Skip to main content

दरगाह आले रसूल, खानकाहे वामिकिया निशातिया में 77 वें उर्से आले रसूल के आखरी दिन उमड़ा अकीदतमंदों का सैलाब, दुआ को उठे हाथ, हुई कुल की रस्म अदा,

 दरगाह आले रसूल, खानकाहे वामिकिया निशातिया में 77 वें उर्से आले रसूल के आखरी दिन उमड़ा अकीदतमंदों का सैलाब, दुआ को उठे हाथ, हुई कुल की रस्म अदा, 

बरेली से मुस्तकीम मंसूरी की रिपोर्ट, 

समाज से बुराइयों का खात्मा करें, समाज को मजबूत करके मुल्क को मजबूत करें और आपस में मिलजुल कर रहे, बदरे तरीकत मौलाना सय्यद असलम मियाँ वामिकी

बरेली,दरगाह आले रसूल, खानकाहे वामिकिया निशातिया में आज तीसरे दिन कुल की शुरुआत सुबह नौ बजे हाफिज मुजाहिद वमिकी तिलावत से हुई इस के बाद कमाले निशात वमिकी, जीशान वामिकी ने नातोमंकबत का नजराना पेश किया।

बदरे तरीकत मौलाना सय्यद असलम मियाँ वामिकी ने जायरीन को नसीहत करते हुये कहा पैगंबरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैही वसल्लम के बताए हुए रास्ते पर अमल करते हुए दरगाहों और खानकाहों में सूफियों ने लोगों की हाजत रवाई करना और भूखों को खाना खिलाना इंसानियत के तकाजे के मुताबिक समझा और समाज के लोगों के अंदर इस जज्बे के पैदा करने के लिए समाज के अंदर आपसी एकता को बहाल किया। 


  सूफियों ने अपने कहने और करने से समाजी रवादारी को बहाल करने में बहुत बड़ा किरदार अदा किया हिंदुस्तान के बहुत बड़े सूफी हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती अजमेरी ने फरमाया बेकसों की फरियाद को पहुंचना मोहताजों की हाजत रवाई करना और भूखे को खाना खिलाना बेहतरीन इबादत है चिश्ती सिलसिले के सूफियों ने इस शिक्षा पर बहुत ज्यादा जोर दिया और हजरत वामिक मियां रहमतुल्लाह अलैह ने पूरी जिंदगी इस पर मुकम्मल तरीके  से अमल किया।   खुसूसी खिताब में डा0 महमूद हुसैन प्रोफेसर बरेली कालेज ने कहा के खानकाह इसलिए बनाई  गई कि मस्जिदों में सिर्फ मुसलमान ही जा सकते हैं दूसरे मजहब के मानने वाले नहीं, मंदिर में सिर्फ हिंदू जा सकते हैं दूसरे मजहब वाले नहीं, गुरुद्वारों में सिर्फ सिख धर्म के, चर्च में सिर्फ ईसाई गोया के कोई भी एक दुसरे की इबादत गाहों में नही जाना चाहता था अब एक ऐसी जगह की जरूरत थी जहां हिंदू और मुसलमान और और सिख और इसाई यह सब लोग एक जगह बैठ कर हिंदुस्तानी समाज से बुराइयों का खात्मा करें यहां के समाज को मजबूत करके मुल्क को मजबूत करें और आपस में मिलजुल कर रहें इसलिए सूफी संतों ने खानकाहें काईम कीं जहां जात-पात, ऊंच-नीच, दीन, धर्म रंग, काला गोरा, मालदार, शहरी देहाती वगैरा होने की वहां कोई पाबंदी नहीं है तो जहां पर यह सारे मामलात होते हैं उसको खानकाह कहते हैं।

 इस के बाद मेहमाने खुसूसी मुफ्ती फईम सकलैनी अजहरी ककराला ने अपनी तकरीर में कहा हजरत ख्वाजा गरीब नवाज अजमेरी के खलीफा हजरत सूफी हमीदुद्दीन नागोरी रहमतुल्ला जब नागौर पहुंचे तो वहां जैन धर्म के मानने वाले ज्यादा रहते थे और सब लोग जानते हैं कि जैनी गोश्त खाने से बहुत परहेज करते हैं हजरत सूफी हमीदुद्दीन ने जैनियों को तकलीफ ना पहुंचे इस वजह से गोश्त खानकाह में पकाने से मना कर दिया और आपने वसीयत की के जैसे मेरी जिंदगी में मेरी खानकाह के लंगर में गोश्त वगैरह नहीं पकाया जाता है मेरे मरने के बाद भी यहां की फातिहा में गोश्त को शामिल ना किया जाए। जिस पर दरगाह कमेटी नागौर के लोग आज तक कार्य बंद है इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि किसी के दिल को ठेस ना पहुंचे इसके लिए सूफी कुछ भी कर सकते हैं।

इस के बाद ठीक 1 बजे कुल शरीफ की रस्म अदा हुई जिस में साहिबे सज्जादा बदरे तरीकत मौलाना सय्यद असलम मियाँ वामिकी ने शजरा शरीफ पढ़ा और हाजरीन, मुहिब्बीन और शहर व मुल्क्क की तरक्की के लिए दुआ की इस के बाद कव्वाल हजरात ने रवाएती चश्ती रंग पेश किया बदहू लंगरे आम जरी हुआ 


 मीडिया प्रभारी जावेद कुरैशी ने बताया इस साल उर्से आले रसूल में खुसूसी शिरकत दरगाह मखदूम सबिर पाक (कलियर शरीफ) के सज्जादा नशीन यावर मियां सबरी की रही। 

सारी जिम्मेदारी वामिकिया एजुकेशनल एंड वेलफेयर सोसायटी के तत्वाधान में रही है जिस में खासतौर पर डा0 महमूद हुसैन वामिकी, जफर बेग, हाफिज अलाउद्ीदीन, फरहान चिश्ती, उस्मान चमन, सय्यद चाँद मियाँ, मीराज सबरी, कारी यासीन, मुस्तजब मालिक, आरिफ मालिक, मासूम वामिकी, सफी वामिकी, हाजी मुख्तियार प्रधान, शोकत वामिकी, कबीर वामिकी, जमीर अहमद वामिकी, सरफराज वामिकी, सय्यद कासिम अली, हाजी चंद बाबू, अकरम खान वामिकी, कमाले निशात वामिकी, सय्यद हसनैन वामिकी, फिरोज वामिकी, उसमान चमन, मसद वमिकी, सरताज, सय्यद चाँद मियां, हाफिज मुजाहिद वामिकी, सय्यद जहाँगीर अशरफ वामिकी, सरताज कैन्ट, अयाज हुसैन वामिकी, मुकीम वामिकी, सलीम वामिकी, निराले वामिकी, मसद वामिकी, अजहर खां वामिकी, जहीर वामिकी, हाफिज अफजाल वामिकी, नबी अहमद वामिकी, सय्यद जीशान वामिकी, सय्यद सलमान वामिकी, सय्यद अरमान वामिकी शब्लू वामिकी, शानू अथर वामिकी, अफशां वामिकी, अब्दुल हक वामिकी, गुलजार, जमीर वामिकी, कबीर वामिकी, शमशाद, आरिफ मालिक, वसीम, इरशाद, छोटे जाकिर चच्चा आदि का सहयोग रहा।

Popular posts from this blog

थाना अमरिया पुलिस द्वारा 04 अभियुक्तों को 68 किलोग्राम डोडा पोस्ता व डोडा चूरा सहित किया गिरफ्तार

 पीलीभीत के थाना अमरिया में आज दिनांक 05.09.2022 को थाना अमरिया जनपद पीलीभीत पुलिस द्वारा पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार प्रभु जनपद पीलीभीत के निर्देशन में व  अपर पुलिस अधीक्षक महोदय जनपद पीलीभीत व क्षेत्राधिकारी सदर महोदय जनपद पीलीभीत के कुशल नेतृत्व में अपराधियों के विरुद्ध जनपद में मादक पदार्थ व जहरीली शराब की तस्करी व रोकथाम हेतु चलाये जा रहे अभियान के तहत  थाना अमरिया पुलिस द्वारा 02 अभियुक्तगणों 1.महेश कुमार गुप्ता पुत्र ओमप्रकाश निवासी कस्बा व थाना अमरिया जनपद पीलीभीत व  2.रवि गुप्ता पुत्र महेश गुप्ता निवासी कस्बा व थाना अमरिया जनपद पीलीभीत को उनके घर के पास से गिरफ्तार किया गया तथा इनके कब्जे से मादक पदार्थ 31 किलोग्राम ( डोडा पोस्ता व डोडा चूरा ) बरामद हुआ गिरफ्तार किए गये अभियुक्तगणों से गहनता से पूछताछ के दौरान उन्होनों बरामद मादक पदार्थों को  अभियुक्त प्रमोद गुप्ता पुत्र मटरु लाल निवासी ग्राम देवचरा थाना भमौरा जनपद बरेली व अभियुक्त विनोद कुमार गुप्ता पुत्र मटरु लाल निवासी ग्राम देवचरा थाना भमौरा जनपद बरेली से खरीद कर लाना बताया इस पूछताछ के दौरान प्रकाश में आये अभियुक्त प्रमोद

*बहुजन मुक्ति पार्टी की राष्ट्रीय स्तर जनरल बॉडी बैठक मे बड़े स्तर पर फेरबदल प्रवेंद्र प्रताप राष्ट्रीय महासचिव आदि को 6 साल के लिए निष्कासित*

*(31 प्रदेश स्तरीय कमेटी भंग नये सिरे से 3 महिने मे होगा गठन)* नई दिल्ली:-बहुजन मुक्ति पार्टी राष्ट्रीय जनरल बॉडी की मीटिंग गड़वाल भवन पंचकुइया रोड़ नई दिल्ली में संपन्न हुई।  बहुजन मुक्ति पार्टी मीटिंग की अध्यक्षता  मा०वी०एल० मातंग साहब राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन मुक्ति  पार्टी ने की और संचालन राष्ट्रीय महासचिव माननीय बालासाहेब पाटिल ने किया।  बहुजन मुक्ति पार्टी की जनरल ढांचे की बुलाई मीटिंग में पुरानी बॉडी में फेर बदल किया गया। मा वी एल मातंग ने स्वयं एलान किया की खुद स्वेच्छा से बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहे हैं राजनीती से सन्यास और राष्ट्रीय स्तर पर बामसेफ प्रचारक का कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय स्तर की जर्नल बॉडी की बैठक मे सर्व सम्मत्ती से राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष जे एस कश्यप को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर चुना गया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के लिए मा वैकटेस लांमबाड़ा, मा हिरजीभाई सम्राट, डी राम देसाई, राष्ट्रीय महासचिव के पद पर मा बालासाहब मिसाल पाटिल, मा डॉ एस अकमल, माननीय एडवोकेट आयुष्मति सुमिता पाटिल, माननीय एडवोकेट नरेश कुमार,

*पिछड़ों अति पिछड़ों शूद्रों अछूतों तथाकथित जाति धर्म से आजादी की चाबी बाबा साहब का भारतीय संविधान-गादरे*

(हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और  भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें--गादरे)* मेरठ:--बाबा ज्योति बा फुले और बाबा भीमराव अंबेडकर भारत रत्न ही नहीं विश्व रतन की जयंती पर हमें शपथ लेनी होगी की हिन्दू-मुस्लिम के षड्यंत्रकारियो के जाल और कैद खाने से sc obc st minorities जंग लडो बेईमानो से मूल निवासी हो बाबा फुले और भीमराव अम्बेडकर के सपनो को साकार करें। बहुजन मुक्ति पार्टी के आर डी गादरे ने महात्मा ज्योतिबा फुले और भारत रत्न डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर समस्त मूल निवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया कि आज हम कुछ विदेशी षड्यंत्र कार्यों यहूदियों पूंजीपतियों अवसर वादियों फासीवादी लोगों के चंगुल से निकलने के लिए एक आजादी की लडाई लरनी होगी। आज भी आजाद होते हुए फंसे हुए हैं। डॉक्टर बाबा भीमराव अंबेडकर के लोकतंत्र और भारतीय संविधान को अपने हाथों से दुश्मन के चंगुल में परिस्थितियों को समझें। sc obc st MINORITIES खुद सर्वनाश करने पर लगे हुए हैं और आने वाली नस्लों को गु