी किसी का घर नहीं बसाती है, बल्कि बर्बादी और तबाही के रास्ते लाकर छोड़ देती है। जिसका जीता जगत आइना आज श्री लंका देश है। जागो मूलनिवासी!

Popular posts from this blog

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु

सरधना विधानसभा से ए आई एम आई एम के भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने किया बड़ा ऐलान अब मुसलमान अपमानित नहीं होगा क्योंकि आ गई है उनकी पार्टी

खलील शाह/ साबिर सलमानी की रिपोर्ट  ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन की नेशनल पब्लिक स्कूल लश्कर गंज बाजार सरधना में आयोजित बैठक में भावी प्रत्याशी हाजी आस मौहम्मद ने कहा कि ए आई एम आई एम पार्टी सरधना विधानसभा क्षेत्र में शोषित,वंचित और मुसलमानों को उनके अधिकार दिलाने के लिए आई है। आज भी सरधना विधानसभा क्षेत्र पिछड़ा हुआ है। राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी साहब ने उत्तर प्रदेश के शोषित और वंचित समाज को इंसाफ दिलाने का बीड़ा उठाया है। ए आई एम आई एम पार्टी ने मुसलमानों को दरी बिछाने वाला से टिकट बांटने वाला बनाने का बीड़ा उठाया है। जिस प्रकार आज सपा के मंचों पर मुसलमानों को अपमानित किया जा रहा है उसका बदला ए आई एम आई एम को वोट देकर सत्ता में हिस्सेदारी लेकर लेना होगा। हाजी आस मोहम्मद ने कहा कि उनके भाई हाजी अमीरुद्दीन ने तमाम उम्र समाजवादी पार्टी को आगे बढ़ाने में गुजार दी और जब किसी बीमारी की वजह से उनका इंतकाल हुआ तो समाजवादी पार्टी का कोई नुमाइंदा भी उनके परिवार की खबर गिरी करने नहीं आया । आजादी से लेकर आज तक मुस्लिम समाज सेकुलर दलों को अपना वोट देता आ रहा है लेकिन उसके बदले मे