Skip to main content

पंचतत्व में विलीन हुए डॉ बिंदेश्वर पाठक को पब्लिक पोलिटिकल पार्टी ने अर्पित की शोक श्रद्धांजलि

सवर्ण समाज के प्रतिनिधि और समाज सेवी स्वर्गीय डॉ. बिदेश्वर पाठक को दिया जाए भारत रत्न सम्मान : पब्लिक पोलिटिकल पार्टी 

नई दिल्ली (अनवार अहमद नूर)

राष्ट्रहित और सवर्ण समाज की पब्लिक पोलिटिकल पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्षा श्रीमती दीपमाला श्रीवास्तव ने डॉ बिंदेश्वर पाठक को नमन करते हुए शोक श्रृद्धांजलि अर्पित की और कहा कि ये बड़ा दुखद है कि अब हमारे बीच डॉ. बिंदेश्वर पाठक नहीं रहे। पूरी दुनिया में सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक और समाज सेवी के रूप में जाने पहचाने जाने वाले डॉ. बिंदेश्वर पाठक के पंचतत्व में विलीन होने और हमारे बीच नहीं रहने पर पब्लिक पोलिटिकल पार्टी उन्हें नमन करते हुए शोक श्रृद्धांजलि अर्पित करती है।


पब्लिक पोलिटिकल पार्टी के राष्ट्रीय कार्यालय में हुई शोक सभा में डॉ बिंदेश्वर पाठक को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि दी गई।

श्रीमती दीपमाला श्रीवास्तव ने कहा कि ये नियति का विधान है हम सभी को एक दिन इस नश्वर शरीर का त्याग करना है। लेकिन  

डॉ. बिंदेश्वर पाठक ने जिस तरह मानव सेवा और भलाई के कार्य किए उन्हें सदैव याद रखा जाएगा। उन्हें हम कभी नहीं भुला सकते। हम सभी उन्हें अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए नमन करते हैं। और पब्लिक पोलिटिकल पार्टी उनके कार्यों को देखते हुए उन्हें भारत रत्न दिए जाने की मांग करती है। क्योंकि स्वर्गीय डॉ. बिंदेश्वर पाठक ने अपने कार्यों से मानव सेवा का ऐसा इतिहास रचा है जो स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा। 

उन्होंने बताया कि डॉ. बिंदेश्वर पाठक ने वर्ष 1970 में सुलभ इंटरनेशनल सोशल सर्विस ऑर्गनाइजेशन की स्थापना की थी। वर्ष 1991 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। डॉक्टर पाठक द्वारा स्थापित शौचालय संग्रहालय को टाइम पत्रिका ने दुनिया के दस सर्वाधिक अनूठे संग्रहालय में स्थान दिया।

पद्म भूषण से अलंकृत 80 वर्षीय डॉ. पाठक जब स्वतंत्रता दिवस की सुबह सुलभ इंटरनेशनल के केंद्रीय कार्यालय में ध्वजारोहण कर रहे थे तभी अचानक उनकी तबीयत बिगड़ी और उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया था जहां उनका निधन हो गया।

डॉ. पाठक सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक के साथ-साथ टॉयलेट मैन के नाम से भी चर्चित एवं प्रसिद्ध रहे। डॉ. बिंदेश्वर पाठक को सिर पर मैला ढोने की कुप्रथा को ख़त्म करने के लिए भी जाना जाता है। वह विधवा महिलाओं को प्रताड़ित किए जाने के ख़िलाफ़ भी आवाज उठाते रहे और उनके हितों के लिए संघर्ष किया। उनके कार्यों को विश्व स्तर पर सराहा गया। डॉ. बिंदेश्वर पाठक ने अपने सुलभ इंटरनेशनल सामाजिक संगठन के माध्यम से शिक्षा के द्वारा, मानव अधिकारों, पर्यावरण स्वच्छता, अपशिष्ट प्रबंधन और सुधारों को बढ़ावा देने के लिए काम किया। उन्होंने खुले में शौच करने के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ी और सफलता प्राप्त की।

सवर्ण समाज के प्रतिनिधि डॉ. बिदेश्वर पाठक का जन्म बिहार के वैशाली ज़िला स्थित रामपुर बघेल गांव में एक सवर्ण परिवार में हुआ था।  उन्होंने पटना के बीएन कॉलेज से समाज शास्त्र से ग्रेजुएशन किया। सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक डॉ. पाठक मानवीय सेवा से ओतप्रोत थे। पिछले 50 वर्षों में उन्होंने हाथ से मैला ढोने वालों के मानवाधिकारों के लिए काम किया। पूरे भारत में बिंदेश्वर पाठक के सुलभ इंटरनेशनल के करीब 45 हज़ार वालंटियर्स हैं। डॉ. बिंदेश्वर पाठक ने वर्ष 1970 में सुलभ इंटरनेशनल सोशल सर्विस ऑर्गनाइजेशन की स्थापना की थी। वर्ष 1991 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। डॉक्टर पाठक द्वारा स्थापित शौचालय संग्रहालय को टाइम पत्रिका ने दुनिया के 10 सर्वाधिक अनूठे संग्रहालय में स्थान दिया गया। देशभर में सुलभ इंटरनेशनल के करीब 8500 शौचालय और स्नानघर हैं। सुलभ इंटरनेशनल के शौचालय के प्रयोग के लिए 5 रुपये और स्नान के लिए 10 रुपये लिए जाते हैं, जबकि कई जगहों पर इन्हें सामुदायिक प्रयोग के लिए मुफ़्त भी रखा गया है। 

पब्लिक पोलिटिकल पार्टी के संस्थापक लोकेश शीतांशु श्रीवास्तव ने कहा कि आज हमारे बीच से डॉ. बिंदेश्वर पाठक जैसे व्यक्तित्व का चले जाना हम सब के लिए अपूर्णीय क्षति है। उनके मानवीय सेवा के कार्य हमारे लिए अमूल्य और मार्गदर्शक हैं। हम उन्हें अपनी शोक श्रृद्धांजलि अर्पित करते हैं उन्हें कोटि कोटि प्रणाम करते हैं और हम अपनी पब्लिक पोलिटिकल पार्टी के माध्यम से डॉ. बिंदेश्वर पाठक को भारत रत्न दिए जाने की मांग करते हैं। भारत सरकार उन्हें शीघ्र सम्मानित करे। 

Popular posts from this blog

भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा-गादरे

मेरठ:-भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा। Raju Gadre राजुद्दीन गादरे सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता ने भारतीयों में पनप रही द्वेषपूर्ण व्यवहार आपसी सौहार्द पर अफसोस जाहिर किया और अपने वक्तव्य में कहा कि देश की जनता को गुमराह कर देश की जीडीपी खत्म कर दी गई रोजगार खत्म कर दिये  महंगाई बढ़ा दी शिक्षा से दूर कर पाखंडवाद अंधविश्वास बढ़ाया जा रहा है। षड्यंत्रकारियो की क्रोनोलोजी को समझें कि हिंदुत्व शब्द का सम्बन्ध हिन्दू धर्म या हिन्दुओं से नहीं है। लेकिन षड्यंत्रकारी बदमाशी करते हैं। जैसे ही आप हिंदुत्व की राजनीति की पोल खोलना शुरू करते हैं यह लोग हल्ला मचाने लगते हैं कि तुम्हें सारी बुराइयां हिन्दुओं में दिखाई देती हैं? तुममें दम है तो मुसलमानों के खिलाफ़ लिख कर दिखाओ ! जबकि यह शोर बिलकुल फर्ज़ी है। जो हिंदुत्व की राजनीति को समझ रहा है, दूसरों को उसके बारे में समझा रहा है, वह हिन्दुओं का विरोध बिलकुल नहीं कर रहा है ना ही वह यह कह रहा है कि हिन्दू खराब होते है और मुसलमान ईसाई सिक्ख बौद्ध अच्छे होते हैं! हिंदुत्व एक राजनैतिक शब्द है ! हिं

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

ज़मीनी विवाद में पत्रकार पर 10 लाख रंगदारी का झूठे मुकदमें के विरुद्ध एस एस पी से लगाई जाचं की गुहार

हम करेंगे समाधान" के लिए बरेली से रफी मंसूरी की रिपोर्ट बरेली :- यह कोई नया मामला नहीं है पत्रकारों पर आरोप लगना एक परपंरा सी बन चुकी है कभी राजनैतिक दबाव या पत्रकारों की आपस की खटास के चलते इस तरह के फर्जी मुकदमों मे पत्रकार दागदार और भेंट चढ़ते रहें हैं।  ताजा मामला   बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान पत्रकार का है जो विभिन्न समाचार पत्रों से जुड़े हैं उन पर रंगदारी मांगने का मुक़दमा दर्ज कर दिया गया है। इस तरह के बिना जाचं करें फर्जी मुकदमों से तो साफ ज़ाहिर हो रहा है कि चौथा स्तंभ कहें जाने वाले पत्रकारों का वजूद बेबुनियाद और सिर्फ नाम का रह गया है यही वजह है भूमाफियाओं से अपनी ज़मीन बचाने के लिए एक पत्रकार व दो अन्य प्लाटों के मालिकों को दबाव में लेने के लिए फर्जी रगंदारी के मुकदमे मे फसांकर ज़मीन हड़पने का मामला बरेली के थाना बारादरी से सामने आया हैं बताते चले कि बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान के मुताबिक उनका एक प्लाट थाना बारादरी क्षेत्र के रोहली टोला मे हैं उन्हीं के प्लाट के बराबर इमरान व नयाब खां उर्फ निम्मा का भी प्लाट हैं इसी प्लाट के बिल्कुल सामन