Skip to main content

देश को अगला दलित प्रधानमंत्री के रूप में क्या कांग्रेस कर सकती है मल्लिका अर्जुन खडगे के नाम का ऐलान?

 


   वरिष्ठ पत्रकार मुस्तकीम मंसूरी की कलम से|


लखनऊ, वर्तमान परिदृश्य में देश की राजनीति में विपक्ष की भूमिका लगभग समाप्त होती नजर आ रही थी| सड़क से लेकर संसद तक समूचा विपक्ष शून्य नज़र आ रहा था| प्रचंड बहुमत के नशे में मदहोश सत्ता पक्ष के लोग संविधान और लोकतंत्र की अस्मत से खिलवाड़ करते हुए मनमाने फैसले ले रहे थे, ऐसे में लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहे जाने वाला मीडिया तंत्र भी सरकार के सुर में सुर मिला कर विपक्ष की आवाज को जनता तक पहुंचाने के बजाय उसे दबाने का काम कर रहा था| ऐसी विषम परिस्थितियों में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा कश्मीर से कन्याकुमारी तक पैदल यात्रा करके सीधे जनता से संवाद करने का जो निर्णय लिया| उसने जहां विपक्षी दलों को ऊर्जा पहुंचाने का काम किया| वही कश्मीर से कन्याकुमारी तक राहुल गांधी के जनता से सीधे संवाद से जहां भाजपा परेशान थी| वही हर जगह एक जनसैलाब राहुल गांधी के साथ राहुल गांधी की पैदल यात्रा में उमड़ रहा था| भाजपा के लिए सबसे परेशान करने वाली बात भाजपा शासित राज्यों में राहुल गांधी को मिलने वाला समर्थन भाजपा और उसके रणनीतिकारों की चिंताएं लगातार बढ़ा रहा था| ऐसे में आज से रायपुर में शुरू हुए तीन दिवसीय कांग्रेस के महा अधिवेशन में हिमाचल के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू द्वारा यह स्पष्ट कर देना इस बार गांधी परिवार से प्रधानमंत्री पद का कोई दावेदार नहीं है| वही दूसरी ओर बिहार के पूर्णिया में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा महागठबंधन की रैली में साफ तौर पर यह कहना की वह (नीतीश कुमार) प्रधानमंत्री की दौड़ में नहीं है| अब कांग्रेस को साफ करना होगा,इस देश का अगला प्रधानमंत्री कौन होगा| जो विपक्ष को स्वीकार्य हो अब सवाल यह उठता है| कि भाजपा की उम्मीदों के विपरीत रायपुर अधिवेशन में इस बात का ऐलान होना कि गांधी परिवार से कोई भी प्रधानमंत्री पद का दावेदार नहीं है| जबकि प्रधानमंत्री  के 2024 के चुनाव में राहुल बनाम मोदी का सपना संजोए 85% दलित वोट बैंक को लाभार्थी चेतना के माध्यम से भाजपा के पक्ष में करने का प्रयास कर रहे, प्रधानमंत्री के प्रयासों को असफल करने के लिए अब कांग्रेस की ओर से दलित प्रधानमंत्री के रूप में वर्तमान कांग्रेस अध्यक्ष मलिकार्जुन खड़गे के नाम का ऐलान कर सकती है?अब सवाल यह उठता है कि सन् 1977 जनता पार्टी की सरकार के समय में देश को दलित प्रधानमंत्री के रूप में बाबू जगजीवन राम मिल सकते थे| परंतु उस समय जनसंघ(जो अब बीजेपी) जिसके 98 सांसद जीत कर आए थे, उसके विरोध के कारण देश में दलित प्रधानमंत्री बनते बनते रह गया था| जिसके बाद सामाजिक परिवर्तन के नायक मान्यवर कांशीराम जी ने दलित चेतना को जागृत करने के लिए जो संघर्ष कर दलितों में सत्ता की भूख पैदा करने का जो कार्य किया था| उसी के दम पर मायावती उत्तर प्रदेश में 4 बार मुख्यमंत्री बनी परंतु सामाजिक आंदोलन के जनक मान्यवर कांशीराम के मिशन से जब मायावती भटकी तब सत्ता तो हाथ से गई,और दलित वोट भी मायावती से खिसक गया| गौरतलब है आजादी के बाद से कांग्रेस के पक्ष में दलित पिछड़ा और अल्पसंख्यक वर्ग जब तक साथ रहा कांग्रेस बहुमत के साथ सत्ता में बनी रही| परंतु जैसे ही दलित और अल्पसंख्यक कांग्रेस से अलग हुआ| भाजपा का वर्चस्व बढ़ता गया|भाजपा के स्वर्ण वोट के साथ ही दलित और पिछड़ा वर्ग भाजपा के साथ आया तो समूचा विपक्ष हाशिए पर पहुंच गया| अब ऐसा लगता है| जैसे कांग्रेस और समूचे विपक्ष को अपनी गलतियों का एहसास हो गया है| यही कारण है,कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सबसे पहले अपने आप को प्रधानमंत्री की दौड़ से अलग कर भाजपा को सत्ता से बेदखल करने का मानो ऐलान कर दिया,वही दूसरी ओर कांग्रेस के महा अधिवेशन के पहले दिन आज रायपुर में भी हिमाचल के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खा द्वारा अधिवेशन में यह कहना कि गांधी परिवार से प्रधानमंत्री की दौड़ में कोई नहीं है| यह इस बात का इशारा है कि कांग्रेस की ओर से प्रधानमंत्री पद का नाम जो घोषित किया जाएगा,वह मलिकार्जुन खड़गे का ही हो सकता है?अगर कांग्रेस 2024 के लिए मल्लिका अर्जुन खड़के को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करती है| तो समूचे विपक्ष को प्रधानमंत्री पद के दावेदार के रूप में मलिकार्जुन खड़गे का नाम स्वीकार्य होगा| अगर ऐसा होता है,तो अंबेडकर वादियों के साथ ही बाबू जगजीवन राम के समर्थक और सामाजिक परिवर्तन के जनक मान्यवर कांशीराम के सपनों को साकार करने के लिए देश का 85% वर्ग जिसमें दलित,पिछड़ा,और अल्पसंख्यक वर्ग के साथ ही समूचा विपक्ष देश में सामाजिक परिवर्तन का एक नया इतिहास रचेगा|

Popular posts from this blog

भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा-गादरे

मेरठ:-भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा। Raju Gadre राजुद्दीन गादरे सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता ने भारतीयों में पनप रही द्वेषपूर्ण व्यवहार आपसी सौहार्द पर अफसोस जाहिर किया और अपने वक्तव्य में कहा कि देश की जनता को गुमराह कर देश की जीडीपी खत्म कर दी गई रोजगार खत्म कर दिये  महंगाई बढ़ा दी शिक्षा से दूर कर पाखंडवाद अंधविश्वास बढ़ाया जा रहा है। षड्यंत्रकारियो की क्रोनोलोजी को समझें कि हिंदुत्व शब्द का सम्बन्ध हिन्दू धर्म या हिन्दुओं से नहीं है। लेकिन षड्यंत्रकारी बदमाशी करते हैं। जैसे ही आप हिंदुत्व की राजनीति की पोल खोलना शुरू करते हैं यह लोग हल्ला मचाने लगते हैं कि तुम्हें सारी बुराइयां हिन्दुओं में दिखाई देती हैं? तुममें दम है तो मुसलमानों के खिलाफ़ लिख कर दिखाओ ! जबकि यह शोर बिलकुल फर्ज़ी है। जो हिंदुत्व की राजनीति को समझ रहा है, दूसरों को उसके बारे में समझा रहा है, वह हिन्दुओं का विरोध बिलकुल नहीं कर रहा है ना ही वह यह कह रहा है कि हिन्दू खराब होते है और मुसलमान ईसाई सिक्ख बौद्ध अच्छे होते हैं! हिंदुत्व एक राजनैतिक शब्द है ! हिं

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन

 महेश्वरी देवी की रिपोर्ट  खबर बहेड़ी से  है, आज दिनांक 31 मार्च 2024 को समाजवादी पार्टी द्वारा एक बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन मधुर मिलन बारात घर बहेड़ी में संपन्न हुआ। जिसमें मुख्य अतिथि लोकसभा पीलीभीत प्रत्याशी  भगवत सरन गंगवार   रहे तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश महासचिव स्टार प्रचारक विधायक (पूर्व मंत्री )  अताउर रहमान  ने की , कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए  अता उर रहमान  ने कहा की प्रदेश में महंगाई बेरोजगारी चरम पर है और किसान बेतहाशा परेशान है उनके गन्ने का भुगतान समय पर न होने के कारण आत्महत्या करने को मजबूर हैं। उन्होंने मुस्लिम भाइयों को संबोधित करते हुए कहा की सभी लोग एकजुट होकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार को हटाकर एक सुशासन वाली सरकार (इंडिया गठबंधन की सरकार) बनाने का काम करें और भगवत सरन गंगवार को बहेड़ी विधानसभा से भारी मतों से जिताकर माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी के हाथों को मजबूत करें | रहमान जी ने अपने सभी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारी से कहा कि वह ज्यादा से ज्यादा इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी को वोट डलवाने का काम करें और यहां से भगवत सरन गंगवार को भ