Skip to main content

पीआरबी एक्ट 1867 (प्रेस रजिस्ट्रेशन ऑफ बुक) सरकार द्वारा लागू किए जाने के विरोध में पत्रकार सुरक्षा महा समिति ने राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन,

 हम करेंगे समाधान के लिए बरेली से मालती गौतम की रिपोर्ट,

मीडिया का काम लोकतंत्र में जनतंत्र और कार्यपालिका और विधायिका के बीच सेतु बनकर कार्यपालिका और विधायिका को आईना दिखाना है।

बरेली केंद्र सरकार द्वारा पीआरबी (प्रेस रजिस्ट्रेशन ऑफ बुक) लागू की जाने के विरोध में पत्रकार सुरक्षा महासमिति के मंडल अध्यक्ष मोहम्मद रईस के नेतृत्व में एक ज्ञापन महामहिम राष्ट्रपति महोदय को जिलाधिकारी बरेली की अनुपस्थिति में उप जिलाधिकारी बरेली के माध्यम से प्रेषित किया गया है,


ज्ञापन देने वालों में मुख रुप से मोहम्मद रईस मंडल अध्यक्ष पत्रकार सुरक्षा महासमिति, मुस्तकीम मंसूरी यूपी प्रभारी बेताब समाचार एक्सप्रेस, इकबाल भारती संपादक हिंदी दैनिक राष्ट्रीय सभ्यता, रफी मंसूरी मंडल ब्यूरो चीफ बेताब समाचार एक्सप्रेस, नाजिश अली, नाजिम अली, मोहम्मद रफी, आज़म खांन, फैज़ान नियाज़ी, पत्रकार कुमारी नीरज सक्सेना, आदि की उपस्थिति में दिए गए ज्ञापन में मांग करते हुए 

कहा कि लोकतंत्र के चार स्तंभों-विधायिका, कार्यपालिका, न्यायपालिका और मीडिया, प्रत्येक स्तंभ को अपने क्षेत्र के भीतर कार्य करना चाहिए, लेकिन बड़ी तस्वीर को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। लोकतंत्र की ताकत प्रत्येक स्तंभ की ताकत और स्तंभ एक दूसरे के पूरक होने पर निर्भर करती है। परंतु देश के वर्तमान परिदृश्य में मीडिया दो भागों में विभाजित हो गई है। मीडिया का विभाजित एक वर्ग लोकतंत्र के विपरीत सरकारी तंत्र की भूमिका में बदल चुका है, जो लोकतंत्र के लिए अत्यंत घातक है।

वही मीडिया का दूसरा वर्ग अपने कर्तव्यों का निर्वाह करते हुए लोकतंत्र में जनतंत्र की आवाज निष्पक्ष, बेबाक, और स्वतंत्र रूप से उठाने का कार्य कर रहा है। क्योंकि मीडिया का काम लोकतंत्र में जनतंत्र और कार्यपालिका और विधायिका के बीच सेतु बन कर कार्यपालिका और विधायिका को आइना दिखाना है, परंतु सरकार निष्पक्ष, बेबाक, स्वतंत्र पत्रकारिता पर लगाम कसने के उद्देश्य से पत्रकारों का उत्पीड़न कर रही है, वही सरकार द्वारा नया PRB एक्ट लागू करके मोदी मीडिया की तरह स्वतंत्र मीडिया को भी गुलाम बनाना चाहती है।

सरकार द्वारा लागू किए गए नए PRB एक्ट के अनुसार सरकार ने तय किया है कि देश में केवल 50 अखबार ही रहेंगे। नये PRB एक्ट के लागू होने से अब हर समाचार पत्र को प्रकाशन के 48 घंटे के अंदर RNI दिल्ली या PIB के रीजनल ऑफिस में प्रतियां जमा करनी होगी। कृतियां जमाना कर पाने पर एक बार का न्यूनतम जुर्माना 10 हजार रुपए अधिकतम जुर्माना 2 लाख रुपए है। यह आधार आपके समाचार पत्र के रजिस्ट्रेशन के निरस्तीकरण का आधार भी मान लिया जाएगा।

भारत में 550 से अधिक जिले हैं। और PIB के 29 ऑफिस हैं। उत्तराखंड, उड़ीसा जैसे कई राज्यों में स्टाफ के नाम पर एक और अधिकतम तीन कहीं स्टाफ है। हर जिले में राज्य सरकार के सूचना कार्यालय स्थापित है, जहां रेगुलर रूप से अखबार जमा होते हैं।

लेकिन नए एक्ट ने इन कार्यानों का वजूद समाप्त कर दिया। पहले किसी भी अखबार को अपने जिले के DMया DC के समक्ष एक घोषणा पत्र दाखिल करना होता था। यह अधिकार भी अब केंद्र सरकार ने अपने पास ले लिया है। अब 550 जिले कैसे अपने अखबार की प्रतियां RNI के 29 रीजनल ऑफिस में जमा करवाएंगे।RNI ने आदेश जारी कर दिया है। दरअसल सरकार चीन की तरह नागरिकों की आजादी को छीनना चाहती है। देश के बड़े अखबारों पर तो सरकार का नियंत्रण है लेकिन पॉकेट्स को प्रभावित करने वाले हजारों छोटे, मझोले, क्षेत्रीय और भाषाई समाचार पत्रों पर सरकार का ज़ोर नहीं है। इसलिए सरकार चुनाव से पहले मध्यम, क्षेत्रीय और भाषाई मीडिया को धमका कर अपने पक्ष में करना चाहती है। नहीं तो cancellation का ऑप्शन सरकार ने तैयार कर लिया है।

अतः आपसे विनम्र निवेदन है, कि लोकतंत्र के चौथे स्तंभ मीडिया की आजादी पर अंकुश लगाने वाले PRB एक्ट को निरस्त किए जाने एवं पत्रकारों पर सरकार कराई जा रहे उत्पीड़न को रुकवाने हेतु आवश्यक कदम उठाए, भारत जैसे प्रजातांत्रिक देश में मीडिया की स्वतंत्रता लोकतंत्र के लिए महत्वपूर्ण है।

Popular posts from this blog

भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा-गादरे

मेरठ:-भारतीय संस्कृति और सभ्यता को मुस्लिमों से नहीं ऊंच-नीच करने वाले षड्यंत्रकारियों से खतरा। Raju Gadre राजुद्दीन गादरे सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता ने भारतीयों में पनप रही द्वेषपूर्ण व्यवहार आपसी सौहार्द पर अफसोस जाहिर किया और अपने वक्तव्य में कहा कि देश की जनता को गुमराह कर देश की जीडीपी खत्म कर दी गई रोजगार खत्म कर दिये  महंगाई बढ़ा दी शिक्षा से दूर कर पाखंडवाद अंधविश्वास बढ़ाया जा रहा है। षड्यंत्रकारियो की क्रोनोलोजी को समझें कि हिंदुत्व शब्द का सम्बन्ध हिन्दू धर्म या हिन्दुओं से नहीं है। लेकिन षड्यंत्रकारी बदमाशी करते हैं। जैसे ही आप हिंदुत्व की राजनीति की पोल खोलना शुरू करते हैं यह लोग हल्ला मचाने लगते हैं कि तुम्हें सारी बुराइयां हिन्दुओं में दिखाई देती हैं? तुममें दम है तो मुसलमानों के खिलाफ़ लिख कर दिखाओ ! जबकि यह शोर बिलकुल फर्ज़ी है। जो हिंदुत्व की राजनीति को समझ रहा है, दूसरों को उसके बारे में समझा रहा है, वह हिन्दुओं का विरोध बिलकुल नहीं कर रहा है ना ही वह यह कह रहा है कि हिन्दू खराब होते है और मुसलमान ईसाई सिक्ख बौद्ध अच्छे होते हैं! हिंदुत्व एक राजनैतिक शब्द है ! हिं

कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह का किया गया सम्मान

सरधना में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम के यहाँ हुआ अभिनन्दन समारोह  सरधना (मेरठ) सरधना में लश्कर गंज स्थित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेश सोम के नर्सिंग होम पर रविवार को कस्बा करनावल के नवनिर्वाचित चेयरमैन लोकेंद्र सिंह के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। लोकेन्द्र सिंह के वह पहुँचते ही फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। जिसके बाद पगड़ी व पटका  पहनाकर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर क़स्बा कर्णवाल के चेयरमैन लोकेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले चार दसक से दो परिवारों के बीच ही चैयरमेनी चली आरही थी इस बार जिस उम्मीद के साथ कस्बा करनावल के लोगों ने उन्हें नगर की जिम्मेदारी सौंपी है उस पर वह पूरी इमानदारी के साथ खरा उतरने का प्रयास करेंगे। निष्पक्ष तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ नगर का विकास करने में  कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी।   बाल रोग विशेषज्ञ डॉ महेश सोम,की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम का संचालन शिक्षक दीपक शर्मा ने किया। इस दौरान एडवोकेट बांके पवार, पश्चिम उत्तर प्रदेश संयुक्त व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, एडवोकेट मलखान सैनी, भाजपा नगर मंडल प्रभारी राजीव जैन, सभासद संजय सोनी,

ज़मीनी विवाद में पत्रकार पर 10 लाख रंगदारी का झूठे मुकदमें के विरुद्ध एस एस पी से लगाई जाचं की गुहार

हम करेंगे समाधान" के लिए बरेली से रफी मंसूरी की रिपोर्ट बरेली :- यह कोई नया मामला नहीं है पत्रकारों पर आरोप लगना एक परपंरा सी बन चुकी है कभी राजनैतिक दबाव या पत्रकारों की आपस की खटास के चलते इस तरह के फर्जी मुकदमों मे पत्रकार दागदार और भेंट चढ़ते रहें हैं।  ताजा मामला   बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान पत्रकार का है जो विभिन्न समाचार पत्रों से जुड़े हैं उन पर रंगदारी मांगने का मुक़दमा दर्ज कर दिया गया है। इस तरह के बिना जाचं करें फर्जी मुकदमों से तो साफ ज़ाहिर हो रहा है कि चौथा स्तंभ कहें जाने वाले पत्रकारों का वजूद बेबुनियाद और सिर्फ नाम का रह गया है यही वजह है भूमाफियाओं से अपनी ज़मीन बचाने के लिए एक पत्रकार व दो अन्य प्लाटों के मालिकों को दबाव में लेने के लिए फर्जी रगंदारी के मुकदमे मे फसांकर ज़मीन हड़पने का मामला बरेली के थाना बारादरी से सामने आया हैं बताते चले कि बरेली के  किला क्षेत्र के रहने वाले सलमान खान के मुताबिक उनका एक प्लाट थाना बारादरी क्षेत्र के रोहली टोला मे हैं उन्हीं के प्लाट के बराबर इमरान व नयाब खां उर्फ निम्मा का भी प्लाट हैं इसी प्लाट के बिल्कुल सामन